Showing posts sorted by relevance for query chacha chachi. Sort by date Show all posts
Showing posts sorted by relevance for query chacha chachi. Sort by date Show all posts

Tuesday, 16 June 2015

chachi ki choot ka rus piya

Pyare Dosto ek story sunane ja raha hu jise mene apne lund ki pyas ko apni chachi ko chod ke bujai mere chacha ki nai 2 shadi hui thi unki shadi kafi late hui thi mere

Chacha ki umar 32 sal he aur chachi ki 29 kam ki wajah se chacha ko aksar bhar jana padta he jis wajh se chachi ko akele ghar pe rehna padta he chachi ka jism bhut hi katilana wo thodi sawli he par nain naksh kafi mast jiski wajah se wo ek dam riya kapoor lagti he unke hotho ka rang bi sawla hai aur thode uthe hue he ek dam angelina jolie ki tarah unka fig 36 30 34 he jo ki unhone ek dam maintained kiya hua he ek din Mere chacha ka phone aya unhone muje bulaya kuki wo kisi kam se bhar ja rahe the ek month ke liye to muje chachi ke sath rehne ke bula liya me taiyar ho gya me unke ghar pahucha aur jaise hi darwaja khula to samne chachi khadi thi white colour ke chudi dar suit me mai to dekhta hi reh gaya white suit me unka sawla rang aur bi nikhar ke aa raha tha me to bs unhe upar se neche tak hawas bhari ankhon se dekh Raha tha unhone muje andar ane ko kha me undar chala gya tb chacha ji jane ke liye packing kar rahe the wo rat ko chale gaye aur hm dono ghar me akele the chachi kafi frank thi jis wajah me unke sath jaldi ghul mil gya aur hum kafi close bi aa gaye ab hum thodi non veg batain bi karne lage ek din bato 2 me unhone mujse pucha kya mene kabi sex kiya he mene ha kar di to unhone kha kisse mene kha mene 25 ya 30 Bar apni girlfriend ko choda he aur apni pados wali aunty ko bi to unhone kha ki unhe kitni bar mene kha unhe bi 15 se 20 bar to unhone kha kabi 25 se 30 wali aurat se kiya he mene kha nai kabi moka hi nai mila tb chachi agar moka milega to karega mene kha ha ku nai ye bi koi puchne wali bat he mene kha par kisse. To chachi boli mujse karna chahega mene kha ap se to chachi boli ha koi harj he mene kha ye thk nai he to Chachi boli sex me kuch bi galat nai hota 15 minutes chachi ke samjane ke bad me maan gya aur unhe chodne ko taiyar ho gya bhar se na chodne ka dikhawa kar raha tha par undar se kafi khush tha humne rat ko khana aur tv dekhne lage me tv dekhte 2 chachi ke boobs dbane lga unhe maja ane lga wo bi maja le rai thi fir me chachi ke kapde utarna chahta tha par unhone mna kar diya mene kha kya hua chachi to wo boli Muje tumare sath suhagrat manani he aur tm muje mere name se bulao mene kha thik he sapna unka name sapna he wo uth ke undar chali gai lagbhag adhe ghante bad muje awaj lagai me tv bnd karke unke bedroom me gya wo ek dam dulhan ki tarah red kapdo me khungat dal ke bed pe bethi thi ek dam nai naweli dulhan ki tarah me to ye sab dekh ke pagal sa ho gya aur bed pe beth ke unka ghungat aram se uthaya make up Karke unka rang roop aur bi nikhar gya tha mene unhe bed pe litaya aur unke lipstick lage lal hotho ko chusne lga me unhe bhuke sher ki tarah chus raha tha wo bi mera sath de rai thi hm ek dusre ki baho me lipte hue aur duniya bula kar pyar kar rahe the fir mene unke blouse aur bra ka hook khol dala aur unke chuche ajad kar dale wo kafi madak lag rahe the me badi berehmi se unhe chusne lga aur beech 2 me ek lv bite bi De deta wo ek dam chik padti auuccchhh janu esa mat karo na please me nai mana kuch der bad unke muh se bi siskariya ane lagi shhhh ahhiahhaha ahhahahh ufffufuf oh wo bde mje le rai thi ab mene unki saree petticoat aur panty bi utar di ab wo mere samne ek dam nangi leti thi unki chut dekh ke me pagal sa ho gya tha.mene unki chut pe kiss kiya wo gili thi aur ek madak khusbu bi de rai thi mere sabar ka bandh tut pda Aur me unki chut ko chatne laga wo kafi tej 2 awaje nikalne lagi aur kehne lagi ufféuhf ahahahh aur tej chato aur tej aur tej karo ohhhhh aaaa meri chut chachi boli ab sabar nai hota meri chut me apna lund dal ke fad dalo meri chut ko mene unki tango ko apne kandho pe rakha aur apna lund unki chut ke nishane pe lagaya aur ek jordar jhatka mara mera adha lund andar chala gya wo bhut tej chik padi uuuuiíiii me mar Gayi re unki chut kafi tight thi wo dar se karah rai thi me thodi der waise hi raha aur unke hotho ko chumne laga jb muje laga ki unka dard kam ho gya he mene ek aur jor dar jhatka mara aur mera pura lund unki chut me sama gya wo ro padi unhe kafi dard ho raha tha par me dhere 2 jhatke marne laga aur wo bi un jhatko ka maja lene lagi ab me unki


chut ko jam ke chodne lga aur unki chudai karne laga wo ek dam janant ka Jaisa maja lut rai thi 45 minutes ki tabad tod chudai ke bad ke me jhadne wala tha mene pucha kha jhadu to unhone kha ki meri chut me hi jhad do me bi dubara jhadne wali hu aur mene tej 2 jhatke marne suru kar kar diye aur hum ek sath chikte hue jhad gaye us din mene unhe 9 bar choda unki chut suj gai thi mene unhe iske bad pure 15 dino tak din rat choda aur unhe khub maja diya agar koi ladki aunty bhabi story2017@gmail.com

aapko story achi lagi to comments kare Aur apna mobile number chor daye mai contact karungi.

Monday, 1 April 2013

Chachi Ki Kamsin Jawani Ka Fayda Uthaya

Chachi Ki Kamsin Jawani Ka Fayda Uthaya 


Hello friend’s this is again your fuckerboy and wants 2 tell you that how I fucked my sweet chachi and made her my wife and me Delhi ka rehne wala hu muje chudai ka bhot shok he mera lund hamesa chut aur gand ka swad chakne ko betab rehta he aj me apko esi hi ek story sunane ja raha hu jise mene apne lund ki pyas ko apni chachi ko chod ke bujai mere chacha ki nai 2 shadi hui thi unki shadi kafi late hui thi mere

Chacha ki umar 32 sal he aur chachi ki 29 kam ki wajah se chacha ko aksar bhar jana padta he jis wajh se chachi ko akele ghar pe rehna padta he chachi ka jism bhut hi katilana wo thodi sawli he par nain naksh kafi mast jiski wajah se wo ek dam riya kapoor lagti he unke hotho ka rang bi sawla hai aur thode uthe hue he ek dam angelina jolie ki tarah unka fig 36 30 34 he jo ki unhone ek dam maintained kiya hua he ek din

Mere chacha ka phone aya unhone muje bulaya kuki wo kisi kam se bhar ja rahe the ek month ke liye to muje chachi ke sath rehne ke bula liya me taiyar ho gya me unke ghar pahucha aur jaise hi darwaja khula to samne chachi khadi thi white colour ke chudi dar suit me mai to dekhta hi reh gaya white suit me unka sawla rang aur bi nikhar ke aa raha tha me to bs unhe upar se neche tak hawas bhari ankhon se dekh

Raha tha unhone muje andar ane ko kha me undar chala gya tb chacha ji jane ke liye packing kar rahe the wo rat ko chale gaye aur hm dono ghar me akele the chachi kafi frank thi jis wajah me unke sath jaldi ghul mil gya aur hum kafi close bi aa gaye ab hum thodi non veg batain bi karne lage ek din bato 2 me unhone mujse pucha kya mene kabi sex kiya he mene ha kar di to unhone kha kisse mene kha mene 25 ya 30

Bar apni girlfriend ko choda he aur apni pados wali aunty ko bi to unhone kha ki unhe kitni bar mene kha unhe bi 15 se 20 bar to unhone kha kabi 25 se 30 wali aurat se kiya he mene kha nai kabi moka hi nai mila tb chachi agar moka milega to karega mene kha ha ku nai ye bi koi puchne wali bat he mene kha par kisse. To chachi boli mujse karna chahega mene kha ap se to chachi boli ha koi harj he mene kha ye thk nai he to

Chachi boli sex me kuch bi galat nai hota 15 minutes chachi ke samjane ke bad me maan gya aur unhe chodne ko taiyar ho gya bhar se na chodne ka dikhawa kar raha tha par undar se kafi khush tha humne rat ko khana aur tv dekhne lage me tv dekhte 2 chachi ke boobs dbane lga unhe maja ane lga wo bi maja le rai thi fir me chachi ke kapde utarna chahta tha par unhone mna kar diya mene kha kya hua chachi to wo boli

Muje tumare sath suhagrat manani he aur tm muje mere name se bulao mene kha thik he sapna unka name sapna he wo uth ke undar chali gai lagbhag adhe ghante bad muje awaj lagai me tv bnd karke unke bedroom me gya wo ek dam dulhan ki tarah red kapdo me khungat dal ke bed pe bethi thi ek dam nai naweli dulhan ki tarah me to ye sab dekh ke pagal sa ho gya aur bed pe beth ke unka ghungat aram se uthaya make up

Karke unka rang roop aur bi nikhar gya tha mene unhe bed pe litaya aur unke lipstick lage lal hotho ko chusne lga me unhe bhuke sher ki tarah chus raha tha wo bi mera sath de rai thi hm ek dusre ki baho me lipte hue aur duniya bula kar pyar kar rahe the fir mene unke blouse aur bra ka hook khol dala aur unke chuche ajad kar dale wo kafi madak lag rahe the me badi berehmi se unhe chusne lga aur beech 2 me ek lv bite bi

De deta wo ek dam chik padti auuccchhh janu esa mat karo na please me nai mana kuch der bad unke muh se bi siskariya ane lagi shhhh ahhiahhaha ahhahahh ufffufuf oh wo bde mje le rai thi ab mene unki saree petticoat aur panty bi utar di ab wo mere samne ek dam nangi leti thi unki chut dekh ke me pagal sa ho gya tha.mene unki chut pe kiss kiya wo gili thi aur ek madak khusbu bi de rai thi mere sabar ka bandh tut pda

Aur me unki chut ko chatne laga wo kafi tej 2 awaje nikalne lagi aur kehne lagi ufféuhf ahahahh aur tej chato aur tej aur tej karo ohhhhh aaaa meri chut chachi boli ab sabar nai hota meri chut me apna lund dal ke fad dalo meri chut ko mene unki tango ko apne kandho pe rakha aur apna lund unki chut ke nishane pe lagaya aur ek jordar jhatka mara mera adha lund andar chala gya wo bhut tej chik padi uuuuiíiii me mar

Gayi re unki chut kafi tight thi wo dar se karah rai thi me thodi der waise hi raha aur unke hotho ko chumne laga jb muje laga ki unka dard kam ho gya he mene ek aur jor dar jhatka mara aur mera pura lund unki chut me sama gya wo ro padi unhe kafi dard ho raha tha par me dhere 2 jhatke marne laga aur wo bi un jhatko ka maja lene lagi ab me unki chut ko jam ke chodne lga aur unki chudai karne laga wo ek dam janant ka

Jaisa maja lut rai thi 45 minutes ki tabad tod chudai ke bad ke me jhadne wala tha mene pucha kha jhadu to unhone kha ki meri chut me hi jhad do me bi dubara jhadne wali hu aur mene tej 2 jhatke marne suru kar kar diye aur hum ek sath chikte hue jhad gaye us din mene unhe 9 bar choda unki chut suj gai thi mene unhe iske bad pure 15 dino tak din rat choda aur unhe khub maja diya agar koi ladki aunty bhabi chachi ya jise incest.

Monday, 18 August 2014

Chachi Ki Jabardast Chudai

Ye story aaj se 1 saal pehle ki h jab me. Final yr me tha mujhe sex ka bhot knowledge tha kyoki me bhot baar meri gf ko chod chuka hu meri cousin ko chod chuka hu uske baare me agli story me bataunga.Kher now on story mere chacha ki shadi ko 14 saal ho chuke h unka ek ladka bhi h or meri chachi ke kya,kehne vo toh muje shuru se hi sex ki devi lagti h me shuru se hi unhe chodna chahta tha pr kabhi moka hi nai mila tha vo ek dam gori chiti h unke bobe itne bade h ki dono haath me bhi na aae or unki gaaand use dekh kar toh kisi ka bhi land khada ho jae or vo vahi muth maarle ye badi badi unka size lagbhag 38 42 46 ka hoga vo thodi healthy bhi h ab story pe aate h toh hua u ki mere mamaji ke vaha shadi thi toh sab log vaha busy the or mujhe baar baar ghar aana pad raha tha kuch na kuch kam se toh ek din subh subh me jab aaya toh ghar pr chachi ke alava koi ni tha or chachi naha rhi thi mujhe aisa laga ki vo shayad bager lock kare naha rhi h toh kya pata mujhe kya hua mene andar dekha tobh dekhta hi rh gaya vo puri nangi hokar naha rhi thi do min tak toh me dekhta hi raha gaya or mera haath apne aap mere lower ke andar chala gaya 


Fiir mene socha moka accha h try toh karte h jo hoga dekha jaega me bhag kar bhar gaya bahar dekha or main gate ander se lock kar dia or fir chachi ka rum fir mene apne kapde utare or land khada toh tha hi hath me pakad ke bathrum me ghus gaya mujhe aisa dekh kar vo dar gai bolne lagi tujhe sharam nai aati h kya tu kaise aa gaya me teri maa saman hu toh mene kaha swati. Darling tumse kaisi sharam or tum maa nai tum toh ek bhot sexy saman ho jise me chodne ka sapna kabse dekh raha hu or vo sapna aaj pura hoga vo nai nai karti rhi or mene jab tak use acche se pakad lia tha. Or dono haath se boobe jor jor se masal raha tha or vo. Bol rhi thi aisa mat karo chod do tumhare chacha mujhe maar dalenge koi aa jaega or bich bich me siskia bhi le rhi thi ahhh haaa auch nai nai me bhi joro se daba raha tha or bol raha tha kki koi ni aaega mene lock kar rakha h or chacha ko koun bataega tum toh bs maaja lo or do me toh aaj pure maje lunga chodunga nai or 

Fir hoth chusne lag gaya or ek haath se chut me ungli karne lag gaya fir shower on krke sabun dhoya pura fir pakad ke bedrum me le aaya unhe bed per leta kar land unke muh me pel dia or muh chodne laga unnka virad bhi kam ho gaya tha kyoki unko bhi pata h ki vo chudñe vali toh h hi toh kyo na maje llele ke chude or fir hum 69 ki position me aa gae oe me unki chut jo jor joor se chusne laga or kaat bhi rah tha. Or vo mere land ko itni acche se chus rhi thi jitni acche se aaj tak meri gf ,cousin ne bhi nai chusa me toh satve aasman pe tha or aise hi me unke muh me jhad gaya or vo mere muh me fir me unke bobe chusta raha or vo mera land sehlati rhi 

Vo fir se tower ki tarah khada ho gay or vo boli ki rishi ab mat tadpa bs chod de apni chachi ko faad de. Tere is mote lammbe. Land se meri chut ko mene bola ki nai chut nai sabse pehle toh teri gaand phategi kyoki shru se hi me teri gaand ka divana hu toh vo boli jaha bhi dalna h daal or faad de per jaldi daal bhot pyasi hu me mene unhe ghodi banaya or gaand pe thuk lagaya or mere land pe bhi or ek hi shot me topa andar kar dia unhone mujhe dakka dekar hatab dia or rone lag gai chillane lag gai ki mather,chod maa chod di meri gaand ke do tukde karega kya karva toh rhi huna acche se toh aaram se kyo nai kar rahaa h harami mujhe or josh chad gay men unhe pyar se manaya or bola sory ab aram se karunga unhone bola ki dosri baar piche se chud rhi hu pehle suhagraat vale din tere chacha ne jabardasti piche se bhi chod dia tha uske baad aaj tak nai liia h toh aaram se kar varna rehne de mene fir bola chalo pehle chut maar leta hu or 

Fir chut me land dala ararm araram se vgo siskariya bhare ja rhi thi or me mera land unki chut ki gheraiyo me utare jaa raha tha fir jo jor jor se sho lagae vo bas aaahaahahaahahahhhhhhahhaahhhhhahhhh. Uuuuuhhhhhhhhhhhhhhhhtejjjjjjjjjjj tejjjjjjjj orrrrrrr jjjjjooooooorrrrrrrrrssssseeeeeee peelllllllllllllllll fffffaaaaaaddddddd ddeeeeeeeeeeeeee mmmmmmmmmmeeeeeerrrrriiiiiiiiiiiiiccccchhhhhhuuuuuuutttttt aaaaahahhhhhuuuuuuhhhhhhhhhiiiiii. 10 min me vo 4 baar jhad chuki thi mera bhi aane vala tha toh mene pucha kaha jadu toh vo boli ki andar hi chod garam garam maal. Fir me jhad gaya 10 min aarama ke baaad unki gaand maaeri pehle sarso ke tel se khub malish kari fir toh bs jo choda h unki gaand se khun nikal dia tha us tthode se tym me mene unhe 4 baar choda or aaj tak chodta aa raha hu. Bs abhii bhi sabse jyada unki gaand hi marta hu pr ab naya taste lene ka mud h so aapko ye kahani kaisi lagi jarur bataiega i m waiting for ur response or ha koi bhi bhabhi ya ladki jo sex ki pyasi ho jst contact me on my email id or ye sab baatein totally confidential rahegi top seceret ok ...Byeeee...Love u alllllll......

Friday, 3 January 2014

Khala kO Choda

Mera Naam sagir hai. Jo kahani me aap ko sunanu ja raha hu wo 2009 ki hai jabme Los Angeles se Pakistan aya hua tha. Mere tamam rishtedaar Pakistan ke sheher sukkur me rehte he. June ka mahina tha. Main apni Nanai ke ghar ruka hua tha. Meri ek Khala (Ammi ki behen) thi jin ka naam Sana tha. Wo mujh se umar me sirf 2 saal hi bari thi. Wo bohot hi sexy thi. us ke boobs bohot hi bare the or figure kafi mast tha. Jab me ne unhe dekhta to mera lund khara ho jata. Unhe dekh kar mujhe aisi masti charhti , jee karta sana khala ko chod dalu. Ek din me ne plan banaya k aaj to sana khal ko chod kr hi rahu ga. Mere ek hi chacha the. wo apni biwi ke saath akele raha karte the. un ki koi aulad na thi. Chacha ki job aisi thi ke wo mahine me sirf 2 din hi ghar aate the. Me jab bhi sukkur aata to chacha ke ghar ek hafte ke liye zaroor jata tha. Ek din me Sana Khala ke saath chacha ke ghar gaya. Us din chacha ghar par nahi the. Chacha ke ghar me 3 kamre the. Me or Sana khala raat ko chacha ke ghar hi ruke. Hum dono guest room me tehre the jabke chachi apne kamre me thi. Raat ke bara baj rahe the. Sana khala bister par leti Magazine parh rahi thi. Me un ke barabar me hi leta hua tha. Me ne sone ka drama kia or apna haath un ke boobs par rakh dia. Sana khala ko bilkul pata na chala ke me drama kar raha hu. Unho ne mera haath hata dia. Me ne phir apna haath sana ke boobs par rakh dia. Is bar sana ne kuch na kia or leti rahi. Phir thori der baad wo uthi. Me abhi bhi sone ka drama kar raha tha. Sana khala ne uth kar guest room ka darwaza ander se band kia or mere paas aagai. Wo samjhi ke me so raha hu. Unho ne mujhe uthai bagher meri pant utarna shuru ki. Me ne tab kuch na kaha. Me samajh gaya tha e sana ka bhi sex ka mood he. Jab unho ne meri pant utari to me ne apni aankhe kholi or bola ” Ye aap kia kar rahi e?”. wo boli me dekh rahi hu ke America walo ka lund kesa hota hai. Phir mujhe bhi maza a gaya. Me utha or un ke saath kising karne laga. Phir sana ne mere lund ke upar thook phenka or use my me le kar choosne lagi. Kamazkam dus minute tak mera lund choosne ke baad wo khari hui. Me ne bhi khare ho kar un ki kameez utari. Kameez ke andar unho ne skin colour ka Bra pehna hua tha. Me ne Bra khola. Ander se lush qisam ke babbe (booobs) bahar aye. pakstory.com phir me un ke boobs ke nipples choosne laga. Phir me un ke upar charha or un ki chut ke ander apna lamba lora dala or zor se hilane laga. Ye kaam me ne 20 minute tak kia. Phir mujhe mehsoos hua ke mera lora tan chuka he or kisi bhi waqt many nikal sakti he. Me ne Sana ko bataya to wo boli apna lora mere mu me rakho or mani nakal do. Me sari mani pee lu gi. Me ne Aisa hi kia. Sana ne meri saari many shoq se peeli. hum ne raat 3 baje tak chudaai ki or phir hum so gai. Ab hume jab bhi moqa milta he hum chudai karte hain…

aapko story achi lagi to comments kare

Thursday, 9 November 2017

Pyari Chachi

Hello all auntis and girls my name is vikas and im from mumbai 25 yr old 5'10? height and with 8? dick size. This is my 1st story so please give me a reply here jab mai 22 sal ka that tab mai vacation mai pune gaya that vah pay meray chacha aur chachi rehetay hai. Chachi ka nam suman hai unki age 32 sal ki hao aur unka figure 38 30 35 hai.unkey boobs bahut mujhey achey lagtey they aur mai unko kapdey dhotey
vakt aur koi kam kartey vakt dekhta reheta tha.aur mera land khada ho jata tab mai khet mai jakar nanga hokar muth marta tha.mai unko chodney ka moka dhund raha tha aur ek din moka aa gaya.hum rat ko sab hall mai sote they aur merey chacha akelay bahar aangan mai sotey thai.us rat ko mai so raha that merey baju mai merey chcha ka ladka so raha tha uski age 8 sal ki thi.aur uskey baju mai meri chachi soti thi.us rat 12 baje meri neend khuli aur mai uth kar baith gaya to mainey dekha ki chachi ki sari jhango tak aa gayi hai aur uske jhang mujhey dikh rahi thi mera 8? ka land khada ho gaya aur merey andar ab shotan ghus gaya tha mai uthkar unki baju mai jakar so gaya unki gand meri taraf thi mainey hulkey sai unku sari upar kar di to mainey dekha unhoney panty nahi peheni thi.phir dhire say mainey unki jhang par hath ghumaney laga merey hath dar
ke marey kap rehey thai. Mera poora badan kap raha tha phir mainey dhirey say unki gand ki ched par ungli ghumayi to vo thoda heel gayi mai dar gaya. Lekin phir vo so gayi to mainey phir apna barmuda nikala aur mera land bahar aa gaya vo pura chodney ko tyar tha.phir mai thoda aagey gaya aur unki gand par mera land ghumaney laga.merey purey badan mai aag jaisi lag gayi phir mainey dhirey say unki

chut par hath rakha vo puri gili ho gayi thi mai samajh gaya ki ab chut marney ko tyar hai to mainey mera land pakad kar unki chut ke upar rakha aur ek jhatka diya aur mera land unki chut mai jakar phasa aur chachi bhi thoda heel gayi phir mainey meri ek tang unkey upar rakh di aur ek dhaka diya ab mera aadha land unki chut mai gaya. Aur phir mai dhire dhire aagey phiche karte hua unko chodne laga phir achank unhoney mujhey pakd liya aur apne upar khich liya aur mujhey pagalo ki tarah chumney lagi mai bhi ab josh mai aa gaya aur unkey boobs ko
dabaney laga aur vo merey land ko apne hath say unki chut mai dalne lagi phir mainey unke boobs ko nanga karke choosney laga mai ab pagal ho gaya tha. Phir mai unko upar chadke chodney laga vo ummmmmaaa..aaaa jaisi aawaj karne lagi mai bhi ab unki chut ko jam kar chodh raha tha aur vo bhi niche say gand utha kar kar support de rahi thi aur jab mai fast speed mai chodney laga to vo aur aawaje karne lagi aaaaaaaaaahhhhhhhhhha.. Aaaaaaaaa aur phir 20 minute ke bad mainey apna pani unki chut mai chod diya aur unkey upar hi thodi der so gaya.lekin unhone ek shabd bhi mu say nahi nikala aur mainey bhi nahi nikala aur mai phir unki baju mai jakar so gayaphir us rat mainey unko 3 bar choda . Is tarah mainey apna pur vacation enjoy kiya.kaisi lagi meri story plz reply me . if any female from mumbai wanna do secret sex with my 8? land mail privacy 100%



loading...

loading...

loading...

loading...

Saturday, 17 March 2018

चाची को चाचा के सामने चोदा-1


Chachi Ko Choda Chacha Ke Samne- Part 1

दोस्तो, मेरा नाम रुद्र ठाकुर है, और मैं भोपाल में रहता हूँ। मैं अपने आप को बहुत बड़ा इनसेस्ट आदमी समझता हूँ। इनसेस्ट वो इंसान होता है जो अपने ही घर की औरतों के साथ सेक्स करता है। मैंने भी अपने ही घर की बहुत सी औरतों से सेक्स किया है, मगर मैं शुरू से ऐसा नहीं था, पहले तो मैं बहुत ही शर्मिला सा लड़का था, मगर जो किस्मत में लिखा होता है, वो तो होता ही है, और ऐसे ही एक बार एक ऐसी घटना घटी जिसने मेरे जीवन की दिशा ही बदल दी। मगर ये सब कैसे हुआ, कब हुआ, आज मैं आपको उसकी ही बात बताने जा रहा हूँ।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।
मैं अपने परिवार के साथ में भोपाल में रहता हूँ, घर माँ पिताजी, बड़ी बहन और मैं हम चार ही लोग है। कुछ ही दूरी पर हमारा चाचा जी का घर है, चाचा फौज में हैं। घर में चाची और उनके बच्चे ही रहते हैं। उनका घर पास होने की वजह से हमारा हर वक़्त का उनके घर आना जाना है। हमें कभी यह पता नहीं चला कि हमारे और चाचा के घर में क्या फर्क है, बस यही लगता था कि हमारे दो घर हैं।
जब तक मैं छोटा था, बच्चा था, मैंने न तो कभी इन बातों पे ध्यान दिया, और न कभी मुझे ऐसा कुछ नज़र आया, क्योंकि चाची को भी मैं अपनी माँ ही समझता था, बस कहता चाची था।
मगर ज्यों ज्यों मैं बड़ा होता गया, मुझे कुछ कुछ समझ आने लगा कि मेरी चाची जो है वो कोई ठीक औरत नहीं है, तब मैं 12वीं क्लास में था, जब मुझे पहली बार यह पता चला।

loading...
माँ पिताजी को बता रही थी कि अंजलि का बाहर कहीं चक्कर चल रहा था। अंजलि मेरी चाची का नाम है। मुझे बड़ा अजीब लगा कि यार चाचा इतने हैंडसम आदमी है, इतनी अच्छी सेहत है, शक्ल से ही हट्टे कट्टे मर्द लगते हैं तो चाची को बाहर किसी और की तरफ देखने की क्या ज़रूरत है। मुझे ये बात तब समझ नहीं आई थी।
मगर ये जो नाजायज रिश्ते होते हैं न, कभी छुपते नहीं हैं।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।
एक बार चाची छुट्टी पर घर आए हुये थे, एक मिलिट्री ऑपरेशन में उनकी टांग ज़ख्मी हो गई थी, तो इलाज के बाद उनको आराम करने के लिए 2 महीने की छुट्टी पर भेज दिया गया। इसी दौरान एक दिन चाची के चक्कर का चाचा को भी पता चल गया, दोनों में बहुत झगड़ा हुआ, चाचा उठ नहीं सकते थे, वरना उस दिन चाची की खूब पिटाई हो जाती।
मैं कुदरती उस वक़्त उनके घर गया, तो अंदर से शोर सुन कर मैं बाहर ही रुक गया। अंदर चाचा के चीखने की और चाची के रोने की आवाज़ आ रही थी।
मैं रुक गया और सुनने लगा कि आखिर झगड़ा किस बात पर हो रहा है।
चाचा बोले- तो अब तुम्हें इतनी आग लग रही है कि अगर मैं घर में नहीं हूँ, तो तू किसी और के नीचे लेट जाएगी, मादरचोद, मेरे से पेट नहीं भरता तेरा?
चाची भी रोते रोते बोली- आप चार दिन के लिए आते हो, और फिर सारा साल मुझे अकेली को मरना पड़ता है, आप क्या जानो, अकेले रहने की तकलीफ क्या होती है।
चाचा गरजे- क्यों, मैं वहाँ अकेला नहीं रहता क्या?
चाची फिर बोली- आपके साथ तो बहुत से आपके साथी होंगे, मेरे पास कौन है जिस से मैं अपने दिल की बात करूँ, मेरा भी दिल है, मेरे भी अरमान हैं।
चाचा फिर बोले- तो इसका मतलब ये कि अगर पति घर में नहीं है तो किसी और से यारी कर लो, किस और से अपनी माँ चुदवा लो। हैं? हरामजादी, कितने समय से उसका लंड खा रही है, कुतिया, बता मुझे।

loading...
मैंने देखा चाची भी पूरी बेशर्मी पर उतरी हुई थी, बोली- एक साल हो गया।
चाचा कुछ चुप से हो गए, बोले- शादी करेगा तुझसे?
चाची बोली- नहीं, वो शादीशुदा है, बाल बच्चेदार है।
चाचा फिर भड़के- तो हवस का नंगा नाच खेलने के लिए वो तुम्हारा इस्तेमाल कर रहा है, समझ में नहीं आता, क्या करूँ, दिल तो कर रहा है कि तुम्हें गोली मार दूँ।
चाची डर गई और जा कर चाचा के पाँव में पड़ गई- नहीं, मुझे माफ कर दो, मैं बहक गई थी, अपनी मजबूरी के हाथों विवश हो कर मैंने ऐसा काम किया.
और चाची रोने लगी।
चाची अब चाचा के पास थी तो चाचा ने उसके बाल पकड़ लिए और उसके मुँह पर तड़ातड़ कई चांटे मारे और बालों से पकड़ कर उसकी चोटी खींच दी, मुझे भी बाहर से ये सब देखते हुये डर सा लगा कहीं चाचा चाची को मार ही न दें, तो मैं भी आगे को बढ़ कर उनके सामने हो गया।
चाचा ने मुझे देखा और रोआब से पूछा- तू यहाँ कब आया?
मैंने चाचा से डरते डरते कहा- जी थोड़ी देर हुई।
तो चाचा ने चाची से कहा- ले देख ले, अब तेरी काली करतूत का बच्चों को भी पता चल गया, छिनाल, अब बोल क्या कहती है?
और चाचा की जो टांग ठीक थी, वही उन्होंने चाची को दे मारी और चाची दर्द से बिलबिला उठी, मैंने जा कर चाची को संभाला। चाची को शायद मैं ही उनके दर्द का सहारा मिला तो वो मुझसे ही लिपट कर रोने लगी। बेशक चाची मुझसे लिपटी थी, मगर उनके नर्म और बड़े बड़े मम्में जो मेरे कंधे से सटे थे मुझे बड़ा आनन्द दे रहे थे। बेशक वो मेरी चाची थी, और मैंने कभी उन्हें पहले गंदी नज़र से न कभी देखा, न छुआ था, मगर आज तो वो मुझसे लिपटी पड़ी थी।
मैं भी 18 साल का जवान हो गया था और अब मेरी सेक्स के प्रति चाहत बढ़ रही थी। मगर चाची का मुझसे यूं लिपट कर रोना तो मुझे इतना अच्छा लगा कि उसने तो मेरी चाची के प्रति सारी सोच ही बदल दी।
चाचा ने गुस्से से कहा- जानता है रुद्र, ये तेरी चाची, किसी और से अपनी माँ चुदवा रही है।
चाची भी एकदम से पलटी- चुप रहो, बच्चों को इन सब बातों में मत लाओ।
चाचा चीखे- क्यों न लाऊं, अब बच्चे बड़े हो गए हैं, उन्हें भी तो सब पता चले कि उनके घर वाले क्या कर रहे हैं। कुत्ती, छिनाल, अपने यार से भी ऐसे ही लिपटी होगी।
चाची ने एकदम से मुझे छोड़ा, और चाचा पर गरजी- हाँ लिपटी हूँ, और इससे भी ज़्यादा लिपटी हूँ, और आगे भी लिपटूँगी, कर ले जो तुझसे होता है, जा मर जा कहीं जा कर, अब मैंने भी सोच लिया, जो करना है, खुल कर करूंगी, तेरे सामने करूंगी, तेरे से जो उखाड़ होता है, उखाड़ ले।
चाची का ये रूप देख कर मैं और चाचा दोनों सहम गए।
अब चाचा को भी समझ में नहीं आ रहा था कि वो क्या करें, मेरी तो क्या समझ में आना था। फिर चाचा जो पहले गरज रहे थे, थोड़ा धीमे स्वर में बोले- सुन अंजलि, ऐसा नहीं हो सकता कि तू घर के बाहर मेरी इज्ज़त को मिट्टी में मत मिला।
उनका नर्म सा स्वर सुन कर चाची भी नर्म पड़ गई और जाकर उनका घुटना पकड़ कर बैठ गई- मैं आपसे बहुत प्यार करती हूँ, आपको कभी धोखा नहीं देना चाहती थी, पता नहीं क्यों मेरे भाग फूटे कि मैं उसकी चिकनी चुपड़ी बातों में आ गई।
चाची रोने लगी तो चाचा उसका सर सहलाने लगे, फिर बोले- तू ऐसा कुछ क्यों नहीं करती के जिस से घर से बाहर न जाना पड़े तुम्हें।
चाची बोली- ऐसा क्या है, जिस से मैं घर से बाहर न जाऊँ?
चाचा बोले तो कुछ नहीं पर उन्होंने मेरी तरफ देखा, उनके देखने का अर्थ तो मैं नहीं समझा, मगर मेरे दिमाग में जैसे एक खतरे की घंटी बजी हो।

loading...
चाची ने पहले चाचा की ओर देखा और फिर मेरी ओर, फिर बड़ी हैरानी से बोली- रुद्र?!? आप पागल तो नहीं हो गए हो?
चाचा बोले- नहीं, मैं पागल नहीं हूँ, अब अपना रुद्र भी जवान हो गया है, ये तुम्हारा अच्छे से ख्याल रखेगा।
फिर मुझसे बोले- क्यों रुद्र, अपनी चाची का ख्याल रखेगा न?
मैं क्या कहता बस हल्के से सर हिला दिया।
चाचा बोले- चल जा घर जा, कल मैं जब बुलाऊँ तब आना।
मैं चुपचाप अपने घर आ गया.
उस दिन मैंने पहली बार चाची को सोच कर अपना लंड हिलाया, मैं बार उस नर्म एहसास को महसूस कर रहा था, जब चाची का मोटा मम्मा मेरे कंधे को छू रहा था। मैं सोच रहा था कि अगर मुझे चाची की चुत चुदाई करनी पड़ी तो मैं कैसे चोदूँगा, बाथरूम में खड़ा मैं कई तरह से अपनी कमर हिला हिला कर प्रेक्टिस करता रहा।
अभी तक मैंने चूत चोदनी तो क्या, देखी तक नहीं थी कि होती कैसी है।
अगले दिन दोपहर बाद चाचा का फोन आया कि रुद्र इधर आ।
मैं अपने बाल मन में सैकड़ों अरमान लिए चाचा के घर जा पहुंचा। चाचा ने मुझे अपने पास बैठाया, इतने में चाची चाय लेकर आ गई, उसने बहुत सुंदर साड़ी पहनी थी, पूरा मेक अप किया था। खूबसूरत लग रही थी। गहरे हरे रंग की साड़ी, सफ़ेद ब्लाउज़, ब्रा में कसे हुए उसके मम्मे, और थोड़ा सा बाहर झाँकता उसका क्लीवेज, जिसमें उसके गले की चेन का पेंडेंट फंसा हुआ था।
चाय पीते पीते चाचा बोले- रुद्र, कल जो हमारा झगड़ा हुआ, वो तुमने सुना, तुम्हें पता लग ही गया होगा के तुम्हारी चाची का किसी और मर्द से चक्कर है। मगर मैं चाहता हूँ कि हमारे घर की कोई भी औरत बाहर ना जाए, अगर उसको ज़रूरत है, तो अपने घर में ही ढूँढे, बाहर किसी का क्या पता, कौन है कौन नहीं, अपने का ये है कि घर की बात घर में ही रह जाएगी, काम भी बन जाएगा, और किसी को पता भी नहीं चलेगा, और बदनामी भी नहीं होगी।
मैंने चुपचाप चाचा की बातें सुनता रहा।
वो आगे बोले- कल तुम्हारे जाने के बाद हमने इस विषय पर बहुत सोचा, और फिर ये तय किया कि इस काम के लिए तुम सबसे सही बंदे हो। बोलो, अपनी चाची को संतुष्ट कर पाओगे?
अब मेरे पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं थी, तो मैं हकलाते हुये चाचा से कहा- चाचाजी मैं… मैं… चाची से कैसे…?
वो बोले- कल मैंने देखा था, जब वो तुमसे लिपटी हूई थी तो तब तो बड़े मज़े से उसके साथ तू भी चिपका पड़ा था, भोंसड़ी के अब मेरे सामने ड्रामें करता है।

loading...
मैंने समझ लिया के चाचा ने मेरी चोरी पकड़ ली थी, अब किसी भी ड्रामे की कोई गुंजाइश नहीं थी, मगर शर्म अभी भी बाकी थी।
चाचा बोले- अंजलि से मैंने बात कर ली है, और वो तुमसे संबंध बनाने को मान गई है, अब तुम्हारी भी मंजूरी चाहिए, बोलो, करोगे अपनी चाची के साथ?
मैंने सोचा, अब अगर चुप रहा तो कहीं ये मौका मेरे हाथ से न चला जाए, सो मैंने हल्के से सर हिला कर हाँ कर दी।
मगर मुझे शरमाता देख चाची ने मेरे सर को सहला दिया और बोली- ये तो बहुत शरमाता है।
चाचा बोले- रुद्र सुन, पहले कभी किया है?
मैंने ना में सर हिलाया।
तो चाचा बोले- अबे चूतिये, अब तक क्या हाथ से हिला हिला कर ही जी रहा है।
चाची ने चाचा को मीठी झिड़की थी- चलिये न आप भी, एक तो वो पहले से नर्वस है, दूसरा आप उसे और डरा रहे हो।
फिर चाची मुझसे बोली- देखो रुद्र, एक न एक दिन तुमको ये सब करना ही है, इस लिए डरो मत, शर्माओ मत, मैं और तुम्हारे चाचा है, हम तुम सब सिखाएँगे, ठीक है.
मैंने हाँ में सर हिला दिया मगर अंदर से मेरी फटी पड़ी थी कि पता नहीं कुछ हो भी पाएगा मुझसे या नहीं।
फिर चाचा बोले- तो चलो फिर शुरू करो, मैं भी देखूंगा.
मैं तो वैसे ही बैठा रहा, मुझे तो समझ ही नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।
पर चाची उठ कर आई, और मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बिस्तर पर ले गई, चाचा भी सामने ही सोफ़े पर अधलेटे से बैठे थे, एक टांग पर प्लास्टर और वो टांग उन्होंने सामने मेज़ पर रख रखी थी। मैं और चाची बेड पर थे, हम दोनों ने अपनी टाँगें नीचे लटका रखी थी।
चाची ने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी जांघ पर रख लिया, साड़ी के अंदर से भी मुझे उनकी गुदाज़ जांघ का एहसास हुआ, मेरे चेहरे पर अपना हाथ फिरा कर बोली- इतना डर क्यों रहे हो?
बड़ी मुश्किल से मैं बोल पाया- नहीं चाची।
वो बोली- अब मैं तुम्हारी चाची नहीं हूँ, मुझे मेरे नाम से पुकारो, अंजलि कहो।
मैंने थोड़ा सा हिचकिचाते हुये कहा- अंजलि।
सच में बड़ा अच्छा लगा मन को।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।
उधर से चाचा बोले- अंजलि, ऐसे ये नहीं खुलेगा इसे कुछ दिखा कर गरम करो।
चाची उठ खड़ी हुई और बिल्कुल मेरे सामने उन्होंने अपने कंधे से अपनी साड़ी का आँचल उतारा और नीचे फर्श पर गिरा दिया।
आज पहली बार चाची को ब्लाउज़ में देखा था, सफ़ेद ब्लाउज़ में उनके उठे हुये चूचे बहुत मस्त लग रहे थे।
देखते देखते चाची ने अपनी साड़ी खोल दी, सिर्फ एक सफ़ेद ब्लाउज़ और हरे रंग के पेटीकोट में वो मेरे सामने खड़ी थी। पेटीकोट का नाड़ा अपने पेट पर सामने बांध रखा था।
चाची ब्लाउज़ पेटीकोट में चल कर मेरे पास आई, उनके मम्में बिल्कुल मेरे चेहरे के सामने थे, दो बड़े ही उन्नत, भरपूर, मोटे, गोरे और नर्म मम्मे, जो मेरे मन में हलचल मचा रहे थे।
मैं मन ही मन सोच रहा था, क्या आज मुझे इन मम्मों से खेलने का मौका मिलेगा।
चाची ने मेरा चेहरा ऊपर उठाया और अपने सीने से लगा लिया। चाची के दोनों मम्में अब मेरी गाल और मेरे चेहरे पर दबा कर लगे हुये थे, मुझे तो जन्नत का नज़ारा आ रहा था। मैंने भी चाची की कमर पर अपनी बाहें कस दी।
चाची ने मेरा मुँह सीधा किया तो मैंने ब्लाउज़ के ऊपर से ही चाची के मम्मे पर किस किया, चाची मुस्कुरा उठी और बोली- पिएगा लल्ला?
मैंने भी हां में सर हिलाया।
चाची थोड़ा सा पीछे को हटी और अपने ब्लाउज़ के हुक खोलने लगी, अपने ब्लाउज़ के हुक खोल कर उसने अपना ब्लाउज़ सारा ही उतार दिया।
वाह… क्या मस्त लग रही थी चाची सफ़ेद ब्रा और पेटीकोट में… मेरी तो आँखें चौंधिया गई, उसकी सेक्सी फिगर देख कर।
चाची ने अपनी भवें उचका कर पूछा- कैसा लगा?
मैंने भी बड़ी सारी स्माइल दे कर कहा- मस्त, चाची आप तो कोई अप्सरा हो।
उधर से चाचाजी बोले- और आज से ये तेरे ही दरबार में नाचेगी, अगर तूने इसकी तसल्ली करवा दी तो।
मैं चुपचाप बैठा आगे होने वाली घटना का इंतज़ार कर रहा था। इतना तो तय था कि कि चाची की चुत मेरे लिए चाचा का उपहार थी.
writermastram@gmail.com
कहानी का अगला भाग : चाची को चाचा के सामने चोदा-2



======================================================================= माँ की ममता | Maa Ki Mamta ka fayeda uthaya || Hindi Desi Sex Story || Gandi kahaniya by Mastram Sex Story, Sexy Story, XXX Story, Hindi Sex Kahani, Sex Kahani, Chudai Kahani, Chudai Story, Bhabhi Sex Story, Indian Sex Story, Desi Kahani, Adult Sex Story, Hindi Sex, Chudai Kahaniya ,Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex,Mastram, antarvasna,Aunty Ki Chudai, Behen Ki Chudai, Bhabhi Ki Chudai, Chut Ki Chudai, Didi Ki Chudai, Hindi Kahani, Hindi Sexy Kahaniya, indian sex stories, Meri Chudai,meri chudai, Risto me chudai, Sex Jodi, आंटी की जमकर चुदाई, इंडियन सेक्सी बीवी, चुदाई की कहानियाँ,देसी, भाई बहन choot , antarvasna , kamukta , Mastram, bare breasts,cheating wife,cheating wives,cum in my mouth,erect nipples,hard nipples,horny wife,hot blowjob,hot wife,jacking off,loud orgasm,sexual frustration,shaved pussy,slut wife,wet pussy,wife giving head,wives caught cheating,anal fucking,anal sex,anal virgin,bad girl,blowjob,cum facial,cum swallowing,cunt,daddy daughter incest story,first time anal,forced sex,fuck,jerk off,jizz,little tits,lolita,orgasm,over the knee punishment,preteen nude,puffy nipples,spanking,sucking cock,teen pussy,teen slut,tight ass,tight pussy,young girls,young pussy,first time lesbian,her first lesbian sex,horny girls,horny lesbians,hot lesbians,hot phone sex,lesbian girls,lesbian orgasm,lesbian orgy,lesbian porn,lesbian sex,lesbian sex stories,lesbian strap on,lesbian threesome,lesbians,lesbians having sex,lesbians making out,naked lesbians,sexy lesbians,teen lesbian,teen lesbians,teen phone fucks,teen sex,threesome,young lesbians,butt,clit,daddy’s little girl,nipples,preteen pussy,schoolgirl,submissive teen,naughty babysitter,older man-younger girl,teen babysitter, ahindisexstories.com has some of the best free indian sex stories online for you. We have something for everyone right from desi stories to hot bhabhi and aunty stories and sexy chats. All Indian Sex Stories - Free Indian Stories Across Categories Such As Desi, Incest, Aunty, Hindi, Sex Chats And Group Sex, Read online new and hot सेक्स कहानियाँ on Nonveg Story : Sex Story, Sexy Story, XXX Story, Hindi Sex Kahani, Sex Kahani, Chudai Kahani, Chudai Story, Bhabhi Sex Story, Indian Sex Story, Desi Kahani, Adult Sex Story, Hindi Sex, Chudai KahaniyaSex Story, Sexy Story, XXX Story, Hindi Sex Kahani, Sex Kahani, Chudai Kahani, Chudai Story, Bhabhi Sex Story, Indian Sex Story, Desi Kahani, Adult Sex Story, Hindi Sex, Chudai Kahaniya ========================================================================

चाची को चाचा के सामने चोदा-2

Chachi Ko Choda Chacha Ke Samne- Part 2

मेरी नोन वेज स्टोरी के पिछले भाग
चाची को चाचा के सामने चोदा-1
में आपने पढ़ा कि कैसे चाची की बदचलनी के बारे में जान कर चाचा ने चाची को डांटा और फिर मुझे मेरी चाची की कामुकता का इलाज करने को यानि चाची की चुदाई करने को कहा.
अब आगे:

फिर चाची ने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोला और पेटीकोट नीचे गिर गया, नीचे चाची ने हल्के गुलाबी से रंग की चड्डी पहनी थी। मगर चड्डी से बाहर चाची की लंबी गुदाज़, मांसल जांघें, तो बस जैसे कहर ही बरपा कर रही थी। मुझे नहीं पता था कि चाची की टाँगे इतनी सेक्सी भी हो सकती हैं।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

तब चाची मेरे पास आई और मेरे कमीज़ के बटन खोलने लगी, मेरी कमीज़ उतारी, फिर बनियान, उसके बाद मेरे जूते उतारने के लिए नीचे बैठी। ब्रा में कैद चाची के मोटे मम्में और गांड की चौड़ाई देख कर मेरा तो जैसे लंड मेरी पैन्ट के अंदर ही हिलने लगा।
बूट जुराब उतार कर चाची खड़ी हुई और फिर मेरी बेल्ट और पैन्ट खोल दी। मैं भी बड़े आराम से चाची के हाथों से नंगा हो रहा था।

चड्डी में मेरा तना हुआ लंड देख कर चाची मुस्कुरा उठी और उस पर अपने हाथ की नर्म उँगलियाँ फिरा कर बोली- अरे ये तो तैयार हो गया, तो शुरू करें?
चाची ने मुझे बेड पे लेटा दिया और खुद भी मेरे साथ ही लेट गई। बगल के बल लेटे होने के कारण उसका बहुत बड़ा सारा क्लीवेज, उसकी ब्रा से बन कर बाहर आ रहा था। मैं उस क्लीवेज को ही घूर रहा था।
चाची ने मेरा एक हाथ पकड़ा और अपने सीने पर रख लिया और धीरे से बोली- अब दबाओ।

अब तो मुझे खुली छूट मिल गई थी, मैंने न सिर्फ चाची का मम्मा दबाया, बल्कि उसके बड़े सारे क्लीवेज पर चूम भी लिया। चाची खुश हो गई और उसने अपने मम्में मेरे चेहरे से सटा दिये और चड्डी के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ कर सहलाने लगी।
अब तो मुझे भी मस्ती चढ़ने लगी, मैंने अपना हाथ अंजलि चाची की कमर पर रखा और उसकी कमर को सहलाया, फिर ऊपर की तरफ आते हुये, उसके क्लीवेज को छू कर देखा। दोनों मम्मों की बीच में बन रही बड़ी सी वक्ष रेखा यानि क्लीवेज में अपनी उंगलियाँ घुसा कर देखी।

चाची ने अपनी ब्रा की हुक खोल दी। मैंने चाची के कंधे से उसके ब्रा का स्ट्रैप निकाला और चाची का ब्रा उतारने लगा। सबसे पहले चाची का एक मम्मा बाहर आया, बेहद गोरा, गोल, भूरे रंग का निप्पल। मैंने उसका निप्पल पकड़ा और मसला, चाची ने हल्की सी सिसकी भरी।

loading...

अब ये न जाने क्या चक्कर है कि जब भी कोई मर्द एक शानदार मम्मा देखता है, उसकी पहली इच्छा उसे पकड़ कर दबाने की और दूसरी इच्छा उसको चूसने की होती है। मैंने भी वही किया, पहले उसके बड़े सारे मम्मे को अपने हाथ से पकड़ कर दबाया, और फिर उसका मम्मा अपनी तरफ खींचा तो चाची भी खुद को आगे हुई, शायद वो जान गई थी कि मैं उसका मम्मा चूसना चाहता हूँ। उसने खुद आगे हो कर अपना निप्पल मेरे मुँह में दे दिया।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।
मैंने अपने होंटों में उसका निप्पल पकड़ा और चूसा।

मजा आ गया यार… कितना टेस्टी होता है औरत का मम्मा!
मैंने बहुत चूसा, खूब दबाया।

चाची अब सीधी हो कर लेट गई और उसने अपनी ब्रा उतार कर रख ड़ी और दोनों मम्में निकाल कर मेरे हवाले कर दिये। कभी मैं ये मम्मा चूसता और दूसरा दबाता, और कभी वो मम्मा चूसता और ये दबाता।
मैं चाची के मम्मों से खेल रहा था और चाची मेरे लंड से, जो उसके नर्म हाथों की छूने से पत्थर की तरह सख्त हो गया था।

अब मेरे दिल में विचार आया, अगर चाची मेरे लंड को छू सकती है, तो मैं इसकी चूत को क्यों नहीं छू सकता… मैंने भी पैन्टी के ऊपर से ही चाची की चूत को छू कर देखा, तो चाची बोली- अरे ऊपर से क्या हाथ लगाता है, अंदर हाथ डाल!
मैंने चाची के पैन्टी के अंदर हाथ डाला, अंदर पहले चाची की चूत के आस आस के झांट जो शायद चाची ने दो चार दिन पहले शेव किए होंगे, वो हल्के से चुभे, और उसके बाद मेरी उंगलियों को जैसे कोई मांस का उभरा हुआ टुकड़ा सा लगा। ये चाची की भगनासा थी।
मैंने उसको भी अपनी उँगलियों में पकड़ कर मसला, तो चाची ने बड़े ज़ोर से सिसकी भरी- आह सी… क्या करता है ज़ालिम, अभी से तड़पाने लगा है।

मैंने फिर से उसकी भागनासा को मसला तो चाची ने अपनी चड्डी भी उतार दी और अपनी टाँगें हिला हिला कर चड्डी बिल्कुल ही उतार कर फेंक दी। मेरे दिल में चाची की चूत देखने की इच्छा हुई, और मैं उठ कर बैठ गया, बिल्कुल छोटे छोटे बालों वाली झांट के बीच लंबी सी गहरी लकीर और उसी लकीर में से थोड़ा सा काला सा मांस बाहर को निकला हुआ।
मुझे देख कर चाची ने अपनी टाँगें मेरी तरफ घुमा दी और पूरी खोल दी तो चाची की चूत भी खुल गई।
ऊपर से थोड़ी काली सी थी मगर अंदर से बिल्कुल गुलाबी!

loading...

चाची ने अपने हाथ की उंगलियों से अपनी चूत के होंठ और खोल दिये और अंदर से पूरी गुलाबी चूत को खोल कर दिखाया।

मैं अभी चाची की गुलाबी चूत देख ही रहा था कि चाची ने अपने पाँव की एड़ी मेरे सर के पीछे लगाई, मेरे चेहरे को खींच कर अपनी चूत तक लाई और मेरे मुँह को अपनी चूत से लगा दिया। मेरे पास और कोई रास्ता नहीं था तो मैंने चाची की चूत को अपने मुँह में ले लिया।
चाची बोली- अरे, ये खाने की चीज़ नहीं है जो मुँह में लेकर बैठा है, चाटने की चीज़ है, चाट इसे!

मैंने अपनी जीभ से चाची की भग्नासा को चाट कर देखा, नमकीन सा स्वाद आया जो मुझे अच्छा लगा, थोड़ा थोड़ा करके मैं उसकी भगनासा पर अपनी जीभ फेरता रहा, और जितनी जीभ फेरता रहा, उतना मुझे अच्छा लगता गया, पहले तो सिर्फ उसकी चूत को बाहर बाहर से चाट रहा था, मगर फिर मेरा स्वाद बढ़ता गया और मैं उसकी चूत के और अंदर तक जीभ फेरने लगा।

जब मैंने चाची की चूत के अंदर तक अपनी जीभ घुमाई तो चाची ने मेरे सर के बाल पकड़ कर मेरा सर और अपनी चूत से चिपका लिया। मैं अपने दोनों हाथों से कभी चाची मोटी मोटी जांघें सहलाता तो कभी उसके गोल गोल मम्में दबाता, चाची खुद भी अपने पाँव से मेरी पीठ और टाँगों को रगड़ रही थी, सिसकारियाँ और चीत्कार बार बार उसके मुँह से फूट रहे थे। अपनी कमर वो वो हल्का हल्का हिला रही थी, जैसे मेरे मुँह पर रगड़ रही हो।

अब तो मुझे चाची की चूत इतनी टेस्टी लग रही थी कि मैं उसे बिना रुके बहुत लंबे समय तक चाट सकता था। मगर मेरी चटाई से चाची की तड़प बढ़ती जा रही थी। वो अपने दोनों हाथों से अपने मम्में दबा रही थी, दोनों एड़ियों से उसने मेरे चूतड़ और जांघें जैसे छील कर रख दिये। मेरे चेहरे को अपनी जांघों में बड़ी मजबूती से जकड़ लिया ताकि मैं उसकी चूत को चाटना छोड़ न दूँ।
मगर मैं क्यों छोड़ता… मुझे तो खुद मजा आ रहा था। मैं चाटता रहा और चाची तड़पती रही।

फिर चाची बोली- खा इसे मेरे राजा, अपने दाँतों से काट ले, बहुत तंग करती है, ये मुझे! चबा जा इसे ताकि मैं झड़ जाऊँ, खा इस मेरी जान, आह… काट इसे…
और फिर चाची ने बहुत ज़ोर से अपनी कमर चलानी शुरू कर दी। वो कभी उठ कर मुझे देखती, कभी तड़पती हुई, फिर लेट जाती, मगर उसकी बेचैनी, उसकी तड़प देख कर मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं उसकी भगनासा अपनी मुँह में खींच खींच कर चूस रहा था, बहुत बार मैंने उसकी भगनासा को अपने दाँतों से काटा भी, जो उसे बहुत तड़पा देता था।

फिर चाची ने मेरे सर के बाल अपने दोनों हाथों से पकड़ लिए- मर गई मैं, मेरे राजा… आ…ह मर गई आई… आह… ऊई… काट… खा… इसे कुत्ते… आह… खा जा, खा जा, खा जा, आह…
और चाची ने अपनी कमर ऊपर को उठा ली, जितना ऊपर वो उठा सकती थी, मैं फिर भी चाटता रहा!
और फिर चाची धाड़ से नीचे गिरी बेड पर… उसकी टाँगें खुल गई, मेरा चेहरा आज़ाद हो गया, मैंने देखा कि उसकी चूत का सुराख अंदर बाहर को हो रहा था, जैसे मछली पानी पीती हो।
वो बड़े प्यार से मुझे देख रही थी।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

loading...

कुछ देर वैसे ही देखते रहने के बाद वो बोली- बता मेरे राजा, अब मैं तेरी क्या सेवा करूँ?
मैं उठ कर खड़ा हो गया, बिल्कुल नंगा, तना हुआ लंड… मैंने कहा- अब मेरा लंड चूसो।

चाची उठ कर बैठ गई और मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा, उसका टोपा बाहर निकाला और अपने मुँह में लेकर ऐसे चूसने लगी, जैसे कोई मिठाई हो।

पहले जब मैं पॉर्न वीडियोज़ देखता था तो सोचता था, लोग कैसे एक दूसरे की पेशाब करने की गंदी सी जगह को मुँह लगा कर चूस चाट लेते हैं। मगर आज मुझे समझ आया कि जब काम दिमाग में चढ़ता है, तो यही सबसे लज़ीज़ शै (चीज) लगती है।

चाची ने खूब अच्छे से मेरे लंड को चूसा, जितना हो सकता था, अपने मुँह के अंदर लिया। मैं भी अपनी कमर हिला कर उसके मुँह को चोद रहा था.

उधर मेरे चाचा सोफ़े पर अपना लंड निकाल कर अपने हाथ में पकड़े बैठे थे और उसको सहला रहे थे, मगर उनका लंड पूरा तना हुआ नहीं था, थोड़ा सा ढीला था, शायद इसी वजह से चाची को बाहर किसी और से चुदवाना पड़ा हो।
मैंने भी चाची के सर के बाल पकड़ कर उसके मुँह की चुदाई की क्योंकि अब मेरी बारी थी।
मैंने भी जोश में आकर चाची को कहा- चूस मेरी जान, अपने यार का लंड चूस, खा इसे साली, मादरचोद चूस इसे!
मैंने चाची को गाली दी, उसके सर के बाल खींचे, उसके मुँह को बेदर्द तरीके से चोदा, मगर चाची खुश थी।

फिर मैंने चाची के मुँह से अपना लंड निकाल लिया, मैंने उसके कंधे को पीछे को धकेला तो चाची बेड पे लेट गई और उसने अपनी दोनों टाँगें खोल कर अपने पाँव के पंजे अपने हाथों में पकड़ लिए। पूरी तरह से अपने बदन को खोल कर मेरे सामने रख दिया कि आओ पिया अपनी प्रिय की काम पिपासा को शांत करो, इसके सुंदर बदन का भोग लगाओ।

मैं चाची के ऊपर लेट गया और मेरा लंड बिना कोई सेटिंग किए खुद ब खुद ही चाची की चूत में घुस गया। बिल्कुल वैसे ही एहसास जैसा चाची के मुँह में अपना लंड डाल कर आया था, नर्म, गर्म, गीला गीला।
बस इसमें कोई दाँत नहीं था चुभने को…
बहुत ही कोमल और प्यारा एहसास।

मैंने अपनी कमर चलाई तो चाची ने अपने पाँव छोड़ दिये और मेरी कमर के दोनों और अपने हाथ रखे, फिर बोली- अरे ऐसे नहीं, आराम से ऐसे कमर हिलाओ!
और चाची ने अपने हाथों से मुझे कमर चलाने का तरीका बताया।
मैंने वैसे ही कमर चलाई तो फिर चाची ने मेरी कमर छोड़ दी और अपने हाथों से मेरी पीठ, मेरा सीना, कंधे, और मेरे निप्पल सहलाने लगी।

जब वो मेरे निप्पल को छूती तो मुझे बड़ी सनसनी होती।
वो बोली- इस से मजा आता है तुझे?
मैंने कहा- हाँ, बहुत सनसनी सी होती है।
वो बोली- तो ये देख फिर!
और चाची ने अपना सर थोड़ा सा ऊपर उठाया, और मेरे निप्पल को अपने मुँह में लेकर चूस लिया, अरे यार, जैसे सारे बदन में करंट सा लग गया हो, मेरे मुँह से बड़े ज़ोर से ‘आह…’ निकली।
चाची बोली- मजा आया?
मैंने कहा- बहुत ज़्यादा!

उसके बाद चाची ने कई बार मेरे निप्पल चूसे और मुझे बहुत मजा दिया। आज मुझे पता चला अगर मर्द को औरत की छाती चूस कर मजा आता है, तो औरत को उस से भी ज़्यादा मजा अपनी छाती चुसवा कर आता है।
कुछ देर की चुदाई के बाद चाचा बोले- अबे अब ऐसे ही चोदे जाएगा, इसको घोड़ी बना कर चोद हरामजादी को।
मैंने चाची की आँखों में देखा तो चाची ने मुझे पीछे को किया, मैं पीछे हटा, मेरा लंड चाची की चूत से बाहर निकल आया, जो गीला था और उसकी चूत से निकलने वाली झाग से कहीं कहीं से सना हुआ था।

loading...

चाची खुद उठी कर मेरे सामने घोड़ी बन गई, इस बार मैंने अपना लंड पकड़ कर उसकी चूत पे रखा और चाची जैसे ही थोड़ा सा पीछे को हुई, मेरा लंड फिर से उसकी चूत में घुस गया। यह अंदाज़ मुझे भी बहुत पसंद आया, चाची की गोरी चिकनी मांसल पीठ, जिसके बीच में से रीढ़ के ऊपर लंबी सी नाली बनी थी, और नीचे दो खुले हुये चूतड़। बहुत ही सुंदर आकार की सुराही जैसे आकार का सेक्सी बदन, मोटी गांड… चाची को पीछे से चोदने में भी मजा आ गया।

अगर मैं आगे को धक्के मार रहा था, तो चाची भी पीछे को अपनी मस्त गांड से धक्के मार रही थी। सारे कमरे में हम दोनों के बदन के टकराने से होने वाली आवाज़ गूंज रही थी। सच में चाची बहुत चुदक्कड़ थी, मुझसे ज़्यादा वो इस चुदाई का मजा ले रही थी। मैंने चाची की कमर का गोल नर्म मांस अपने दोनों हाथों में बड़ी मजबूती से पकड़ रखा था और उन्हीं मांस के लोथड़ों को पकड़ कर मैं चाची की कमर आगे पीछे कर रहा था और मेरे हाथों की उंगलियाँ उसकी कमर में गड़ी पड़ी थी।आप इस कहानी को एक हिंदी सेक्स स्टोरीस डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

उधर चाचा अपना लंड फेंट रहे थे, तभी उनका लंड पिचकारी मार गया। मैंने देखा चाचा के लंड से लेस के फव्वारे छूट पड़े, ऊपर को।
चाची ने भी देख लिया, बोली- बस क्या मेजर साब, इतनी जल्दी हार मान गए, इस लौंडे को देखो, कैसे ज़बरदस्त लड़ रहा है।
चाचा बोले- अरे मेरा ही बच्चा है, शाबाश नौजवान, दुश्मन की हार तक रुकना नहीं, आज माँ चोद देना दुश्मनों की।

मुझमें और जोश आ गया, मैंने और ज़ोर से चाची की चोदा।
एक बार फिर चाची तड़पी- हाये रे ज़ालिम, मार दिया!
और चाची एकदम से ढीली सी पड़ गई, मगर अब मैं भी अपने चरमोत्कर्ष पर था, मैं भी किसी भी पल झड़ सकता था, तो मैंने चाची को ढलने नहीं दिया, बल्कि उसकी कमर और ज़ोर से पकड़ कर कुत्ते की तरह उस से चिपक कर उसे चोदने लगा।

और फिर मैं भी खुद को रोक नहीं पाया और चाची की चूत में झड़ गया।
जब मैं झड़ा तो चाची बोली- हाये रे कमीने ने अंदर ही भर दिया मेरे!
मगर मुझे क्या खबर थी, मैं तो अपने जीवन की पहली चुदाई के आनन्द में इतना डूब गया कि मुझे तो कोई सुध ही न रही। झड़ कर मैं भी चाची के पास ही लेट गया, चाची उल्टी लेटी थी, मगर मैं सीधा लेटा था।
मेरे लंड में अब भी ताव था और उसके मुँह से अभी भी कोई कोई बूंद वीर्य की बाहर को टपक रही थी।

चाची मुझे और मैं चाची को देख रहा था, आज मुझे सच में चाची से प्रेम हो गया था।

तभी चाचा बड़ी मुश्किल से उठ कर आए और चाची के नंगे चूतड़ पर मार कर बोले- सुन, आज के बाद बाहर मत चुदवाना, जब भी चुदवाना, इस से ही चुदवाना, क्योंकि ये मेरा खून है, मैं नहीं चाहता कि तू बाहर किसी से अपनी माँ चुदवाए, जब भी चाहे इस का लंड ले, मगर बाहर मत जाना किसी भी मादरचोद के पास।
चाची कुछ नहीं बोली, सिर्फ मुस्कुरा दी। मगर उनकी आँखों में चाची की बात का जवाब ज़रूर था कि जी बिल्कुल, आज के बाद अगर किसी से चुदवाऊँगी, तो सिर्फ इस से।

हम दोनों को वैसे ही नंगा छोड़ कर चाचा बाहर को चले गए और हम दोनों अपने प्रेम के रस में भीगे वैसे ही लेटे एक दूसरे को देखते रहे।

writermastram@gmail.com

इस कैटेगरी की और अधिक कहानियाँ पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें चाची की चुदाई या ऐसी ही अन्य कहानियाँ 
======================================================================= माँ की ममता | Maa Ki Mamta ka fayeda uthaya || Hindi Desi Sex Story || Gandi kahaniya by Mastram Sex Story, Sexy Story, XXX Story, Hindi Sex Kahani, Sex Kahani, Chudai Kahani, Chudai Story, Bhabhi Sex Story, Indian Sex Story, Desi Kahani, Adult Sex Story, Hindi Sex, Chudai Kahaniya ,Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex,Mastram, antarvasna,Aunty Ki Chudai, Behen Ki Chudai, Bhabhi Ki Chudai, Chut Ki Chudai, Didi Ki Chudai, Hindi Kahani, Hindi Sexy Kahaniya, indian sex stories, Meri Chudai,meri chudai, Risto me chudai, Sex Jodi, आंटी की जमकर चुदाई, इंडियन सेक्सी बीवी, चुदाई की कहानियाँ,देसी, भाई बहन choot , antarvasna , kamukta , Mastram, bare breasts,cheating wife,cheating wives,cum in my mouth,erect nipples,hard nipples,horny wife,hot blowjob,hot wife,jacking off,loud orgasm,sexual frustration,shaved pussy,slut wife,wet pussy,wife giving head,wives caught cheating,anal fucking,anal sex,anal virgin,bad girl,blowjob,cum facial,cum swallowing,cunt,daddy daughter incest story,first time anal,forced sex,fuck,jerk off,jizz,little tits,lolita,orgasm,over the knee punishment,preteen nude,puffy nipples,spanking,sucking cock,teen pussy,teen slut,tight ass,tight pussy,young girls,young pussy,first time lesbian,her first lesbian sex,horny girls,horny lesbians,hot lesbians,hot phone sex,lesbian girls,lesbian orgasm,lesbian orgy,lesbian porn,lesbian sex,lesbian sex stories,lesbian strap on,lesbian threesome,lesbians,lesbians having sex,lesbians making out,naked lesbians,sexy lesbians,teen lesbian,teen lesbians,teen phone fucks,teen sex,threesome,young lesbians,butt,clit,daddy’s little girl,nipples,preteen pussy,schoolgirl,submissive teen,naughty babysitter,older man-younger girl,teen babysitter, ahindisexstories.com has some of the best free indian sex stories online for you. We have something for everyone right from desi stories to hot bhabhi and aunty stories and sexy chats. All Indian Sex Stories - Free Indian Stories Across Categories Such As Desi, Incest, Aunty, Hindi, Sex Chats And Group Sex, Read online new and hot सेक्स कहानियाँ on Nonveg Story : Sex Story, Sexy Story, XXX Story, Hindi Sex Kahani, Sex Kahani, Chudai Kahani, Chudai Story, Bhabhi Sex Story, Indian Sex Story, Desi Kahani, Adult Sex Story, Hindi Sex, Chudai KahaniyaSex Story, Sexy Story, XXX Story, Hindi Sex Kahani, Sex Kahani, Chudai Kahani, Chudai Story, Bhabhi Sex Story, Indian Sex Story, Desi Kahani, Adult Sex Story, Hindi Sex, Chudai Kahaniya ========================================================================