Showing posts with label sex story. Show all posts
Showing posts with label sex story. Show all posts

Wednesday, 22 November 2017

Bheekh Mangne wale ki Kahani Bhikhari ke sath sex Indian sex story Hindi sex story


Dear aaj main aap ko ajeeb sex suna rha hoon jo kisi ne nahin kiyahoo ga bhala hum jawan hai aur humari garmi kasay khatum hoo meranaam imran hai aap janty hain mujhy main ne kaii story likhi hainyahan acha dostoo story ke taraf chaltay hain .aik din mery gher walay gaoon chalay gay thay eid ke kareeb hii kionke wo eid gaoon main karty hain aur main eid yahan hyderabad mainkarta hoo kion ke mujhy yahan khalee gher milta hai na es liye aurmain apni girlfriend ko bhi date pee bolata hoon aur bas sharab aurshabab dono ke mazay lata hoon bas ye hii waja thi ke main yahan hiieid karta hoon jab gher main koi nahin tha main soya par tha sobhake kuch 12:00 bajay thay ke darwazy pee koi aaya jab neend se uthato main ne dekh ke aik larki hai khairaat mangne aai hai magar bohutkhoobsorat thi aur us ki full jawani aai hue thi us ke bary barymamay kiya nazara tha main ne kaha kia bat hai aaj sobha hii asynazaray milay hain wo khairaat mangne ke liye khari thi aur maindekhta rah gaya to wo has pari aur kaha ke kiya dekh rahi hookhairat de doo

 phir us ne apna dobata bhi udr liya maur apne mamaychupa liye aur bas khairaat mangne lagi main ne kaha tum gher aajaowmain khairat doon ga kuch dair tum bethoo gii mery sath main 100rupes doon ga bas kuch nahin karoon ga bas mujhse dosti kar loo usne kaha nahin ji ap pata nahin kiya karain gay main ne kaha kuchnahin karoon ga wada us ne kaha magar mujhy dar lag raha hai ke koidekh na lay main ne kaha ke mery gher main koi nahin hai bas mainaikala hoo to us ne kaha nahin ab to nahin aaon gii main ne bohutminatain ki aur wo man gaii main ne usay bedroom main bethaya aurmain hath mun dhoonay gaya aur ab main us ke samne betha raha usaykaha ke tum bohut khoobsorat hoo mujhse dosti karoo gii.
us ne kahahaan karoon gii main ne kaha bas main tumhain pyaar karna chahatahoon us ne kaha magar wo kasay main ne kaha bas tumhara jisam hi asahai na us ke sath pyar karoon ga us ne kaha nahin main ne kaha maintum ko pasay bhi deya karoon gaus ne lalach main aakay kaha thik hai us ne kaha aap bary admi hoomain to gareeb hoon aur mujhse pyar kion kar rahai hain main ne kahabas pyar hoo jata hai phir main ne kaha ke ab chaloo sath nahatayhain us ne kaha nahin main tumhary sath nahin nahaon gii main nekaha yar kuch nahin karooon ga main ne usay 100 rupes deye to wo mangaii aur kaha ke thik hai chaloo phir hum bathroom gay aur main neus ke ganday kapry utaary aur apne bhi kiya maal tha us ke baru bary boobs white color ke kiya jisum tha yarooo mery hosh udrne lagaymain ne ussay shaway ke nichay khara kiya aur aur main ne us kejisum ko achi taraha dhoya aur saf kiya us ke mamoo ko sabun lagaatyhue jo maza aaya kiya kahoon dostoo mera to usay dekh ke hii kharamhoo gaya tha phir main ne us ki mchoot ko achi taraha mala aur saryjisum ko 4 bar sabun lagaya aur bas us ko achi taraha dhooya aur abcontrol nahin hoo raha tha main ne usay bahoon main liya oper sepani ka maza kiya seen tha main ne us ke mamoo ko choona shoroo kiyaaur bas choosta rah wo mgaram honay lagii aur mujhy kas ke pakrnelagii aur ah bharne lagii main ne usay nichay laitaya aur us ko kahake ab main kam kar raha hoo us ne has ke kaha ke nahin karoo na mainne kaha ab hasi hai means ke haan main ne sabun ko apne lund peelagaya aur us ke choot pee aur main ne jisay hiii us ke choot peelund ragarna shoroo kiya to wo bohut hot hoo chuki thi aur wo abbardaish nahin kar sakhti thi magar kah bhi nahin sakhti thi kemujhy chodo main ne usy full hote kiya aur ab lund ko ander karnelaga to abhi aik hii jhatka deya tha dheery ka to wo chikh pary jabke abhi adha hii lund nahin gaya tha ke wo ronay lagi ke mujhy chorodard dard hoo raha hai magar main ne usay manaya ke ab kuch nahin hoo gaaur min rok gaya aur us ke mamay choosnay laga phir us ne rona bandkiya saur main ne aaram aram se pura lun ander karne lagaa aur wodard se bihal hoo chuki thi main ne us ke hontoon ko apne hontoonmain liye aur choosta raha aur mab pura lund mus ki ander gaya tomain ne jhatkay marne shoro kiyeaur wo kuch dard ka maza lay rahi thi kuch chodaii ka main ne dekhke ab usay maza aanay laga hai to main ne usay jhatakay marne marneshoroo kiye aur taz taz marne laga aur bhi mera sath denay lagi mainne usay bohut achi taraha chooda aur us ke mamay kiya bataow yarmain ne kabhi bhikarioon main asa husan nahin dekha tha jo es maintha

main pagal hoo gaya tha aur bas us ko chodta raha jab wo farighoo gai to thandi aah bhari aur main ne mjhatkay taz kar deya maurmain ne apna kam bhi kar deya us ki choot main hii apne manigiradeee main ne usay uthaya aur usay bed room main lay gaya auryahan usay achay kapry pahnai aur us ko parfum lagaya aur aikkhobsorat larki banaya aur ab lag raha tha ke koi achi se larkisamne hai main ne usay kaha ke tum gher kis time jaty hoo us ne kahamera gher hii nahin hai main kaha jaon gii main to road pe hii hoojati hoon bas main ne kaha ke thik hai aaj se tum ko main hii apnabanaoon ga to main ne usay kaha ke jab tak mery gher walay nahinaaty tab tak tum yahan hii rahoo us ne kaha thik hai main ne kaha abjab gher waly aaingay to main un ko kahoon ga ke tum gareeb larkihoo bhikari nahin aur tum gher ka kam karoo gii tum yahan hii rahoogii us ne kaha thik hai main ne usay phir bed pe lataya aur us kokaha ke ab khul ke pyaar karoo wo khush thi main ne us ko seel bhitor dee thi ab us ko dard nahin hoo ga main ne us lataya aur us kokissing ki maur us ke kaproo ke oper hii us ke

mamoo ko choosta rahaaur main ne us ki kapry utary aur bas us ke mmamay chantne lagakitna maaa araha tha kiya batoww phir main ne us ki shalwar utariaur naga kar deya phir main ne usay chodna shooroo kar deya ab usaydard kuch kam hoo raha tha main ne usay 02:00 tak chooda aur bas wobhi farig hoo gai aur main bhi main ne usay teen din tak bohut khoobchoda aur jab gher waly aay to main ne ami ko kaha ke ye gareeb haies ka koi nahin hai es liye apne gher main rakhaty hain gher ke kamke liey ami man gaii aur main khush hoo gaya us ne kaha ke tum ko yekahan se mili main ne kaha kal sobha darwazype aai aur bohut dukhi thi main ne kuch pasay deya aur kaha ke kalaana mery gher waly aajaingay to tumhary kuch na kuch karoon ga phirwo aaj aai hai jab aap aay to main aur ab wo huamry sath rahti haiaur raat ko main us ko chodta hoon kiya maza aata hai..!!!
loading...

loading...

loading...

loading...

Saturday, 18 November 2017

Ek Behan ki atamktha pehli chudayi ki khani (sisters sex story) - gandi khania | Hindi Sex Story

My name is seema and i m from indore. Wese to hamara parmanent ghar indore se 75 km door hain lekin main aur mere dono bhai indore me ek kamre ka room rent par lekar rehte hain. I m 25 year old ham 2 bhai aur 1 sister haien mera 1 bhai mujh se 2 saal bada hai and 1 bhai mujh se chota hai 2 years.yeh baat jo mein app ko batlane ja rahiey hoon yeh aaj se 5 sall pele ki hai. Os waqat mery age 20 saal thi mera rang gora hain aur smart hoon. Meri boobs ka size us waqt b 30 tha jo ab 34 hai and my bade bhai ki age 22 thi. mein bcom 1st year mien thi. Aur bahi ne pmt ke paper deiy hove thiey. Woh dekhney mein boot bara lagta tha. Kuch aur bataney se pehley mien yeh bata doon k its true story hain. Mery bahi ka name rahul hai hamarey ghar mien total five person rehtey haien merey dad aik mnc mien haien aur mery mammy aik company main job karti hain.
Baat un dino ki hain jab main. Jab main abne bade bhai se chudwa chuki thi. Lekin apne chote bhai ke aa jane ke karan hamari chudai band ho gayi thi. Mere bade hain. Chote bhai se dar rahe the. Ki kahi wo ghar par mummy papa ko batla na de. Is karan wo sex nahi kar pa rahe the. Bade bhai ne mujh se kaha ki wo kisi tarha se chote bhai ko tayyar kar le to wo aasani se sex kar sakte hain. Main chote bhai se chudwane ki plan banane lagi ek din moka mill gaya mera chota bhai jab computer chala raha tha to meine nahane chali gai mujhe pata tha ki mera bha jaroor mujhe dekhega main naha kar kewal towel main hi bahar aa gai aur chote bhai ki pith ki taraf ki kapde badalne lagi chota bhai mujhe glass main se dekh raha tha. Uska lund khada ho gaya we bathroom me gaya aur meri bra aur panty ko hath me lekar muth marne laga. Main ne dekha ki ye sahi samay main main ne use aawaj di ki mujhe toilet jaana hain. Usne kaha ki wo naha raha hain. To maine kaha ki main toilet kar lon bas do min. Lagele. Us ne darwaza kholdiya
maine dekhan ki us ne towel lappet rakha hain. Lekin uska lund khada hain. Main uske samne hi camode par paint utar kar baith gai wo mujhe badi gor se dekhne laga bathroom karne ke baad main us ke paas aayi wo dono hathon se apne lund ko chupa raha tha. Mainne us se kaha ki tum kya chupa rahe ho. To us ne kaha ki khuch nahi, aap yeh kahani facebook desi kahaniyan page par padh rahe hain. maine uska towel pakad kar hata diya. Uska lund khada tha. Maine kaha ki ye kya chote tumhara lund to khada hain. Wo mujh se towel lene ki koshish karne laga. Tabhi maine towel bathroom ke bahar phek diya. We towel uthane ke liya doda to maine piche se jakar us se lipat gayi. Aur apne hathon main bhai ka lund pakad liya. Wo sidhe kada ho. Gaya maine uske lund ko pakad kar hilane lagi.
Ke muh se aaaaaahhaaa aaaaaahhaaa ki awaaze aane lagi. Phir main niche baith gayi aur bhai ka lund apne muhn main lekar chusne lagi. Uska lund bahut bada tha. Uske lund ka topa gulabi tha. Lund ka size karib 7'5 inch ka tha. Main mast hone lagi thi. Ab bhai. Ne mera t-shirt aur paint utar di. Main pur tarha se naggin thi. Bhai ne apna lund meri chut par laga kar ragadne laga. Mere muh se aaaaaahhaaa aaaaaahhaaa aaaaaaaaaaaaaaaa ,oooooooo wwwoooo ki awaz aa rahe thi. Bahut der tak ragadne ke baad ab main aaaahhhhhhhhh aaaaaaaaahhhhh karne lagi phir mera bhai commode par baith gaya aur mujh se bola ki main uske lund par aa
kar baith jaun. Main ne uska lund apni chut par lagaya itne main bathroom main pade pani ki wajah se mera pair fisal gaya aur bhai ka lund sedhe meri chut phadta huwa andar chala gaya. Mere muh se cheekh aaaaaaaaaaaaaaaa ,oooooooo nikal gayi. Main uthne ke koshish karne lagi to bhai ne meri kamar pakad kar phir se mujhe niche dabadiya main isi tarha se bhai ke lund ki sawari karne lagi. Mere muh se aaaaahhhhhhhhhh aaaaaaahhhhhhhhhhh aaaaaaahhhhhhhhhhh ooooohhhhhhhhhhh aaaaaahhhhhhhhhhhh uuuuuuuuuuummmmmmmm uuuuuuuuummm ki awaj nikalne lagi. Bhai ne meri dono pair pakad kar mujhe apne hathon main utha liya. Us ne apna lund bahar nahi nikala mera pura bhar bhai ke lund par tha. Bhai mujhe upar niche karne laga mujhe bada maza aa raha tha. Main bhi masti me aaaaahhhhhhhhhh
aaaaaaahhhhhhhhhhh aaaaaaahhhhhhhhhhh ooooohhhhhhhhhhh aaaaaahhhhhhhhhhhh uuuuuuuuuuummmmmmmm uuuuuuuuummm aaaaahhhhhhhhhh aaaaaaahhhhhhhhhhh aaaaaaahhhhhhhhhhh ooooohhhhhhhhhhh aaaaaahhhhhhhhhhhh uuuuuuuuuuummmmmmmm uuuuuuuuummm ki ajib hi awaj nikal rahi thi. Phir bhai ne mujhe niche utara aur mujhe washbasin se hath tika kar khade hone ko kaha main ghdi ban kar khadi ho gayi. Bhai ne apna lund meri chut par tikaya aur ek jhatke ke sath meri chut main daal diya. Main bhi masti me aaaaahhhhhhhhhh
aaaaaaahhhhhhhhhhh aaaaaaahhhhhhhhhhh ki awaz nikal gayi. Tabhi bhai ne kaha ki "dard kar raha hai kya?" to main ne ek ajib awaj me kaharte huye jabab diya " nahiiiiiiiiiiiiiiii aaaaahhhhhhhhhhhh ohhhhhhhhhhhh". Ab mein bhi masti main bhai ka saath dene lagi. Dhire dhire hamari speed badne lagi aur ek ek kar ke hamari choot ho gayi. Bhai ne apna sara maal meri choot main daal diya. Aur mujhe se lipat gaya. Main puri tarha se santusht ho chuki thi. Phir ham dono bhai behan ne snaan karne ke baad baith kar baatein karne lage..
loading...

loading...

loading...

loading...

Thursday, 16 November 2017

सेक्स की प्यासी मामी की चूत चुदाई - Gandi Khaniya | Hindi sex Story

मेरा नाम पंकज है, बिहार का रहने वाला हूँ। मैं अपनी मामी की चूत चुदाई की हिन्दी सेक्स कहानी आपके लिए लिख रहा हूँ।
बात उस समय की है.. जब मैं स्नातक की पढ़ाई कर रहा था। मैं अपने मामा के घर जब कभी घूमने जाया करता था। जहाँ मेरे मामा-मामी नाना तथा नानी रहते हैं।
मेरे मामा आर्मी में होने के कारण बहुत कम घर पर रहते हैं। मेरी मामी बहुत ही हँसमुख स्वभाव की हैं, मेरी और उनकी अच्छी जमती थी।
मेरी मामी का नाम सपना है।
एक बार मुझे अपने मामा के यहाँ पर जाना पड़ गया था। क्योंकि उधर सभी लोग घूमने जा रहे थे.. लेकिन मामी नहीं जा रही थीं, तो घर में उनके साथ रहने के लिए मैं चला गया।
सब लोग चले गए.. घर में केवल मैं और मामी रह गए।
दिन भर मैं उनके साथ रहा और इधर-उधर की बात करता रहा।
धीरे-धीरे शाम हो गई.. मामी ने खाना बनाया।
फिर मैं और मामी खाना खाकर टीवी देखने लगे।
दस बजे तक हम लोग टीवी देखते रहे फिर सोने लगे।
मैं और मामी एक ही बिस्तर पर लेटे थे।
कुछ देर बाद हम लोग सो गए।
रात को मुझे पेशाब लगी.. तो मैं उठकर पेशाब करने चला गया। जब मैं वापस आया तो देखा कि मामी की साड़ी उनके घुटनों तक है।
मामी की सेक्सी टाँगें देख मेरा लंड खड़ा होने लगा.. क्योंकि मामी की गोरी पिंडलियाँ देखकर मेरी साँस अटक गई थी।
मेरी मामी के जिस्म का साइज 30-28-34 है।
अब मेरी आँखों से नींद उड़ चुकी थी।
मैं धीरे से उनके बगल में आकर लेट गया।
मेरी मामी बहुत गहरी नींद में सोती हैं। यह बात मुझे पहले से पता थी.. इसी बात का फायदा उठाकर मैंने धीरे-धीरे मामी की साड़ी और पेटीकोट एक साथ उठाना शुरू किया।
मामी की चूत
साड़ी को थोड़ा उठाने पर मुझे मामी की काली पैंटी नज़र आने लगी।
मैंने मामी की साड़ी को उठाकर उनकी कमर के ऊपर कर दिया।
अब जो नज़ारा मेरे सामने था.. उससे मेरे साँसों की गति तेज़ होने लगी।
मैंने मामी के चेहरे की तरफ देखा.. वो अभी भी गहरी नींद में सो रही थीं।
मामी की गोरी-गोरी जांघें.. और उनके बीच मामी की चूत के ऊपर काली पैंटी देखकर तो मैं पागल हो गया।
मैंने मामी की चूत को पैंटी के ऊपर से सूंघा.. चूत की मादक खुशबू से मेरा लंड काबू से बाहर हुआ जा रहा था।
मैंने धीरे से मामी की पैंटी को एक साइड में खिसकाया.. जिससे मुझे मामी की एकदम चिकनी चूत दिखाई दी।
मैं अब काबू से बाहर हो गया और मैंने अपनी जीभ मामी की चूत में लगा दी।
जैसे ही मैंने जीभ को चूत में लगाया.. मामी थोड़ा सा हिलीं.. तो मैं डर गया और फिर अपनी जगह पर आ गया।
लेकिन थोड़ी देर में फिर मैं उठा और मामी की चूत पर हाथ फेरने लगा। कुछ देर बाद अचानक मामी ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोलीं- क्या कर रहे हो?
मैं तो डर के मारे घबरा गया और मामी को ‘सॉरी’ बोलने लगा।
पर मामी बोलीं- कभी किया है?
तो मेरे मन से डर दूर हो गया और बोला- नहीं!
मामी ने हरी झण्डी दिखा दी।
मैंने मामी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनको चूमना शुरू कर दिया।
कुछ देर बाद मामी गर्म हो गईं और उन्होंने सिसकारियां भरना शुरू कर दिया।
इतनी देर में मैंने मामी का ब्लाउज और साड़ी को खोल दिया।
मामी ने ब्रा नहीं पहनी थी, अब वो मेरे सामने पेटीकोट और उसके नीचे काली पैंटी में थीं।मैंने धीरे से पेटीकोट का नाड़ा भी खोल दिया और उसको निकाल दिया। मामी ने भी इसी बीच मेरी बनियान और लोअर निकाल दिया। मैं अब सिर्फ चड्डी में था और मामी पैंटी में थीं।
मैंने मामी के मस्त दूध मसलने शुरू किए तो उनके मुँह से ‘सी.. सिस्स..’ की आवाजें निकलने लगीं।
वो मेरा लंड चड्डी के अन्दर हाथ डाल कर सहला रही थीं।
मैंने अपनी चड्डी भी उतार दी और मामी को बिस्तर पर लिटा दिया।
मैंने अपना लंड मामी से चूसने को कहा.. तो मना करने लगीं, मैं अपना लंड जबरदस्ती उनके मुँह में घुसेड़ने लगा तो थोड़ी देर बाद उन्होंने उसे मुँह में भर लिया और चूसने लगीं।
थोड़ी देर बाद मैंने लंड को उनके मुँह से बाहर निकाल लिया और उनके पैरों की तरफ आ गया।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!
मामी अभी भी पैंटी में थीं.. मैंने उनकी पैंटी को पकड़ा और पूरी ताकत से बाहर की तरफ खींच कर निकाल दिया.. जिससे उनकी पैंटी फट गई।
यह देखकर मामी बोलीं- आराम से मेरे चोदू राजा.. अब तो मैं तुम्हारी ही हूँ।
मैंने कहा- साली रंडी.. मादरचोद अपनी चूत दिखाती फिरती है सबको.. आज इस चूत को इतना चोदूँगा कि कल सुबह तू मूत भी नहीं पाएगी।
मैं अपना मुँह चूत में लगाकर चूत को चाटने लगा मामी के मुँह से ‘आ.. आआह..’ की आवाजें आने लगीं।
मामी की चूत के दाने को मैं दांतों से काट लेता तो वो और जोर से चीख उठतीं।
उनकी चूत बहुत रस छोड़ रही थी।
गालियाँ और चूत चुदाई
फिर अचानक वो जोर-जोर से कमर हिलाने लगीं और चिल्लाने लगीं- अब डाल दो मेरे अन्दर.. नहीं तो मेरी चूत फट जाएगी।
फिर अचानक उनकी चूत से पानी बहने लगा तो मैं समझ गया कि मामी झड़ गईं, मैंने पूरा पानी चाट लिया।
मैं उठा और मामी को किस करने लगा.. अब मामी भी मेरा साथ दे रही थीं।
कुछ देर बाद वो फिर गर्म हो गईं.. और बोली- मादरचोद.. अब तो मेरी चूत में अपना डंडा डाल दे.. नहीं तो अभी तेरा रेप कर दूंगी।
मैं बोला- साली छिनाल रंडी.. अभी तेरी इस चूद को चोद-चोद कर अगर फाड़ न डाला तो मेरा भी नाम बदल देना।
मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर रगड़ना शुरू किया। वो ‘आहें’ भरे जा रही थीं और गालियाँ बक रही थीं।
मेरी मामी चुदाई में गालियाँ बहुत देती हैं।
फिर अचानक मैंने एक तेज़ झटका लगाया.. मेरा मेरा आधा लंड उनकी चूत में चला गया।
वो चीख उठीं और बोलीं- भोसड़ी के.. मादरचोद.. रंडी नहीं हूँ मैं तेरी.. आराम से कर।
मैं बोला- साली.. तू पूरी रंडी है पराए मर्द से चुदती है।
फिर मैंने एक और धक्का लगाया.. मेरा पूरा लंड उनकी चूत में चला गया। वो एक बार फिर जोर से चीखीं और बोलीं- मार डाला मादरचोद ने।
अब मेरा लम्बा और मोटा लण्ड उनकी कसी हुई चूत में पूरा उतर चुका था। मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू किए.. वो मेरे हर धक्के पर ‘आहें’ भरतीं और गाली देतीं ‘आ..ह… आ..उह.. मर गई मादरचोद..’
मैं धक्के लगता लगाता रहा.. वो चिल्लाती रहीं और गालियाँ बकती रहीं।
काफी देर तक मैं उनको चोदता रहा जिसमें वो दो बार झड़ चुकी थीं।
इसके बाद मैं बोला- मेरा निकलने वाला है।
तो वो बोलीं- अन्दर ही डाल दे.. रंडीबाज बाहर मत निकालना।मैं 5-6 तेज़ झटकों के साथ उनकी चूत में ही ढेर हो गया। मेरे साथ वो एक बार और झड़ गईं।
फिर मैं बोल उठा- आह्ह.. मज़ा आया?
मामी बोलीं- बहुत अच्छी चुदाई हुई मेरी चूत की!
उसके बाद मैं उठा और अलमारी से शराब की बोतल निकाल लाया और दो गिलास में डालकर एक गिलास खुद पिया और दूसरा मामी को जबरदस्ती पिलाया। फिर मैं कुछ शराब उनकी चूत में डालकर चाटने लगा.. जिससे वो बिल्कुल पागल सी हो गईं और मेरे सर को अपनी चूत पर कसकर दबाने लगीं।
मैंने फिर एक बार कसकर उनको चोदा। नशे में झड़ने के बाद मैंने उनकी चूत में ही लंड डाल कर सो गया। अगले 6 दिन मैंने रोज नए-नए तरीके से चुदाई की। कभी खड़े होकर.. कभी गोद में बैठाकर.. कभी अपने ऊपर लेकर।
मामी और हमको बहुत मज़ा आया। एक दिन मैंने उनकी गांड भी मारी।
तो साथियो कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी.. अपनी राय जरूर मेल करें।
pankajkumar12520@gmail.com
loading...

loading...

loading...

loading...

Monday, 13 November 2017

भाभी की मदद से बहन की चुदाई - Gandi Khaniya || Indian Sex Story


ये भाई बहन के बीच सेक्स कहानी,भाई बहन की चुदाई की हैं,कैसे भाई ने बहन को चोदा और बहन ने अपने भाई से चुदवाया. मैने पहली बार मेरी सगी बहन रश्मि को चोदा था और इस काम में मेरी मदत मेरी भाभी अंजू ने की थी. और अब में स्टोरी पर आता हु. पहले में आप लोगो को अपने बारे में बताता हु मेरी उमर २६ साल हे और में दिखने में एकदम हेंडसम हु, मेरी बोडी एवरेज टाइप की हे और मेरे लंड का साइज़ ६.५ इंच लंबा और ३ इंच मोटा हे.मेरी बहन का नाम रश्मि हे और उसकी उमर २४ साल की हे और उसका फिगर ३२-२८-३४ हे. और वह दिखने में एकदम जूही चावला जेसी दिखती हे. मेरी बहन को देख कर बुढ्हो का भी लंड खड़ा हो जाये. रश्मि १२th के बाद एक कोल सेंटर में जॉब करती हे और अब बात करते हे मेरी भाभी  की जिसका नाम अंजू हे और उसकी उमर २५ साल हे. उसका फिगर ३४-२८-३६ हे और वह बिल्कुल उर्मिला मातोंडकर जेसी दिखती हे.

यह मेरे ताऊजी की बहु हे यानी के मेरे ताउजी के लड़के की वाइफ जो हमारे घर के पीछे की तरफ रहते हे. और मैने आप को पहले ही बताया हे की मैने किस तरह मेरी भाभी की चुदाई की थी और उसके बाद हमारा यह खेल महीने में २५ दिन तक होता था. मोक मिलते ही भाभी मेरे लंड की प्यास को बजाने आ जाती थी. मेरे घर में मेरी बहन रश्मि के अलावा माँ और पिताजी भी हे. माँ ऑफिस में जाते हे और माँ घर का काम संभालती हे और वह साथ में एक स्कुल में भी पढ़ाने के लिए जाती हे.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। बेहें जब चली जाती तब भाभो हर रोज मेरे पास चुदवाने के लिए चली आती थी और एक दिन चुदाई करते समय मेर्री भाभी ने मुझे कहा.

Yeh khani bhi jarur padho => स्कूल में मैंने माँ की चुदाई प्रिंसीपल से होते देखी

अंजू : क्या कहते हो मेरे रंडी बाज देवर तुम्हे में ज्यादा मजा देती हु के तुम्हारी गर्ल फ्रेंड?

में : जो मजा घर की रखेल को चोदने में हे वह बहार किसी भी रंडी को चोदने में नही हे.

भाभी : और घर की रखेल में मेरी जगह कोई और होती तो?

में : क्या करू जान मेरी कोई और भाभी नहीं हे सिर्फ तू ही हे.

भाभी : अगर मेरी जगह रश्मि होती तो?

में यह सुन कर थोडा चोंक सा गया लेकिन अच्छा लगा सुन कर की काश मेरी बहन की चूत का स्वाद भी मिल जाये. में तो चाहता था की बहन की चुदाई का भी में मजा लू.

में : यह तो उसे चोदने के बाद ही पता चलेगा की तू ज्यादा नमकीन हे या वह हे.

भाभी : चलो अब बाते बंद करो और मेरी प्यास बुजा दो आग लगी हे मेरी चूत में.

मैने भाभी को चूमना चाटना चालू कर दिया पर मेरा ध्यान रश्मि पर था की काश एक बार मेरी बहन की चूत भी मुझे मिल जाए साली क्या माल हे, और फिर मैने भाभी को बोला

में : तुम मेरी मदद करोगी?

भाभी : किस काम में केसी मदद?

में : मुझे रश्मि की बुर का स्वाद लेना हे.

भाभी : पागल हो गया हे क्या? वह नहीं मानेगी और ये बहोत ही मुश्किल हे क्योंकि वह तुम्हारी बहन हे.

में : मुझे वह कुछ भी पता नही हे, तू मेरे लिए कुछ भी कर. नहीं तो में तुजे नही चोदुंगा.

भाभी : में कोशिश करुँगी लेकिन पक्का नहीं कह सकती के क्या होगा, सोच लो.

में : हा मैने सोच लिया मुझे बस रश्मि को चोदना हे बस चोदना हे.

भाभी : ठीक हे मुझे तो चोद ले हरामी, और फिर मेरी और उसकी रास लीला शुरू हो गयी और एक घंटे के बाद भाभी चली गई और में मेरी बहन की ब्रा और पेंटी ढूंढने लगा और मुझे उसकी ब्लेक पेंटी मिल भी गई और में उसे सूंघने लगा.आह्ह्ह अहः क्या मस्त नशीली खुशबु आ रही थी उसमे से. मेरा लंड तो फिर से खड़ा हो गया मैने रश्मि को सोच कर मुठ मारी, और में लेट कर रश्मि के बारे में सोचने लगा, थोड़ी देर बाद डोर बेल बजी मैने दरवाजा जाके खोला और देखा तो मेरी बहन आ गयी थी उसका जिस्म देख कर मेरा मन मचल गया और में मन में सोचने लगा की साली क्या मस्त कडक माल हे तू, एक बार मेरे लंड से चुदवा के देख ले हरामजादी.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रश्मि अंदर आकर बैठ गयी रोज की तरह, उसने सलवार और सूट पहना हुआ था सफ़ेद कलर का जिसमे उसकी अंदर की समीज साफ़ दिख रही थी, फिर बहन फ्रेश होने के लिए गयी और मैने तभी भाभी को कोल किया.
loading...


yeh gandi khani bhi jarur padhen =>  कॉलेज गर्ल की चूत की पहली चुदाई टीचर ने की - Gandi Khaniya - Hindi Sex Story


में : हेलो जान.

भाभी : क्या हुआ देवरजी?

में : रश्मि आ गयी हे कब तक मुझे इसकी दिलवा दोगी?

भाभी : थोडा सबर तो रखो ज्यादा जल्दी भी मत करो, में वही पर आती हु और तुम मुझे रश्मि के सामने फ्लर्ट करना और मुजे टच करने की कोशिश करना. और तुम यह भी भूल जाओ के आज ही बहेनचोद बन जाओगे.

में : ठीक हे जल्दी आ जाओ यह कह कर मैने फोन रख दिया और इधर से रश्मि भी बाथ रूम से बहार आ चुकी थी और वह टीवी देखने लगी थी. में आगे वाले रूम में जाके मोबाईल में पोर्न देखने लगा. और थोड़ी देर में अंजू भाभी आ गयी और मैने डोर खोला.

वह घर में आई और रश्मि के पास जा के बैठ गयी, और में भी उठ कर अंदर वाले रूम में आ गया.

में : भाभी क्या बात हे? आज तो आप बहोत अच्छी तयार हो कर आई हो कही भैया के साथ बहार जाने का प्लान हे क्या?

भाभी : अरे वो कहा मुझे लेकर जायेंगे उनके पास तो टाइम ही नही हे.

रश्मि : हां भाभी मुझे भी यही लग रहा था की आप कही बहार जा रही होगी.

भाभी : अरे में कहा जाउंगी वह मुझे कही लेकर जाए तो जाऊ ना, वह तो मुझे कही भी लेकर नहीं जाते हे.

में : तो चलो में आपको ले चलता हु.

भाभी : तुम मुझे कहा लेकर जाओगे?

में : लवर्स पॉइंट पर.

भाभी : अगर तुम्हारे भैया को पता चला ना तो तुम्हारा कुछ नही पर मरा चेहरा जरुर लाल कर देंगे.

रश्मि : उसमे क्या भाभी, तुम देवर के साथ हो तो जाओगी और कोई पराया थोड़ी ना हे.

भाभी : मैने तो उनको छोड़ के किसी के भी साथ कभी नहीं जा सकती, में मन में सोच रहा था की साली कितनी बड़ी रंडी हे रोज चुद्वाती हे मेरे से और अभी सती सावित्री बन रही हे.

रश्मि : बेठो में चाय बना देती हु, रश्मि किचन में गयी तो मैने भाभी को एक लिप किस किया, और भाभी ने मेरे हाथ में से मेरा मोबाईल एकदम से छीन लिया और बोली.

भाभी : दीदी यह मोबाईल देखो तो यह कोनसा वीडियो देख रहे थे, मुझे नहीं मालुम था की यह रंडी कोई चाल चल रही हे, मेरी तो गांड फट गई क्योंकि ने पोर्न देख रहा था, में मोबाईल छिनने की कोशिश करने लगा लेकिन भाभी ने मेरा मोबाईल ब्लाउज में रख दिया और इतनी देर में रश्मि भी आ गयी.

रश्मि : क्या हुआ भाभी?  बताऊ दीदी को क्या देख रहे थे?

में : मेरा मोबाईल दे दो नहीं तो में निकाल लूँगा, और मेरी बहन वही खड़ी खड़ी हस रही थी.

भाभी : हिम्मत हे तो निकाल के दिखाओ और नही निकाल सकते तो में दीदी को बोल दूंगी के तुम क्या देख रहे थे.

रश्मि : भाभी यह क्या कर रहा था जरा मुझे भी तो बताओ?

में : मोबाईल दो मेरा.

भाभी : निकाल लो हिम्मत हे तो, मेरी तो अब गांड फटने लगी थी क्योंकि रश्मि और घर के बाकि लोगो के सामने हमारा रिश्ता अभी भी भाभी और देवर का ही हे, लंड और चूत का नहीं. मैने कहा अगर रश्मि नही होती तो में निकाल लेता.

भाभी : समज लो दिदि यहाँ पर नहीं हे निकाल लो, हे हिमत?

रश्मि : तुम दोनों जानो के क्या करना हे, मेरी तो चाय पक रही हे, रश्मि किचन में गई और मैने भाभी की ब्लाउज में हाथ डाल दिया.

में : मेरा मोबाइल दो.

भाभी : में नहीं दूंगी ऐसा बोल कर वह मोबाईल को हाथ से दबाने लगी थी, हम दोनों मोबाईल के लिए इतनी कशमकश कर रहे थे की भाभी कब बेड पर लेट गई और में उनके उपर चढ़ कर उनके ब्लाउज में से मोबाइल निकाल ने की कोशिश कर रहा था यह मुझे कुछ भी पता नहीं चला.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रश्मि : ये लो चाय पि लो तुम. रश्मि ने हम को ऐसे देख लिया पर वह कुछ भी नही बोली क्योंकि उसे लगा की हम लोग मस्ती कर रहे हे.भाभी : यह ले लो, मुझे तुम्हारा मोबाइल नहीं चाहिए में तो ऐसे दस खरीद लुंगी तुम्हारे भैया से बोल के.
रश्मि : आज पहली बार तुमको ऐसा इतनी मस्ती करते हुए देखा हे वरना कभी भी ज्यादा बात नही करते हो आप, ऐसा क्या हे इस मोबाइल में?

भाभी : इनकी गर्ल फ्रेंड के फोटो देख रहे थे बिना कपडे वाले, ऐसा बोल के वह हस दी, और में भी शरमा गया. दीदी आपका मोबाईल दो ना मुझे आपके भैया को फोन लगाना हे. रश्मि ने मोबाइल दे दिया लेकिन भाभी ने उसे भी ब्लाउज में रख लिया और बोली.

में घर जाकर देखूंगी के इसमें किसके किसके फोटो हे.

रश्मि : यही पर देख लो ना उसमे कुछ भी नही हे.

थोड़ी देर के बाद भाभी रश्मि का मोबाइल देकर चली गई और तब तक माँ भी आ चुकी थी, और इसी तरह रोज दिन में में और भाभी बहन के सामने मस्ती करते थे और धीरे धीरे मेरी बहन को हम पर शक होने लगा था, क्योंकि जब भी मेरी बहन ऑफिस से घर पर आती तब मेरी बहन यही पर मिलती थी. और में आज कल घर में शर्ट निकाल कर घुमने लगा था.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। एक दिन भाभी ने मुझे बताया की जब में घर में नहीं था तब उनके और रश्मि के बिच क्या बात हुई.
भाभी : आप को कोई बॉय फ्रेंड हे की नहीं?

Yeh khani bhi jarur padhen => 


रश्मि : नही, क्यों?

भाभी : क्या दीदी आप भी ना इतनी सुंदर हो और जूठ मत बोलो.

रश्मि : नही हे भाभी, लेकिन आपका शादी से पहले जरुर रहा होगा, और वह कुछ बोली नही और स्माइल देने लगी.

रश्मि : अच्छा तो सच में था मतलब.

भाभी : हां, लेकिन तुम्हारे भैया को यह बात पता नही चलनी चाहिए.

रश्मि : अरे वह पहले था ना और आब कहा से पता चलेगा.

भाभी : अब भी मेरा एक हे.

रश्मि : क्या, कोन भाभी,

भाभी : हे कोई.

रश्मि : भाभी यह गलत हे और भाई को पता चल गया तो?

भाभी : तुम्हे नही पता चला तो उनको कहा से पता चलेगा?

रश्मि : मुझे नही पता मतलब?

भाभी : कुछ नही छोडो. तुम बताओ तुमने किसी को बॉय फ्रेंड बनाने की नहीं सोची हे क्या?

रश्मि : भाभी आप पहले बताओ की आप गलत क्यों कर रही हो? आप की तो शादी भी हो चुकी है और फिर भी.

भाभी : में नही चाहती की मेरा और तुम्हारे भाई का रिलेशन ख़राब हो लेकिन वह मुझे बिस्तर पर खुश नहीं रख पाते और अगर यह बात ने उन्हें बताउंगी तो रिलेशन पर असर पडेगा, इसीलिए मुझे बहोत सोच समज कर यह कदम उठाना पड़ा. लेकिन प्लीज़ तुम किसी से नहीं कहना और यह मेरी और तुम्हारे भैया की जिंदगी का सवाल हे, क्या आप यह चाहती हो के हम लोग अलग हो जाये?

रश्मि : ठीक हे किसी को नही कहूँगी.

भाभी : तुम्हारा कोई बॉय फ्रेंड क्यों नही हे?

रश्मि : में ऐसे ही किसी को नहीं बनाउंगी किसी मर्द को सिलेक्ट करुँगी.

भाभी : लेकिन उसके लिए तो पहले आप को उसके साथ हमबिस्तर होना पड़ेगा.

रश्मि : तो क्या करू भाभी आप ही बताओ.

भाभी : क्यों अपनी जवानी बरबाद कर रही हो? एक बार जवानी चली गई तो बहोत पछताओगी खुल के मजे लो जवानी के और कोई अपना बॉय फ्रेंड बना लो.

रश्मि : क्या भाभी आप भी, लड़के सिर्फ एक ही चीज के लिए गर्ल फ्रेंड बनाते हे और फिर मुझे डर लगता हे.

भाभी : अगर लड़के एक ही चीज के लिए गर्ल फ्रेंड बनाते हे तो तुम भी सिर्फ एक ही चीज के लिए बॉय फ्रेंड बना लो. और बहार डर लगता हे तो घर में कर लो मरी तरह.

रश्मि : भाभी आप घर में किस से..

भाभी : आप किसी को बताओगी नहीं तो आप को भी में दिलवा दूंगी.

रश्मि : नहीं बताउंगी

भाभी : देवरजी से, फिर कुछ देर बाद भाभी चली गई और रात में मेरे मोबाईल पर मेसेज आया.

भाभी : दीदी कहा हे देवरजी?

में : घर में हे.

भाभी : ठीक हे, और फिर में अपनी गर्ल फ्रेंड से बात करने लगा. मैने देखा की रश्मि बड़े गौर से मोबाईल में कुछ कर रही थी लेकिन मैने देखना सही नहीं समजा.

अगले दिन जब भाभी घर पर आई तो आते ही बोली.

भाभी : आज मेरा रंडीबाज देवर बहनचोद बन जायेगा.

में : क्या बात कर रही हे मेरी रंडी, तूने उसे मना लिया क्या?

भाभी : नही लेकिन आज तेरा काम बन गया लगता हे, और अब ये बताओ की दीदी ने रात को कब तक मोबाइल चलाया?

में : येही कोई १ बजे तक क्यों?

भाभी : कल रात की मैने दीदी को कुछ गन्दी गन्दी कहानिया सेंड कर दी थी भाई बहन वाली.

में : भाभी अगर आज मेरा काम हो गया तो में तेरी बहोत ही धमाकेदार चुदाई करूँगा और नहीं हुआ तो तेरी गांड को फाड़ के रख दूंगा.


loading...
भाभी : फाड़ देना में भी यही तो चाहती हु की तू मेरी फाड़ के रख दे. तभी भाभी के पास रेशमा का मेसेज आया उसमे लिखा था एस मैने मेसेज पढ़ा. तो भाभी ने मुझे बताया की मैने उसे कहानी सेंड करने से पहले मेसेज किया था की अगर तुम बॉय फ्रेंड बनाना चाहती हो तो देवरजी ने क्या बुराई? हे घर की बात घर में रहेगी और किसी को कुछ शक भी नही होगा. और अगर तुम कहो तो में देवरजी से बात करू, कल तक तुम सोच कर बता देना और उसे एक कहानी और सेंड की और मुझसे कहा.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। भाभी : जब वो  आएगी तब हम दोनों बिस्तर पर लेटे रहेंगे और बाकी काम आप मुज पर छोड़ देना.में : ओके शाम को जब रश्मि आई तो में बिस्तर में लेटा हुआ था और भाभी ने गेट खोला और फिर आकर मेरे बगल में लेट गयी. रश्मि यह देख कर मुस्कुराई लेकिन कुछ भी नही बोली, लेकिन में उठ के बेठ गया, मुजे थोड़ी शर्म और डर लग रहा था.

भाभी : दीदी से ज्यादा तो आप डर रहे हो देवरजी.

रश्मि : भाभी में क्यों डरूंगी मैने आप के जेसे कुछ गलत थोड़ी ही कुछ किया हे?

भाभी : चलो ठीक हे कोई नहीं डर रहा लेकिन मेंरा एक काम कर दो बस तुम दोनों …

हम दोनों भाई बहन एक साथ बोले : क्या अब ऐसे अंजान मत बनो और तुम दोनों को पता नहीं हे की क्या करना हे तो हम तुम बेठो में तो जा रही हु मैने भाभी का हाथ पकड़ा और कहा.

में : तुम कहा जा रही हो अभी तो खेल शुरू हुआ हे.

भाभी : आज दूसरी पिच पर खेलना और फिर रश्मि का हाथ पकड पर उसे मेरे ऊपर गिरा दिया. मैने भाभी का हाथ नहीं छोड़ा लेकिन एक हाथ रश्मि को पकड लिया और उसकी पीठ पर हाथ फेर रहा था, मन तो कर रहा था की रश्मि को नंगा कर के चोद डू लेकिन ऐसा नहीं किया, रश्मि क्या माल लग रही थी उसने रेड सलवार सूट पहन रखा था.

मैने भाभी से कहा

में : यही रुको न प्लीज़.

भाभी : अब तुम बोलते हो तो रुक जाते हे.

और भाभी ने मेरे जींस की जिप पार हाथ रख के लंड को रगड़ना चालू कर दिया. मैने हिमत कर के रश्मि के लिप्स पर लिपस रखे और जब  उसने कुछ नहीं कहा तो में उसके लिप्स को चूसने लगा. भाभी मेरे लंड को जींस के ऊपर से मसलने लगी थी और में रश्मि के बूब्स को सहला रहा था.

में : आःह अह्ह्ह अह्ह्ह रश्मि मेरी बहन तेरे लिए में कब से तडप रहा था, रश्मि भी मेरा साथ दे रही थी लेकिन थोडा डरी हुई थी और मैने उसके बूब्स को दबाना चालू कर दिया.

रश्मि : आःह्ह्ह्हह धीरे. में और जोर जोर से बहन के बूब्स को दबाने लगा और बहन मेरी जान है तू रश्मि आहाह आम्म्म.

भाभी : ओये मेरे रंडी बाज देवर जेसा मुझे बोलते हो वैसा ही बोलो नहीं तो में भी तुम्हारी गलिया नही सुनूंगी,

में : रश्मि मेरी बहन मरी रंडी आय लव यु.

रश्मि : आह आह्ह भाई.

मैने रश्मि के सूट को उपर किया और उसकी रेड ब्रा उह्ह्हह्ह, क्या मस्त बूब्स थे मेरी बहन के. मैने तो जल्दी से उसकी कुर्ती निकाल दी वो शरमा गई और अपने हाथ से छुपाने लगी. मेरी भाभी ने उसके हाथ पकडे लेकिन उसने हाथ नहीं खोले. मैने भाभी का ब्लाउज निकाल दिया और कहा.

में : मेरी बहन आज से तू मेरी हे. अपनि भाभी से मत शरमा और मैने उसके हाथ को पकड के धीरे धीरे अलग किया. अब में रश्मि के बूब्स को ब्रा के ऊपर से मसल रहा था.

रश्मि : भाई धीरे आह्ह अह्ह्ह अहह मम्म अम्म्म ओह्ह ओह्ह ओह्ह भाई. इधर भाभी ने रश्मि की सलवार निकाल दी और खुद भी नंगी हो गयी.

रश्मि को बहुत शर्म आ रही थी लेकिन में उसके बूब्स दबा रहा था तो उसे खूब मजा आ रहा था, मैने रश्मि के ब्रा को अलग कर दिया उफ़फ क्या मस्त गोर चिकने बूब्स थे बहन के?

में : वाह्ह्अह्ह्ह मेरी रंडी बाज बहन क्या मस्त गोर बूब्स हे तेरे रंडी, एकदम सॉफ्ट सॉफ्ट हे.. उफ्फ्फ्फ़ में उन्हें चूसने लगा और एक हाथ से रश्मि की बुर को पेंटी के ऊपर से ही सहलाने लगा भाभी ने मेरी जींस उतार दी थी और शर्ट तो मैने पहनी ही नही थी.अब में चड्डी ने था और रश्मि पेंटी में. और मेरी भाभी ने ब्रा और पेंटी पहन रखी थी. मैने भाभी की ब्रा निकाल फेकी और में रश्मि के बूब्स को चूसने लगा और रश्मि की पेंटी के अंदर हाथ डाल के बुर मसलने लगा. भाभी भी मेरा साथ दे रही थी. वो एल हाथ से खुद को मसल रही थी और दुसरे से रश्मि के बूब्स दबा रही थी.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। बहोत देर तक रश्मि के बूब्स चूसने के बाद में रश्मि के दोन्हो पेरो के बिच में बेठ गया और उसकी बुर को चाटने लग गया लेकिन भाभी ने मुझे उठा दिया और कहा की लेट जाओ.मैने ऐसा ही किया में लेट गया और फिर मेरी भाभी ने रश्मि को मेरे मुह पर बेठने को कहा. रश्मि ने उसकी चूत को मेरे मुह पर रख दिया और में उसको चाटने लग गया और तब भाभी मेरे लंड को चाट रही थी.रश्मि : आह्ह अह्ह्ह हह्ह्ह मम्म अह्हह ममं ओघ्ह्ह हाहाह भाई और कर हाहाह हहह आह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह मुझे पहले पता होता की चुदाई में इतना मजा आता हे तो में कब से तुजसे चुदवा लेती मुझे तो लगता था की चुदाई करने में सिर्फ मर्द को मजा आता होगा और ओरत की तो हालत ख़राब हो जाती हे. लेकिन में गलत थी तुम मेरी चूत चाट रहे हो या मुझे स्वर्ग की सफर करा रहे हो ये मुझे समज में नही आ रहा हे. मुझे अगर पहले मिल जाते तो में आज तक तुम्हारी पक्की रंडी बन गई होती और तुजे पराई ओरत के पास अपने लंड को शांत करने के लिए जाना भी नहीं पड़ता मेरे प्यारे भाई और चूस मेरी चूत को आज इसका सारा का सारा माल तू निकाल के पि जा. आअज मुझे सच्चा अहसास हो रहा हे की एक पुरुष ओरत की चूत को केसे चाट के साफ कर के उसे आनंद देता हे और उसे स्वर्ग में पंहुचा देता हे. आहाह्ह अह्ह्ह ..अहह्ह्ह ओह्ह्ह्ह.

भाभी : आज देखो दीदी तुम्हे जवानी का अहसास होगा. में तो लगा रहा था चूत को चाटने में. और मेरा लंड बहोत ही टाईट हो चूका था. और उसे अब किसी का होल चाहिए था.

मैने रश्मि से कहा.

में : चल आजा मेरी रंडी बहन अब तूने मुझसे बहोत चुसवा लिया हे और अब तू अपने भाई का मिठा मीठा लंड चूस के उसको खुश कर दे.

रश्मि : नहीं में यह कभी नहीं कर सकती मुझे एकदम गंदा लगता हे और मुझे एकदम से उलटी आ जाएगी.

भाभी : रहने दो देवरजी उसके साथ जोर जबरदस्ती ना करो उसका पहली बार हे और वह भी धीरे धीरे रंडी की तरह तुम्हारा लंड चूसने लग जाएगी और फिर तुम्हे भी बहोत मजे कराएगी लेकिन अभी तो शुरुवात हे तो तुम जरा आराम से करो.

अब मेरे लंड को तो ठंडा करना ही था तो मैने रश्मि को लेटाया और उसकी गांड के निचे तकिया लगाया और चार पाच थप्पड़ उसकी गांड पर मार दिए और उसकी गांड मैने गोरी गोरी से एकदम टमाटर की तरह लाल लाल कर दी.

yeh khani bhi jarur padhen => मेरी बीवी की सामूहिक चुदाई (Page1)

रश्मि : हरामजादे चोद रहा हे की मार रहा हे मुझे.

भाभी : प्यार से चोद लो देवरजी. यह बहन हे आप की, भाभी नहीं हे जो सब कुछ चुपचाप सहन कर लेग. मेरी तो मज़बूरी हे की मुझे मेरा मर्द खुश नहीं कर सकता वर्ना पराये मर्द के पास कोई नारी नहीं जाएगी और आज कल तो सबका फेशन चल रहा हे शादी से पहले एक बार सिल तुडवाने का. तो आप अपनी बहन की सिल आराम से तोड़ लो.

फिर मैने अपने लंड पे कंडोम चढ़ाया और बहन की बुर को मेरी उंगली से सहलाने लगा और फिर मैने भाभी से कहा.

में : आज तुम्हारी वजह से मुझे एक सिल तोड़ने को मिलेगी थेंक यु भाभी.

रश्मि : भाभी के गुलाम आब तो मुझे चोद दे कब से तडपा रहा हे मुझे.

अब में अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रख के रगड़ने लगा और मेरी बहन की आह्ह अह्ह्ह हह्ह्ह अम्मम्म अहह्ह्ह आन्हे सुनने में मुझे बहोत मजा आ रहा था. तभी भाभी ने मुझे न्यूज़पेपर दिया और कहा की इसको बहन की चूत के निचे रख दो अगर खून निकला तो इसमें आ जायेगा, फिर मैने भाभी को थैंक यु कहा और उसने कहा वैसे मैने पेपर को चूत के निचे रख दिया. फिर में अपना लंड उसकी चूत में धकेलने लगा. मैने लंड  को अंदर डालने के लिए थोडा जोर लगाया और मेरी बहन जोर से चीख उठी.आप ये चुदाई कहानी निऊ हिंदी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रश्मि : आःह हहह अह्ह्ह हह्ह्ह हहह मर गई में आःह अह्ह्ह्ह मा मर गई साले हरामजादे आह्ह्ह अहः बहनचोद उसकी आँख से अब आंसू निकल आये थे और मेरा तो एकदम पूरा का पूरा लंड अंदर जा चूका था. में थोड़ी देर तक बिना जरा भी हिले वही पर रुक गया. aap yeh khani gandi khaniya ki website se padhrahe hain

भाभी ने देखा तो रश्मि की चूत से खून निकल रहा था तो वह बोली

भाभी : दीदी बस अब काम हो गया हे अब आप को तकलीफ नही होगी. मेरी बहन रो रही थी और उसकी आँख से आंसू आ रहे थे और उसने बहोत मुश्किल से उसकी आवज को दबाके रखा हुआ था. अब मैने धीरे धीरे अपना लंड ऊपर निचे करने लग गया और उसे तो अभी भी दर्द हो रहा था. उसकी आवाज निकलने लगी तो मेरी भाभी ने अपना हाथ उसके मुह पर रख दिया. और में आपने लंड को अब जोर जोर से रगड़ने लगा. और थोड़ी देर बाद रश्मि को दर्द कम हुआ तो वह खुद आपने आप उछलने लगी थी.

रश्मि : आह्ह्ह अह्ह्ह ओह्ह्ह ओह्ह आह्ह अम्मम्म येस्स उआह्ह येस्स्स्स अह्ह्ह आह्ह्ह भाई और जोर से आह्ह्ह येस्स्स्स आज मेरी सारी प्यास मिटा दो आह्ह आह्ह और जोर से करो मुझे बहोत मजा आ रहा हे भाई आह्ह्ह हह्ह्ह येस्स्स्स उह्ह्ह्ह येस्स्स्स. आज अपनी बहन की चूत को फाड़ दे बहनचोद.

और फिर उसने मुझे अचानक से बहोत टाईट पकड लिया और कहने लगी के बस बस बस में समज गया की इसका पानी बहार आ गया हे. मैने उसे कहा रंडी २ मिनिट और रुक जाती तो क्या होता हरम जादी मेंरा पानी भी आ जता ना कुतिया.

रश्मि : बस अब नही प्लीज़,

में : मेरा पानी कोण निकालेगा.

भाभी : ओये रंडीबाज मुझे भूल गया क्या साले बहनचोद.

में : आरे मेरी रंडी तुजे तो में जिंदगी भर नही भूल सकता हु. मैने रश्मि को छोड़ दिया और फिर मैने अपने लंड का पानी मेरी भाभी को चोद कर निकाल दिया.उस दिन के बाद में, मेरी भाभी और मेरी बहन का चुदाई का खेल चालू हे.कैसी लगी हम डॉनो भाई बहन की सेक्स स्टोरी , अच्छा लगी तो शेयर करना , अगर कोई मेरी बहन के साथ सेक्स करना चाहते हैं तो उसे अब ऐड करो Facebook.com/Lund ki pyasi kamsin behan



 
Aunty Ki Chudai, Behen Ki Chudai, Bhabhi Ki Chudai, Chut Ki Chudai, Didi Ki Chudai, Hindi Kahani, Hindi Sexy Kahaniya, indian sex stories, Meri Chudai,meri chudai, Risto me chudai, Sex Jodi, आंटी की जमकर चुदाई, इंडियन सेक्सी बीवी, चुदाई की कहानियाँ,देसी, भाई बहन चुदाई, रिश्तों में चुदाई Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex


loading...

loading...

Friday, 10 November 2017

मेरी बीवी की सामूहिक चुदाई (Page 2)

(wife swaping meri biwi ki samuhik chudayi indian sex stories Page 2)
गतांग से आगे ….

HuMe ek andhere kamre Me le jaya ja rha tha jisMe andar murtiyan lgi hui thi aur usMe se roshni nikl rhi thi.Baki koi ek -dusre ko nhi dekh paa rha tha.Mujhe to yeh mauka ekdam se perfect laga.Usne apne bete ko god Me le rkha tha,maine bhi god Me uski bete ko le rkha tha taki wo chhut na jaye yah fir dab na jaye aur apna ek haath uski kamar Me daal rakha tha.Maine dheere se apna haath peeche le jakr uske gaand ke daraaron Me ungli krni shuru kr di,aur use khud se ekdam chipka liya.Woh mud kar mere taraf dekhi tabhi maine apne hoth uske hotho pe rakh diya.Woh samajh chuki thi ki main andhere ka pura faida uthane wala hun.Maine apna haath peeche se nikala aur seeedha uski chut ko chune lga.Tabhi uska beta andhere hone ke kaaran rone lga.Mujhe bahut tej gussa aaya.HuMe baahar niklna pada.Baahar niklne ke baad usne mera haath jhatak diya,uske chehre pe gusse ke bhaav the.Hum wohin khde hokr Kunal aur Neha ka wait krne lge.Khair hum wahan se nikle aur fir aage badh gye mela dekhne ke liya,Tabhi vandana ki tabiyat bigadne lgi.Itni bheed Me sahhyad us se bardaasht nhi ho rha tha,aur uska matha bhi chakkar de rha tha.Usne hum sbko rukne ko kaha,hum wohin ek side chle gye aur woh wahan ek chair par baith gyi. “mujh se ab chla nhi ja rha,mujhe chakkar bhi aa rha hai”vandana ne apni pareshaani btaayi. “arre yaar itna maza aa rha hai aur tumhe chakkar aa rha hai,kamaal kr rhi ho tum bhi”Kunal ne uske baat ko seriously nhi liya. “abbey ho jata hai aisa.Har kisi ko aadat nhi hoti bheed bardaast krne ki mujhe bhi kabhi-2 chakkar aa jata hai” maine uska bachaaw kiya. “arrey yaar hum itni door se aaye hain ghumne ke liye aur tumhari tabiyat khrab ho rhi hai.Aadha toh humne ghum hi liya hai.Ab fir kal thode hi na aayenge yehaan ghumne ke liye.Waise hi adjust kr lo kisi tarah fir sab saath Me ghum kar chal chalenge”.Kunal bhi apni jidd par ada rha. “nhi yaar ,agar is se bardaast nhi ho rha hai toh kyun jabardasti kr rhe ho,khin tabiyat aur bigad jaayega toh phir jyada pareshaani ho jayegi. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Tumhe rhna hai toh rook jaao, main ise lekr hotl chla jaaunga” maine uska vishwaas jitne ke liye bol diya. Phir kya tha Kunal meri biwi aur mera beta wohin rook gye aur main vandana aur uska dono bachhon ko lekr wapasi ke liye aane lga. Woh mele se baahar nikl kr thoda raahat ka saans le rhi thi lekin abhi bhi uska sir bhari tha.Humne taxi liya aur usMe baith gye,uske bete ko maine apni god Me le rkha tha aur bagal Me vandana baithi aur uske bagal Me uski beti.Usne apna sar piche seat pe tika rkha tha aur aankhen band Kar rakha tha.Maine uske sar ke upar haath rakh kar uske baalon ko sahlaane laga,usne apni aankhen kholi toh maine us se kaha ki apna sar mere kandhe par rakhkr so jaao.Is se pehle ki woh kuchh kehti maine apna haath uske gaalon par rakhkar apne kandhe par tika liya aur apni haath uske gaal par hi rakha uska reaction dekhne ke liye.Usne kuchh nhi kiya.Fir maine apna haath uske peeth ke peeche se nikal kar uski gardan par rakh diya.Fir dheere -2 uske sharir ko apne saath satane ki koshish krne laga.Woh kuchh bhi ni bol rhi thi.Maine use apni taraf khinchte-2 bilkul paas tak la diya ab uska lalaat bilkul mere hoton ke nazdeek hi tha. Mere dil ki dhadkan tej thi.
loading...


Maine niche ki tarf dekha uske doono chuchuyaan puri tarah se mujhe dikh rhi thi.Maine apna haath dheere se uski kamar Me pahuncha diya aur sahlane laga.Woh koi jabaab nhi de rhi thi bas saansen le rhi thi aur aankhen band kiye hue thi.Maine apna haath kamar se krte hue peeche le gya aur uski kamar sahlane lga.Tabhi taxi thoda upar ke tarf kudi aur maine mauka dekhte hue apna haath jhat se uski saari ke niche sarka diya aur uske gaand ka upari hissa chhune laga.Tabhi hum hotel pahunch gye.Maine taxi waale ko paise pay kiye aur use lekr upar hotel ki taraf chal diya.Fir hum uske kamre Me pahunch gye,maine us se poocha kya dawaai lani padegi.Usne kha ” nhi thoda aaraam krne ke baad apne aap thik ho jayega shaayad so lene ke baad”.Maine us se kha ki thikhai main jra apna dress change krke aata hun tab tak tum bhi kr lo. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Halanki us se abhi bhi chla nhi ja rha tha aur chakkar aa rha, maine us se kha thik hai jab tak Kunal nhi aa jata tab tak main yehin pe rhta hun. “thik hai” usne kaha.Main jhat se apna kamre Me gya aur Kunal ko fon milaya ,jaise hi usne uthaya “hello Kunal sun meri baat,tum ek kaam kro, main tmhare kamre Me sone jaa rha hun ,tum raat ko late se pahuncho aur Neha ko bolna ki itni raat ko unhe disturb krna sahi nhi hai main is kamre Me so jata hun aur phir mauj kr lena samjhe”. “thik hai.Kyun baat ban gyi kya teri vandana ke saath”. ” nhi,lekin jald hi ban jayegi” keh maine fon kata aur kapde badlne lga.Man hi man soch rha tha ki taxi Me jo kiya woh janti hai ya nhi main abhi bhi cnfrm nhi tha.Khair main jldi se uske kamre Me pahuncha toh dekha ki woh teenon samne bed par hi so rhe the.vandana ne pink color ki nighty pehni thi aur kya gazab dha rhi thi.

Halanki usne aankhen band kr rkhi thi,lekin uske bde-2 chunchiyon ko dekhkr mera dhairya jabab de gya.Land toh ek jhtke Me hi khda ho gya aur salaami krne lga. Uski nighty behad hi soft thi aur uske poore badan se chipki hui thi.Uska poore sarir ki banawat uske maxi se deekh rhi thi.Maine jhat se light off ki aur jakar uske bagal Me baith gya aur uska matha sahlane laga. “ab kaisi hai tmhari tabiyat” maine sahlate hue us se poocha. “thik lag rha hai lekin matha chakkar de rha hai”.Main wohin baith kar uska matha sahlane laga aur uske badan ka muyayna krne lga.Jaangh ke paas jakr uski nighty niche ho gyi thi aur main upar se hi uski chut ghati ko dekh rha tha. “chlo rhene do jaao tum bhi jakr so jaao.”usne mujh se kha aur apni aankhen band kr li.Main ab kya krta,room Me jaane ke alaawa mere paas aur koi chaara bhi ni bcha tha.Maine uske maathe par chuma aur fir gud night kha.Usne aankhen band kiye hi night kaha,meri himmat thodi aur badhi aur maine uske gaalon ko chum kar fir se good night kaha.Usne fir night kaha lekin aankhen ni kholi.Meri himmat badhte hi ja rhi thi maine abki baar uske gaalon par hoth sata diye aur waise hi rehne diye.Wo ekdam se aankhen khol kar apna muh peeche ki taraf le gyi .Main darr gya aur chup chap apne kamre ki taraf chla gya aur apna bister pe jakar let gya.Main ab soch Me pad gya kya krun, “mujhe aana hi nhi chahiye tha waise rehna chahiye tha,kya kehti woh. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Bas aisi hi baatein sochta rha.1 bajj rhe the par meri aankhon Me neend nhi thi,apne aap ko kos rha tha main.Aakhir kaar mujhse rha ni gya aur main phir se uske kamre Me chla gya.Woh thoda sikud ke soyi hui thi apna bachhon Me aur aadha bister khali tha.Main jaa kar chup chap let gya uske bagal Me aur sochne laga. Maine man hi man socha ki chalo ab himmat dikhaya jaaye,jyada se jyada Kunal ko bta hi to degi aur kya kregi,yeh sochte hue maine apni ungliyaan uske kulhon par tika di.Woh bade hi itminaan se so rhi thi mujhe lag rha tha ki ab woh normal ho gyi hai.Main apne haath halke -2 uske kulho par firane lga.Kitna soft sarir tha uska aisa lag rha tha jaise main barf ke upar ghuma rha hun. Woh poore chain se so rhi thi.Main lagbhag 4-5 min tak aise hi ghumate rha tabhi uske sarir Me halchal hui.Main ruk gya kuchh der baad maine fir se ghumani suru kr di.
Usne fir apne sarir ko hilaya,shaayad woh neend Me thi aur use achha lag rha tha.Par main jan na chahta tha ki woh ready hai ki ni mujhse chudne ke liye.Maine apni beech wali anguli uske gaand ke beech Me lakr chla gya aur dheere-2 aage peeche krne laga.Usne apne gaand se meri ungli daba di,maine fir se apni ungli uski gaand ke beech Me le gya usne phir se dabaya.Main samajh gya ki ise achh lag rha hai, par thoda confuse tha ki kahin ye nind Me to nhi hai.Isliye maine apni anguli uske gaand ki chhed par jakar thoda sa andar ki taraf dabaya.Meri anguli uske gaand Me thodi si chli gyi,maine thoda aur jor lagaya aur meri anguli thodi aur andar chli gyi.Kuchh der tak main ungli aage peeche krta rha.Ab uski saansen shaant ho gyi thi main jaan chuka tha ki ab yeh jaag chuki hai kyunki itna ungli krne ke baad toh koi bhi jaag jata.Bas phir kya tha maine peeche se uski poori nighty utha kar kamar tak pahuncha di aur panty ko neeche haath se kinch diya aur jaakar uske peeth Me sat gya.Mera lund toh buri tarah se fanfna rha tha.Maine fourn apna paint neeche kiya aur apna lund uske gaand ke beech Me dhans diya.Mera lund uske gaand ki ghaati Me gulaati marne laga aur main poori tarah se uske peeth Me chipak kar uski chunchiyaan dabaane laga.Usne unh tk ni kiya par main jaan gya ki yeh jaag chuki hai. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Fir use apne taraf ghumaya aur uske hoton ke upar apna hoth rakh diya.Bilkul gulaab ke tarah mulayam hoth the uske.Maine uske lower lips ko apne daanton ke beech Me halke se dabaya.Uske munh se siskari chhut padi.Mujhe darr lag gya kahin bachhen uth na jaayen.Maine us se kha chlo dusre kamre Me chlte hain.Usne kha tum chlo main inhe sula kar aati hun.Poore kamre Me andhera tha.Main torch ki roshni se dekhta hua andar gya aur foran apne saare kapre utaar ke nanga ho gya aur uska intejaar krne lga.Woh apne bachhon ko chadar odha kar waapas aane lgi.Andhera tha isiliye woh deewar aur furniture pakad ke aa rhi thi.Jaise hi woh darwaje pe pahunchi maine uski baanh pakad ke andar khencha aur apni baahon Me bhar liya aur apne hoth uske hothon par tika diya.Maine foran uski nighty utari aur phir se use apne baahon Me bhar kar uske hothon ko chusna shuru kar diya.Usne bhi mere gale Me apni baahen daal kar mujh se lipat gyi aur apni chut mere lund pe ragdne lagi.Main poori taqat se use apni baahon Me jakad liya aur apna jeebh se uske daanton par dastak dene laga.Usne apna muh khol kar mere jeebh ko apne andar jane diya.Hum dono ke jeebh mil chuke the aur aisa lag rha tha jaise kahin jwalamukhi visfot hua ho.Maine apna haath neeche krte hue uski gaand ko maslne lga.
Fir hum log apna jeebh se ek dusre ka swad lene lage.Maine apne jeebh se uske jeebh ko apne muh Me lekr aaya aur apne daanton ke beech Me halke se dabaya.Wo aaaaaaaaaannnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn ………….Annnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn krne lgi jaise koi choclate muh Me le rkha ho.Maine fir apne jeebh se uski jeebh ko pakada aur daanton ke sahaare use apne muh Me aur andar tak kheencha.Main jitna jyada uska jeeebh apne munh Me bhar sakta tha maine bhar liya.Uska pura munh khul gya tha aur mere donon hoth uske munh Me chle gye the.Phir maine jeebh Me jeebh fasakar aur daanton ke beech jakad kar poori takat se uske jeebh ko choosa.Uske shrir Me jaise bijli daud padi.Woh meri baahon Me boori tarike se chhatpataai lekin maine usi boori tarike se jakra hua tha.Woh bas kasmasa ker reh gyi.Maine phir ek baar poori taqat se uske jeebh ko choosa aur is baar jyada jor se.Usne mujhe poori jor se apni baahon Me bheench liya aur apne panjo ke bal khdi ho gyi aur jhdne lgi.Uski chut se jaise fawwara nikl rha tha aur mere jaanghon ko bheenga rha tha.Usne apni pakad dheeli chhod di aur sthir ho gyi.Maine dheere-2 uske jeebh ko apne munh Me se chhoda aur apni pakad dheeli chhod di.Us se khda nhi hua ja rha tha. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Maine use bed pe dheere se litaya.Usne apni aankhen band kr li thi.Main jaan gya ki yeh jhad chuki hai aur ise phir se charge krna padega.Main uske dono pairon ke beech Me ghus gya aur uske upar let gya.Mera lund uske chut ghaaati Me sarak rha tha.Uski chut poori tarike se geeli ho chuki thi.Maine uske gaalon ko chumna shuru kiya tabhi mujhe paani jaisa chip chipa kuchh mehsus hua.Woh ro rhi thi,main darr gya woh ro kyon rhi hai.Khi use apni galti ka ahsas toh nhi ho gya ya phir kahin maine jor se toh uske jeebh ko nhi choos diya.Maine fir se pyaar se uske hotho ko chuma aur poocha kya hua.Usne kha kuchh ni bas aise hi.Maine use phir se insist kiya toh usne btaya ki aaj jitna main pehle kabhi ni jhadi aur na hi mujh kabhi itna sukh ka ahsaas hua hai.I love u….Mere toh khushi ka thikana ni rha.Maine apna lund uski chut ghaati mein ragadte hue kha “aaj ke baad tum roj itna jhdogi”.Kehte hue maine uske hothon ko apne muh me le liya aur halke-2 apne daanton se kaatne laga.Uske badan Me sihran daud padi aur wo sssssssssssssssssssssssssssssssssssssiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii… Ki awazen nikalne lagi aur apne haath mere gaand pe rakhkr apne taraf dabaane lagi.Main apna lund ragadte hue main uske gale ko chumne lga.Woh apna haath mere baalon Me ghumane lgi aur masti Me apna sar ainthne lgi.
कहानी जारी है … आगे की कहानी पढ़ने के लिए निचे दिए पेज नंबर पर क्लिक करें ….

loading...   
Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya

Wednesday, 8 November 2017

मामा ने भान्जी की कुंवारी चूत फाड़ी - By Mastram

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

प्रेषक : नेहा …
loading...

हैल्लो दोस्तों, सबसे पहले मस्त लंडवालों और रसीली चूत वालों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम नेहा है, में अपने माता पिता की इकलौती संतान हूँ। मेरा घर मुंबई में मेरे मामा के घर के निकट ही था, इसलिए जब 10वीं क्लास में मेरे पापा का ट्रान्सफर गुजरात हुआ तो वो मुझे मेरे मामा मामी के पास छोड़ गये। उनकी शादी को 5 साल हो गये थे, लेकिन उन्हें बच्चा नहीं था। तब में सेक्स के बारे में थोड़ा जानती थी, लेकिन मेरे वहाँ जाने के 3 महीने में ही मामी पेट से रह गयी। वो लोग मुझे लकी मानते थे और वहाँ मेरा प्यार और ज़्यादा बढ़ गया था। अब मामी की तबियत खराब रहने लगी थी, उन्हें डॉक्टर ने सेक्स से भी मना कर दिया था। अब मामा मानों पागल हो गये थे और बस आते जाते कभी अपना लंड हिलाने लगते, तो कभी मामी की चूची मसल देते, तो कभी उनकी चूत पर हाथ फैरने लगते, उन्हें अपनी वासना मेरे पास होने का भी डर नहीं रहता था।

अब मामी बेचारी परेशान हो गयी थी और फिर कुछ दिनों के लिए अपनी माँ के घर चली गयी। फिर दो दिन तो मामा शांत रहे। फिर एक रात ऑफिस से आने के बाद अपने कमरे में जाकर नंगे हो गये और अपने लंड को सहलाने लगे। फिर में उन्हें बुलाने उनके कमरे में गयी तो उनके लंड को देखकर मेरे मुँह और चूत में पानी आ गया। फिर में छुपकर सब देखती रही। फिर अगले दिन से मैंने स्कूल और कोचिंग से आने के बाद घर में ब्रा पहननी छोड़ दी और कोशिश करती थी कि मामा की नजर मेरी चूचीयों पर पड़े। तो मामा ज़्यादा इग्नोर ना कर सके और उसी रात जब में सोने गयी, तो वो मेरे कमरे में आ गये। अब मुझे सोता हुआ पाकर उन्होंने अपने हाथ से मेरी चूचीयाँ दबानी शुरू की और मेरी नाइटी के बटन खोलकर मेरे निपल्स को चूसने लगे थे, उफफफफ्फ मुझे क्या मज़ा आ रहा था? अब मेरा दिल कर रहा था कि उनके लंड को अपने हाथ में ले लूँ।


loading...
फिर कुछ देर तक चूसने और काटने के बाद मामा ने मेरी बिना बालों वाली चूत पर अपना एक हाथ लगाया और उसको सहलाने लगे थे। अब मेरी हालत खराब हो रही थी और फिर जैसे ही उन्होंने अपनी जीभ मेरी चूत पर रखी तो में तड़पकर उठ गयी। अब वो मुझे उठता देखकर डर गये थे। तब मैंने कहा कि मामा प्लीज और चाटो मेरी चूत को, अपनी जीभ से उसको चोद दो। तो यह सुनकर मामा जोश में आ गये और अपने एक हाथ से मेरी चूची और अपनी जीभ से मेरी चूत चाटने लगे थे। अब मेरा हाल इतना बुरा था कि मैंने झट से मामा के लंबे सुंदर से लंड को पकड़ लिया था, वो बहुत ही गर्म और सख्त था। अब में उसे चाटने लगी थी और पूरा अपने मुँह में ले लिया था। अब में और मामा बहुत मस्त होकर 69 पोज़िशन में लंड और चूत को चूस रहे थे।

फिर कुछ देर के बाद हम दोनों झड़ गये। अब मेरा मुँह उनके अमृत से भर गया था। अब में उसे निगलकर तृप्त हो गयी थी और फिर मामा ने भी मुझे चाट-चाटकर साफ कर दिया। फिर कुछ देर तक हम ऐसे ही नंगे एक दूसरे को सहलाते रहे। अब हम दोनों बहुत खुश थे। फिर कुछ देर के बाद मामा का लंड फिर से खड़ा हो गया। फिर उन्होंने मुझे फ्रेंच किस करते हुए मुझे गर्म करना शुरू किया। फिर वो मेरे बदन के सारे हिस्से को अपनी जीभ से लीक करते और चूमते रहे और जब वो मेरे निपल्स को चूसने लगे। तो में मानों पागल हो गयी और उन पर टूट पड़ी और उनके बदन पर काटकर चूमकर और सारे बदन को अपने निपल्स सहलाकर इन्जॉय करती रही। फिर हम दोनों बहुत देर तक 69 पोजीशन में लंड और चूत को चूसते रहे। फिर जब दो बार मेरा पानी निकल गया और मेरी कुँवारी चूत चिकनी हो गयी तो तब मामा ने अपना लंबा लंड मेरी चूत के मुँह पर रख दिया और आहिस्ता से डालने लगे। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब दर्द और मज़े की वजह से मेरी चीख निकल गयी थी और मामा अपना लंड पेलते रहे और में मीठे दर्द और मज़े को सहती रही। फिर उसके बाद मामा ने तेज-तेज चोदना शुरू किया और लगभग 20 मिनट तक चोदने के बाद अपना पानी मेरी चूत के अंदर ही छोड़ दिया। अब में पता नहीं कितनी बार झड़ चुकी थी? लेकिन मुझे इतना आनंद आ रहा था कि ऐसा लगता था मामा बस ऐसे ही पेलते रहे। फिर रातभर में हमने 3 बार चुदाई की। अब सुबह मेरी चूत सूज गयी थी। फिर मामा ने गर्म पानी से उसकी सिकाई की। अब में स्कूल भी नहीं जा सकी थी। फिर मामा सुबह ऑफिस जाने से पहले मेरे पास आए और मेरे नंगे शरीर को सहलाते हुए अपनी जीभ से मेरी चूत को सहलाया और अपने लंड को मेरे मुँह में डालकर मुझे खूब चोदा। अब सुबह-सुबह ये अमृत पीकर में बहुत खुश थी।

loading...
C_Start_434063=(new Date).getTime();
फिर मामा के ऑफिस जाने के बाद में गाउन पहनकर सो गयी। फिर अचनाक से कुछ देर के बाद मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि मामा का ड्राइवर मेरी चूचीयाँ सहला रहा था और मेरी चूत को निहार रहा है। तो में घबराकर उठ गयी, तो तब उसने अपनी एक उंगली से मेरी चूत को सहलाते हुए कहा कि बीबी जी रातभत साहब से चुदी हो, कुँवारी चूत का तो कचुंबर बन गया है। तब में कुछ नहीं बोली। अब उसका हाथ फैरना मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और मेरा मन कर रहा था कि वो भी मुझे चोद दे। फिर उसने मेरे बदन से गाउन अलग किया और खुद के कपड़े निकाले और मेरी चूचीयों को मसलने लगा था। फिर जब उसने अपने लंड से मेरे निपल्स को सहलाया तो मेरी खुशी से चीख निकल पड़ी। उसका लंड मामा से बड़ा और मोटा था। फिर मैंने उसे खूब चूसा और उसके बॉल्स को सहलाकर और चूसकर मैंने उसके लंड की माँ चोद दी। अब वो मुझे चोदने को उतावला हो गया था, उसको सेक्स करते वक़्त गंदी और सेक्सी बातें करना पसंद था और ये आदत उसने मुझे भी लगा दी थी। अब में भी उससे खूब गंदी बात करके चुदवाती हूँ, मुझे अपनी गांड को उछाल-उछालकर लंड को चूत में लेना बहुत पसंद है। अब वो दोपहर तक मुझे 4 बार चोद चुका था, लेकिन अब ना उसका दिल भरा था और ना मेरा।
फिर शाम को मामा के आ जाने के बाद मेरा लंड चूत का खेल उनके साथ चलता रहा और उनके ना होने पर उनका ड्राइवर मुझको चोदता रहा। फिर मामी के आने तक घर में यही होता रहा। अब वो आ गयी है, तो मामा स्कूल जाते वक़्त चोदते है और ड्राइवर वापसी पर चोदता है। अब में इतनी चुदासी हो गयी हूँ कि कोचिंग के सर का लंड अपनी चूत में लेने को मरी जा रही हूँ, आप सब मेरे लिए प्रार्थना करना कि उनका लंड जल्द मेरी चूत फाड़ दे ।।

धन्यवाद

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com


loading...




Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya

Tuesday, 7 November 2017

दर्द-ए-रंडी - Ek Randi ki Prem Katha -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

दोस्तो, आज मैं आपको एक नई कहानी सुनाने जा रहा हूँ. आशा है आपको पसंद आएगी.

कुछ दिन हुये, हम सब दोस्त बैठे पेग शेग लगा रहे थे कि तभी एक दोस्त ने कहा- यार आज मौसम बड़ा अच्छा, दारू पीने का भी बहुत मज़ा आ रहा है, ऐसे में अगर साथ में एक रंडी चोदने को मिल जाए, तो मज़ा और भी दुगना चौगुना हो जाए.

उसकी बात सुन कर सबके कच्छे टाईट हो गए. हम सब 4 दोस्त थे, मगर 4 में तीन ऐसे थे जो नौकरी पेशा थे, शाम को घंटा दो घंटा तो चल जाता मगर अगर सारी रात बाहर बितानी हो तो फिर घर में भी कुछ ऐसा सॉलिड बहाना होना चाहिए कि हम भी रात घर से बाहर गुज़ार लें और बीवी को शक भी न हो.

तो सबने मिल कर सलाह बनाई कि अगले शुक्रवार यह बहाना बना कर घर से निकलेंगे कि चंडीगढ़ हैड ऑफिस में कोई ज़रूरी काम है, और अपने बॉस को चंडीगढ़ के फाइव स्टार होटल में पार्टी देनी है, इसलिए देर बहुत हो जाएगी, अगर लेट हो भी गए तो अपने दोस्त का घर है वहाँ पे, वहीं पे सो जाएंगे ताकि रात को ड्राइव करने से भी बचा जा सके.

पूरा प्रोग्राम बना कर चारों यार शुक्रवार को दोपहर को ही अपने अपने ऑफिस में आधे दिन की छुट्टी टिका कर निकाल पड़े. एक जगह इकट्ठे हो कर गाड़ी में बैठे और दौड़ा दी गाड़ी चंडीगढ़ को.
दो घंटे के सफर के बाद हम सब चंडीगढ़ नहीं, बल्कि पंचकुला गए, वहाँ पे हमारा एक और दोस्त था, जिसे हमने सारी ज़िम्मेवारी सौंपी थी. वो हमें एक बढ़िया होटल में लेकर गया. दारू हमारे पास थी, वेटर को आते ही 500 रुपए की टिप दी, ताकि वो सिर्फ हमारे हर हुकुम का फौरन पालन करे.
दो रूम बुक थे, हम एक रूम में पहुंचे, पहले बीयर की बोतलें खुली, चिकन, चबेना, रायता, सलाद सब आ गया. मिनटों में ही पूरी महफिल सज गई.

फिर रोहन ने अपना फोन निकाला और किसी से बात की, उसको अपना होटल का नाम और रूम नंबर बताया, फिर हमसे बोला- 15 मिनट में आ रही है.

अभी शाम के 5 बजे थे, तो हम सबने सलाह की कि अभी नहीं करेंगे, पहले सिर्फ एंजॉय करेंगे, ठोकाठाकी रात को डिनर के बाद ही करेंगे.
ए सी को फुल कूलिंग पे चला दिया, टीवी पर गाने लगा लिए. खाने पीने का इंतजाम हमने नीचे फर्श पर ही किया था, ताकि हर कोई खुल्ला होकर आराम से बैठ सके.

अभी हमने एक एक गिलास बीयर पिया ही था कि दरवाजे पे दस्तक हुई. सतीश ने दरवाजा खोला तो बाहर एक 24-25 साल की सुंदर सी लड़की खड़ी थी. उसने पूछा- मिस्टर रोहन?
विजय झट सो बोला- हाँ हाँ, रोहन आइये.
वो अंदर आ गई.
उसे देखते ही सभी यार दोस्त उठ कर खड़े हो गए.

24 साल की मंजीत नाम की वो लड़की, अभी उसकी शादी नहीं हुई थी, किसी प्राइवेट फर्म में जॉब करती थी. रंग बहुत गोरा, बदन पतला मगर फिर भी भरपूर गदराया हुआ, सपाट पेट, पेट के ऊपर दो उन्नत, गोल मम्मे, पेट के नीचे कटावदार कमर, मजबूत दिखने वाली जांघें. कद कोई 5 फीट 6 इंच. लंबी सी चोटी जो उसके चूतड़ों तक झूल रही थी. गालों पर गुलाबी रंगत. सफ़ेद कुर्ता और हरे रंग की लेगिंग, हरे रंग की ही चुनरिया.

रूम के अंदर आ कर वो हमारे सामने आई, तो हम सब ने हाथ मिला कर उसका अभिवादन और स्वागत किया. उसने अपनी सेंडिल उतारी और हम सब के साथ ही बैठ गई.
उसके एक तरफ मैं, दूसरी तरफ विजय, और रोहन और सतीश सामने बैठे थे.

“तो आप लोगों ने पहले ही पार्टी शुरू कर दी.” अपनी मीठी आवाज़ में वो बोली.
हम सब “हे हे हे” करके हंस दिये.

सतीश बोला- दरअसल आपके आने से पहले हम थोड़ा माहौल बना रहे थे और एक एक बीयर से थोड़ी हिम्मत जुटा रहे थे.
वो बोली- अरे आपको हिम्मत की ज़रूरत, आप चार हो, हिम्मत तो मुझे चाहिए, मैं तो अकेली हूँ.

रोहन ने सबके गिलासों को फिर से भर दिया, इस बार एक और गिलास मंजीत का भी था.

हम सबने अपने अपने गिलास आगे बढ़ा कर एक साथ टकराए और ज़ोर से ‘चियर्ज़’ कहा. हमारे साथ मंजीत ने दो तीन बड़े बड़े घूंट भर कर गिलास आधा खाली कर दिया.
रोहन ने कहा- आप बीयर की शौकीन लगती हैं.
मंजीत बोली- बीयर क्यों, कुछ भी लाओ, मैं सब खा पी लेती हूँ. नखरा किसी चीज़ में नहीं करती.

मैंने पूछा- सिगरेट?
वो बोली- हाँ हाँ, क्यों नहीं.
तो सब ने सिगरेट भी सुलगा लीं.
loading...

बीयर की जगह अब व्हिस्की ने ले ली. कभी चिकन, कभी टिक्का, कभी पनीर, कभी कुछ तो कभी कुछ आता जा रहा था. ज्यों ज्यों नशा तारी हो रहा था, सब मंजीत से और ज़्यादा खुल रहे थे. पहले तो उस से आप करके बात हो रही थी, फिर तुम और फिर सीधा तू हो गए. मगर वो बहुत सहज थी.

हंसी मज़ाक के माहौल में रोहन बोला- मंजीत, अगर मैं कहूँ तो तुम सिर्फ ब्रा पेंटी पहन कर हमारे साथ ड्रिंक करो, तो करोगी?
वो बोली- अजी हुज़ूर, आपने तो मुझे खरीद लिया है, ब्रा पेंटी क्या, मैं तो बिना कुछ पहने भी आपके साथ ड्रिंक कर सकती हूँ.
हम चारों की तो जैसे बांछें खिल गई.

सतीश बोला- तो फिर उतारो, ये टॉप और लेगिंग.
मंजीत बोली- मगर आप लोग भी तो उतारो.

अगले दो मिनट के अंदर हम सभी यार सिर्फ चड्डी में और हमारे बीच बैठी मंजीत सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी. सफ़ेद ब्रा और गुलाबी पेंटी. बगलें, बाजू, टाँगें सब अच्छे से वैक्स की हुई. छोटी सी चड्डी उसने पहनी थी, जिसे देख कर लग रहा था कि इसकी चूत भी बिल्कुल चिकनी होगी.

मैंने उसकी जांघ पर हाथ फेर कर कहा- बहुत चिकनी हो जानेमन.
वो बोली- आपकी जानेमन चिकनी नहीं होगी तो क्या होगी.
‘हाय…’ कह कर सभी यार लोग खुश हो गए.

सतीश ने आगे हाथ बढ़ा कर मंजीत का मम्मा दबाना चाहा मगर उसका हाथ नहीं पहुँच रहा था, तो मंजीत आगे को बढ़ गई, उसने दोनों हाथ आगे टिकाये, जिससे वो घोड़ी वाले पोज में आ गई, तो रोहन और सतीश ने उसके मम्मे दबा कर देखे तो विजय ने उसकी पीठ को सहलाया.
मैंने पीछे से देखा, गुलाबी चड्डी में गोल, मांसल चूतड़. मैंने उसकी गांड को सहलाया. जैसे उसके बदन में बिजली हो कोई, उसके अधनंगे बदन को छूते ही हम सब यारों के लंड टनाटन्न हो गए. सबकी चड्डियाँ ऊपर को उठ गई.
वो बोली- अरे आप सब तो बहुत गरम हो, सब के हीटर चालू हो गए. मैंने उसकी चड्डी एक तरफ हटा कर उसकी गांड के छेद को अपनी उंगली से छू कर कहा- तुम में करंट ही इतना है जानेमन, सब के हीटर तो चालू होने ही थे.

मैंने अपनी उंगली उसकी गांड में डालनी चाही तो उसने रोक दिया- सॉरी सर, मैं पीछे कुछ नहीं करती, जो भी करती हूँ, सामने से करती हूँ.
मैंने उसकी चड्डी ठीक कर दी और वो फिर से बैठ गई.

अब सब के मन में ये सवाल था कि पहले कौन करे. मैंने कहा- मैं तो सबसे लास्ट पारी खेलूँगा, जिसने पहले खेलना हो खेल लो.

मंजीत वहीं कार्पेट पे ही लेट गई. उस अधनंगी लड़की को अपने सामने लेटा देख कर सब ये भूल गए कि ठोका-ठाकी डिनर के बाद करने का प्रोग्राम था.
रोहन ने उसे उठाया और वैसे ही अधनंगी हालत में दूसरे रूम में ले गया. हमारी तो जैसे महफिल से रौनक ही चली गई हो, मगर फिर भी हमने सब आपस में उसके हुस्न की और इधर उधर की बातें करते हुये, अपने पेग का प्रोग्राम जारी रखा.

कोई पौने घंटे बाद रोहन आया, तो फिर विजय चला गया, विजय के बाद सतीश. इसी दौरान 9 बज गए, तो हमने खाना ऑर्डर किया.

हम सब ने तो चड्डियाँ पहन रखी थी, मगर मंजीत बिल्कुल ही नंगी थी. इसलिए उसे सिर्फ कुर्ता पहना दिया गया. अब सिर्फ उसे चोदने वाला मैं ही बचा था. खाने की इतनी भूख तो थी नहीं मगर फिर भी सबने थोड़ा बहुत खा लिया. खाना खा कर सब यहाँ वहाँ बैठ गए, हर कोई मंजीत के बदन और उसके गुप्तांगों को छू कर सहला कर अपनी अपनी ठर्क मिटा रहे थे.
मगर मैंने उसे नहीं छूआ. मुझे ये था कि अगर अभी ज़्यादा छू कर देख लिया, तो कमरे में जाकर सेक्स करने का मज़ा खत्म हो जाएगा.

खाना खाने के बाद भी हम बैठे बातें करते रहे. करीब 10 बजे मैंने कहा- मंजीत, क्या हम चलें?
वो उठ कर खड़ी हो गई- चलो जी, आपको भी जन्नत की सैर करवा लाऊं.


loading...
मेरे यारों ने बड़ी खुशी से मुझे विदा किया. दूसरे रूम में जाकर मंजीत बेड पे लेट गई. जांघों तक उसका कुर्ता था, मगर नीचे नंगी गोरी, चिकनी टाँगें चमक रही थी. कुर्ते में से उसके गोल गोल मम्मे भी अपना पूरा आकार दिखा रहे थे.
वो आँखें बंद किए लेटी थी. मैंने उसके पास लेट कर उसके चेहरे पे गिरी उसकी जुल्फें हटा कर पूछा- थक गई क्या?
वो बोली- हाँ थोड़ी सी, तीन तीन मर्द, एक के बाद एक मेरे ऊपर चढ़े हैं. सब कोई कुछ न कुछ खा कर आते हैं. बदन को ऐसे नोचते हैं, जैसे गिद्ध हो. सारा बदन तोड़ कर रख देते हैं.

मैंने कहा- अगर तुम आराम करना चाहो, तो सो जाओ, हम सुबह कर लेंगे.
उसने करवट ली और मेरे सीने पे अपना सर रख दिया, जैसे वो मेरी पत्नी हो, या दिलरुबा हो.
‘नहीं…’ वो बोली- आपका मूड तो अभी है, तो अभी करेंगे.
मैंने पूछा- और तुम्हें जो तकलीफ होगी?
वो बोली- 10 साल हो गए इसी तकलीफ को सहते, अब कोई भी दर्द… दर्द नहीं लगता.

मैंने कहा- मंजीत तुम्हें एक बात बताऊँ, मैं सारी दुनिया से चोरी, सबसे छुपा कर सेक्सी कहानियाँ लिखता हूँ. अगर तुम चाहो तो मैं तुम्हारी कहानी भी लिख सकता हूँ.
वो बोली- अरे नहीं नहीं, मुझे कोई कहानी नहीं लिखवानी है. कल को और कोई पंगा पड़ गया तो.
मैंने कहा- मैं तुम्हारा नाम, स्थान सब बदल दूँगा. और कहानी छापने से पहले तुमको पढ़वा दूँगा, अगर कोई चीज़ तुम्हें गलत लगे तो बता देना, मैं उसे मिटा दूँगा.

उसने पूछा- तो कहानी छपेगी कहाँ पर?
मैंने कहा- कहानी अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज़ डॉट कॉम पर छपेगी, तुम वहाँ से पढ़ लेना.
वो थोड़ा सोच कर बोली- कोई दिक्कत तो नहीं होगी?
मैंने कहा- अगर मैं तुम्हारा नाम मंजीत भी लिख दूँ, तो हिंदुस्तान में कितनी मंजीत हैं, किसी को क्या पता, चंडीगढ़ की जगह, दिल्ली, मुंबई कुछ भी लिख दूँ, किसी को क्या पता!
वो बोली- आप ऐसा करो, पहले आप आज हम सब ने जो किया है, उसकी कहानी लिख कर छपवाओ, जब वो कहानी मैं अन्तर्वासना पर पढ़ लूँगी, तो फिर आपको अपनी कहानी बताऊँगी. पूरी डीटेल में, मैं कौन हूँ, मेरा असली नाम क्या है, मैं क्या करती हूँ, कहाँ रहती हूँ. इस धंधे में मैं कैसे आई, कौन मुझे लेकर आया. अब तक कितने लोगों से मैं सेक्स कर चुकी हूँ, कैसे कैसे लोग मुझे मिले, सब बताऊँगी.

मैंने कहा- ठीक है, तो पहले आज का काम शुरू करें.
मैंने उसकी ठोड़ी पकड़ कर उसका चेहरा ऊपर उठाया, और उसके नीचे वाले होंठ को अपने होंठों में लेकर चूसा, तो उसने अपनी गोरी चिकनी जांघ उठा कर मेरी जांघ पर रखी और अपने घुटने से मेरे लंड को सहलाने लगी.

मैंने भी करवट ली और अपनी जांघ उसकी दोनों जांघों के बीच में फंसा दी, और उसकी चूत पर अपनी जांघ रगड़ी. फूल जैसे मुलायम चूत… होंठ चूसते चूसते मैंने अपनी जीभ उसके मुँह के अंदर डाल दी, जिसे उसने चूस लिया, बल्कि अपने मुँह के अंदर ही खींच लिया और ज़ोर से अपनी सांस छोड़ी, आग जैसे गरम सांस मेरे चेहरे पे लगी तो मेरे अंदर भी उसने कामवासना भड़का दी.

मैंने भी उसका मम्मा पकड़ा और ज़ोर से दबा दिया. उसके मुँह से हल्की सी दर्द भरी सिसकारी निकली, जो शायद उसके मम्मे दबाने के दर्द से निकली थी, मगर वो सिसकारी मेरे मुँह में ही दफन हो कर रह गई.
उसके दर्द की परवाह किए बगैर मैंने उसके दोनों मम्मे पूरे ज़ोर से दबाये और अपनी बालों वाली खुरदरी जांघ से उसकी चूत को रगड़ना जारी रखा. मेरे और उसके जिस्म की डील डौल में बहत फर्क था, मेरे सामने तो वो आधी ही थी, मगर फिर भी मेरे जिस्म के वज़न को बर्दाश्त कर रही थी.
मैंने अपना हाथ उसके कुर्ते में डाल कर उसकी नंगी पीठ के मांस को भी अपनी मुट्ठी में भर भर के नोचा, उसका कुर्ता ऊपर उठा कर उसके मम्मे बाहर निकाले और उसके निप्पल को अपने मुँह में
लेकर न सिर्फ चूसा, बल्कि दाँतों से काट भी खाया.


loading...
उसने भी अपना हाथ मेरी चड्डी में डाल कर मेरा लंड पकड़ा हुआ था और ज़ोर ज़ोर से सहला रही थी.

मैंने उसका कुर्ता उतार दिया. रोशनी में उसके दोनों मम्मे लाल हो रखे थे, कुछ मेरे निचोड़ने से और कुछ मुझसे पहले जो तीन धुरंधर आए थे, उनके दबाने से. लाल मम्मे देख कर मुझे कुछ तरस आया, तो मैंने सिर्फ उन्हें प्यार से सहलाया और बड़े आराम आराम से पिया.
फिर मैं उसके मम्मों से नीचे उसके पेट को चूमा, चाटा. कमर के इर्द गिर्द और उसकी जांघों पर अपनी जीभ फिराई.

मैंने पूछा- मंजीत, मैं तुम्हारी ये गुलाबी चूत चाटना चाहता हूँ.
वो बोली- चाट लो, अभी आपके आने से पहले ही धो कर आई हूँ. बिल्कुल फ्रेश है.

मैंने उसकी चूत के दोनों होंठ अपने होंठों में भर लिए. उसने मारे सर को पकड़ लिया और अपनी कमर थोड़ी सी ऊपर को उठाई, शायद उसको मज़ा आया. मैंने सिर्फ उसकी चूत ही नहीं, उसकी गोरी चिकनी जांघें, घुटने, पिंडलियाँ, पाँव, सब को चूमा चाटा.
मेरा तना हुआ कड़क लंड हवा में लहरा रहा था. मैं आगे बढ़ा और उसके सीने पर जा बैठा.

उसको कहने की ज़रूरत नहीं पड़ी, मेरे बैठते ही उसने मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ा और मेरे लंड के टोपे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. मैंने अपनी कमर चलाई और ज़्यादा से ज़्यादा अपना लंड उसके मुँह में घुसाता गया, वो भी लेती गई.

मगर मुँह छोटा होता है, मेरा पूरा लंड उसके मुँह में अंदर नहीं जा पा रहा था, शायद उसको सांस लेने भी तकलीफ हो रही थी. मैंने कहा- बस और मत चूसो, कोंडोम चढ़ाओ इस पर.
उसने अपने सिरहाने के नीचे से पहले से ही रखे कोंडोम के पैकेट में से एक कोंडोम निकाला और मेरे लंड पर चढ़ा दिया.
मैंने उसके पाँव पकड़े और खींच कर बेड के बीचों बीच लेटा दिया, दोनों टाँगे उसके टखनो से पकड़ कर खोली और अपना लंड बिना छूये ही उसकी चूत पर सेट किया, और एक झटके से उसकी चूत में घुसा दिया.

‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ एक जोरदार आवाज़ उसके मुँह से निकली और चेहरे पर बेहद दर्द के भाव आए.
शायद मेरा लंड उसकी चूत में अंदर जा कर ज़ोर से लगा. मैंने पूछा- दर्द हुआ?
वो बोली- नहीं, कुछ नहीं, वैसे ही, आप करो.
मैंने कहा- यार ऐसे मत करो, अगर दर्द होता है, तो बताओ, ताकि मैं प्यार से करूँ, मैं तुमको दर्द नहीं मज़ा देना चाहता हूँ.
वो बोली- अरे नहीं सर, मैं यहाँ मज़ा लेने नहीं, आपको मज़ा देने आई हूँ, आप का जैसे दिल करे, आप करो.

मुझे उसकी दरियादिली बहुत अच्छी लगी. मैंने अपनी कमर हिला हिला कर उसको चोदना शुरू किया.
मैंने पूछा- मंजीत, पहली बार कब तुमने सेक्स किया था.
वो बोली- जब मैं कॉलेज में थी, तो अपनी बॉय फ्रेंड के साथ किया था.

मैंने कहा- मगर तुमने अभी थोड़ी देर पहले कहा कि तुम 10 साल से ये काम कर रही हो.
वो बोली- अपनी मर्ज़ी से तो मैंने अपनी बॉय फ्रेंड से ही किया था. 10 साल पहले तो कोई मजबूरी थी मेरी, आपको फिर कभी बताऊँगी, उस वजह से मजबूरी में किया था, उसको मैं नहीं गिनती.
इस दौरान मैंने उससे और भी बातें की, और थोड़ी देर चुदाई करने के बाद मुझे थोड़ी सांस चढ़ी तो मैंने उसको ऊपर आने को कहा.
मैं नीचे लेट गया और वो मेरे ऊपर आकर बैठ गई. मेरा लंड अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत में ले लिया और ऊपर नीचे हो कर मुझे करने लगी.

उसकी रफ्तार बहुत धीमी थी, मगर हर बार ऐसा लगता था, जैसे वो मेरे लंड को अंदर तो एकदम आराम से लेती है, मगर बाहर निकालते वक़्त जैसे अपनी चूत को टाइट कर लेती है.
उसका तो पता नहीं, मगर इस से मुझे बहुत आनन्द मिल रहा था.


loading...
कुछ देर ऐसे चुदाई करके मैंने फिर उसको घोड़ी बनने को कहा. जब वो घोड़ी बनी तो मैंने उसके पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाला और बजाए उसके कंधे पकड़ने के मैंने उसकी बालों की चोटी अपने हाथ में पकड़ ली, और उसके बाल खींच कर मैंने उसकी चुदाई की.
बेशक उसको दर्द हो रहा था, मगर वो फिर भी नहीं बोली.

मैंने कहा- आज आया घोड़सवारी का मज़ा. नीचे घोड़ी और हाथ में लगाम.
वो सिर्फ हंसी, मगर उसकी हंसी भी नकली सी लगी.

घोड़ी बना कर मैंने उसे खूब चोदा. काफी देर की चुदाई के बाद मुझे लगा कि मुझे अब अपना माल गिरा देना चाहिए. मैंने कहा- मंजीत मैंने तेरे मुँह में अपना पानी छुड़वाना चाहता हूँ.
वो बोली- ठीक है, मगर मैं पीती नहीं.
मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला, तो वो मेरी तरफ घूमी, उसकी आँखों में हल्का पानी सा नज़र आया मुझे.

उसने मेरे लंड से कोंडोम उतार दिया, तो मैं भी बेड के साथ पीठ टिका कर बैठ गया. उसने फिर से मेरा लंड अपनी मुँह में ले लिया और लगी चूसने.
मैंने उसका सर पकड़ा और उसके सर को आगे पीछे करके उसका मुँह चोदने लगा. मैं तो चाहता था कि मेरा पूरा लंड उसके मुँह में घुस जाए. उसके चेहरे पर दर्द के साफ भाव थे, मगर मुझे सिर्फ अपना पानी निकालने तक मतलब था.

मेरा लंड शायद उसके गले में जा कर लग रहा था. मैं तब तक नहीं हटा, जब तक मेरा माल नहीं गिरा, और जब गिरा तो मैंने उसका सर अपने पूरे ज़ोर से खींच कर अपने पेट से लगा लिया.
मेरा सारा लंड उसके मुँह में घुस गया था, और मेरा माल उसके मुँह के अंदर झड़ रहा था. जब तक पूरा माल नहीं झाड़ा मैंने उसका चेहरा नहीं छोड़ा, और जब उसका चेहरा छोड़ा तो मैंने देखा, उसका मुँह लाल हो रखा था, आँखों से आँसू टपक रहे थे. सांस रुक गई थी.

उसके मुँह से मेरा लंड निकलते ही वो अपना हाथ मुँह पर रख कर बाथरूम की तरफ भागी, और मैं बेड पर चित्त लेट गया.


थोड़ी देर बाद वो फ्रेश हो कर आई, मैं वैसे ही लेटा था. वो मेरे ऊपर ही लेट गई, और बोली- और भी कोई आएगा क्या?.
मैंने कहा- तुम में अब भी इतनी हिम्मत है कि और मर्दों को झेल लोगी.
वो बोली- मैंने एक साथ 10-10 मर्द झेले हैं, 2-4 से मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता.

मैं सोचने लगा, यार बेचारी कितना दर्द सहती है, अपना जिस्म बेचती है, तब कहीं जा कर बेचारी को कुछ पैसे मिलते हैं.
सच है, कोई इनका दर्द नहीं समझता.

मैंने अपनी चड्डी पहनी और वापिस अपने दोस्तों वाले रूम में आ गया.

मुझे देखते ही सतीश बोला- आ गया तू, बड़ा टाइम लगा कर आया, चल अब मैं जाता हूँ, फिर से!
और वो दौड़ता हुआ दूसरे रूम में चला गया.

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

दोस्त की गर्म बीवी की सेक्सी स्टोरी -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

मैंने नई जॉब ज्वाइन की थी, वहां मेरी दोस्ती राज से हुई, हम काफ़ी अच्छे दोस्त बन चुके थे.

एक दिन राज ने मुझे अपने घर डिनर के लिए इन्वाइट किया. मैंने भी हाँ कर दी. ये मेरा पहली बार था, जब मैं राज के घर जाने वाला था. पर मैंने ऑफिस के सब लोगों से एक ही बात सुनी थी कि राज की वाइफ दिखने में सेक्सी और अदाओं में मल्लिका शेरावत है. तभी से में भी एग्ज़ाइटिड हो गया था.

आख़िरकार वो वक़्त आ गया. शाम बीतने के बाद जैसे ही 9 बजे, मैं राज के साथ उसके घर पहुँचे. उसने बेल बजाई.. कुछ पल बाद अन्दर से दरवाजा खुला और मैं देखता ही रह गया.

सामने एक परी खड़ी थी रेड कलर की साड़ी और बैकलैस ब्लाउस पहने हुई राज की बीवी मुस्कुरा रही थी. मैंने निगाह भर के उसे देखा. उसके चूचे शायद 36 या 38 के होंगे और उसकी कमर 26 की होगी. उसने साड़ी भी नाभि के नीचे पहनी हुई थी. तभी मैंने सोचा ऑफिस वाले इससे मल्लिका कहते हैं, पर ये तो हॉटनैस में मल्लिका को भी पीछे छोड़ रही थी.

उसने मुझसे हाथ मिला कर हैलो कहा. जैसे ही मैंने हाथ मिलाया, उसके गरम हाथों के स्पर्श से मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने सोचा हाथ इतना गरम है तो पूरी बॉडी का क्या हाल होगा.

फिर जैसे ही मैंने उसका हाथ दबाया, वैसे ही उसने एक कटीली स्माइल दी. उफ क्या कातिलाना स्माइल थी.

हम सभी अन्दर गए. मैं उसके पीछे था तो उसकी मटकती गांड देख रहा था.. उसकी गांड जबरदस्त हिल रही थी. उसकी नंगी और एकदम गोरी पीठ उफफ्फ़.. कमाल का आइटम थी.

उसने मुझसे कहा- आप बैठिए मैं खाना परोसती हूँ.
loading...
हम बैठ कर बातें कर रहे थे इतने मेंराज की बीवी कामिनी पास आकर खड़ी हो गई और खाना परोसने लगी.

मैं बस उसकी बदन की महक ले रहा था मेरा एक हाथ वैसे ही अपने खड़े लंड पर चला गया. उसने मेरा वो लंड सहलाना देखा और फिर से स्माइल की.

फिर वो सामने की तरफ चली गई और राज के बाजू में बैठ गई. अब हम दोनों आमने-सामने थे. हम दोनों एक-दूसरे को स्माइल देते हुए डिनर कर रहे थे.

राज को समझ ही नहीं आ रहा था कि चल क्या रहा है. वो मजे से डिनर कर रहा था. इतने में उसने मुझे और राइस लेने के लिए आग्रह किया, पर मैंने मना कर दिया. फिर भी वो उठी और और मुझे राइस ज़बरदस्ती देने के लिए झुकी.

उफफ्फ़.. वो आम का बाग़ मेरे सामने खुल ही गया थे.. उसके झूलते मम्मे देख कर मेरा मन कर रहा था कि राज न होता तो इसे ऐसे ही पकड़ लेता.
खैर वो राइस दिए जा रही थी और मैं उसके मम्मों को देखे जा रहा था. वो सब समझ चुकी थी.
तभी मैंने ‘बस..’ कहा.
हम फिर से खाने लगे.


loading...
तभी मुझे पैर में कुछ महसूस हो रहा था, मैंने देखा तो कामिनी मेरे पैरों से खेल रही थीं और स्माइल कर रही थी. तभी मैंने सोच लिया कि कामिनी की कामवासना मैं पूरी करूँगा.

फिर मैंने जानबूझ कर कहा- कामिनी भाभी जरा और राइस दीजिए ना!
वो जैसे ही राइस देने झुकी.. उसका पल्लू गिर गया.
ओऊऊ.. ओहह.. क्या नज़ारा था.

पर राज अपनी बीवी की इस बात से गुस्सा हो गया.
मैंने कहा- राज इट्स ओके, ये मेरी भाभी है.
फिर मैंने कहा- भाभी, वहाँ से आपको तकलीफ़ हो रही है आप मेरे पास मतलब मेरे बाजू में बैठ जाइए.
वो भी झट से मान गई.


loading...
अब तो सामने प्लेट में चिकन, बाजू में कामिनी की महक.. अह.. मैं तो जन्नत में था.

उतने में राज को कॉल आया, वो बात करने में बिज़ी था. तभी मैंने कामिनी की गाल पर किसी दे दी.
वो सन्न रह गई, थोड़ी देर उसका मुँह खुला रह गया.

तभी राज ने फोन पर बात खत्म की और उससे कहा- कम्मो, क्या हुआ?
तब वो होश में आई.. उसने कहा- क..कुछ नहीं.
फिर उसने मेरी तरफ देखा, स्माइल की और खाने लगी.

फिर मैंने सोचा कि अब तो ग्रीन सिग्नल मिल गया. मैंने धीरे से हाथ उसकी जाँघों पर रखा और दबाने लगा. वो अपने होंठ दांतों के नीचे दबाने लगी. मैं धीरे-धीरे उसकी साड़ी ऊपर को कर रहा था लेकिन उसने मना कर दिया.
मैंने धीरे से कहा- प्लीज़ करने दो.. मुझे तुम्हारी पैंटी चाहिए.
पर उसने मना किया. फिर भी मैं जबरदस्ती करने लगा, उसकी वजह से दाल मेरे पेंट पर गिर गई.

मैं झट से उठ गया, वो हंसने लगी.
राज ने कहा- कम्मो, जरा इसे वॉशरूम दिखाओ.
वो स्माइल करते हुए बोली- चलिए दिखाती हूँ.

वो आगे, मैं पीछे.. जैसे ही हम वॉशरूम में दाखिल हुए, वो नल चालू करने झुकी. मैंने तुरंत उसको पीछे से पकड़ लिया और उसके मम्मों को दबाने लगा. वो सिसकारियां भरने लगी. मैंने उसे पलटी किया और उसके रसीले होंठ चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद हमें होश आया. राज ‘कम्मो कम्मो..’ आवाज़ दे रहा था.
तभी कामिनी ने कहा- बस करो, वरना राज यहाँ आ जाएगा.

फिर वो अपनी साड़ी ठीक करके जाने लगी, मैंने उसकी गांड दबाई और उसके पीछे चला आया.

हमने डिनर ख़त्म किया. मैं अपने घर के लिए निकलने लगा. कामिनी और मैं स्माइल किए जा रहे थे. फिर राज ने कहा- चलो मैं तुम्हें बाहर तक छोड़ देता हूँ.

मैंने कामिनी को बाय बोला और बाहर आ गया. पर ऐसा सूखा-सूखा बाय मुझे अच्छा नहीं लगा. तो मैंने राज से कहा- अरे मैं अपना पैकेट अन्दर ही भूल गया हूँ.. जरा रूको, लेकर आता हूँ.


loading...
मैं अन्दर घुसा और कसके कामिनी को किस करने लगा. फिर मैंने कहा- चलता हूँ.

उसने मेरा हाथ पकड़ के अपनी ओर खींचा, उसने मेरी पेंट में कुछ रखा और कहा- तुम्हारे लिए गिफ्ट है, घर जाके देखना.

फिर हमने स्मूच करके बाय बोला. मैंने घर जाकर पहले अपनी पेंट उतार कर देखा कि क्या गिफ्ट है.

मैंने देखा कि वो कामिनी की पैंटी थी और उस पर उसने अपना मोबाइल नम्बर लिपस्टिक से लिख कर दिया था.

उस रात मैं सो नहीं पाया. अगले दिन का इंतजार करने लगा.

जानिए अगले दिन क्या और कैसे हुआ. आपको मेरी सेक्सी स्टोरी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल कीजिए.

जैसे ही मुझे एक भी मेल मिलेगा, मैं अगले दिन की स्टोरी पोस्ट कर दूँगा.

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com


देसी गर्लफ्रेंड के साथ हॉट सेक्स -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

हैलो हॉट बाय्स और गरम सेक्सी गर्ल्स.. मेरा नाम विक्की है और मुझे हिंदी में हॉट सेक्स कहानियां और चुटकुले पढ़ना पसंद हैं. मैं लखनऊ में रहकर पढ़ाई करता हूँ.

बात उस समय की है जब मैं 18 साल का था और अपने घर में रहता था.
मेरे घर के पास में ही एक देसी सी लड़की रहती थी, जिसका नाम ममता था. ममता का फिगर स्लिम है और वो बहुत गोरी लड़की है. मैं और ममता एक-दूसरे को पसंद करते थे और मैं कभी-कभी उसको अपने घर बुलाकर उससे बातें करता था. हम दोनों एक ही उम्र के थे और कभी-कभी हम किस भी कर लिया करते थे. लेकिन परिस्थितियों के चलते हमारा चुदाई का कार्यक्रम कभी नहीं बन पाया.

अब मैं जब पढ़ाई करने लखनऊ आ गया तो मैं यहाँ अलग रूम लेकर रहता था. वो भी लखनऊ के एक कॉल सेंटर में जॉब करने लगी.
मैंने ममता से उसका नंबर ले लिया और फिर हम दोनों के बीच मैसेज और मोबाइल पे बातों का दौर स्टार्ट हुआ.

एक दिन बात करते-करते मैंने उसको थोड़ा सा सेक्सी मैसेज सेंड कर दिया. पहले तो वो थोड़ा नाराज़ हुई लेकिन बाद में वो भी सेक्सी मैसेज में चैट करने लगी.

एक दिन मैं उससे मोबाइल पर बात कर रहा था तभी मैंने उससे कहा- मैं तुमसे मिलना चाहता हूँ.
वो बोली- मिल कर क्या करना है? मैं तुमसे डेली बात तो करती हूँ ना!

loading...
फिर एक दिन मैंने उससे हॉट चैट करना स्टार्ट किया और बाद में चुदाई की बातें की. अब वो हॉट हो गई.. और उसने मुझे चुत में आग लगने की बात कही.
फिर मैंने उसको फिंगरिंग करना बताया. उस दिन वो लाइफ में पहली बार अपनी चुत में उंगली करके झड़ी. उसने मुझे बताया कि उसकी चुत से खूब सारा सफेद पानी निकला.
कुछ दिन बाद उसने मुझसे चुदवाने का मन बनाया. चूंकि हम दोनों एक-दूसरे को पसंद करते थे इसलिए उसको कोई दिक्कत नहीं थी. मैंने उसको अपने रूम पर बुलाकर चोदना चाहा, वो राज़ी हो गई.

अगले दिन वो कॉल सेंटर ना जाकर मेरे रूम पर आ गई. मैंने उसका वेलकम किया और उसे बांहों में भरते हुए उसके गालों पे एक किस कर ली. वो मेरे रूम पर चूड़ीदार सलवार और कुर्ता पहनकर आई थी, जिसमें उसके चूचे और मस्त गांड उभर आई थी. वो बहुत मस्त लग रही थी.
वो बहुत हॉट और एग्ज़ाइटेड थी फिर भी नखरे दिखाते हुए बोली- ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- मैं तुमसे प्यार करता हूँ.. आई लव यू!
तो उसने भी हामी भरते हुए मुझे उत्तर दिया.

फिर क्या था.. मैंने तुरंत ही उसे अपनी बांहों में भर लिया और पागलों की तरह किस करने लगा. मेरा लंड पूरा खड़ा था. जब मैं किस करने लगा तो पहले तो उसने कोई रेस्पॉन्स नहीं दिया लेकिन थोड़ी देर के बाद वो भी मेरा साथ देने लगी.
उसे किस करते-करते कब मेरे हाथ उसके मम्मों पे पहुँच गए, मुझे पता ही नहीं चला. थोड़ी देर बाद वो बहुत एग्ज़ाइटेड हो गई थी, तब मैंने उसका कुर्ता उतार दिया और उसको किस करने लगा. साथ में मैं उसको कमर के ऊपर सहला रहा था, उसकी साँसें तेज़ हो रही थीं. वो मेरा नाम लेते हुए चुदास से सिसक रही थी और मुझसे पूरा चिपक गई थी.

अब मुझसे रहा नहीं गया, मैंने उसकी ब्रा उतार दी और उसके मम्मों को चूसने लगा. उसके चूचे एकदम तने हुए थे और मैं उन्हें चूस रहा था.
ममता ने मेरा लोवर उतार दिया और मेरा लंड सहलाने लगी. मुझे उसका लंड छूना बहुत अच्छा लगा. फिर वो ‘आअहह ऊऊहह..’ की आवाज़ करने लगी.
हम दोनों वासना की आग में जलने लगे. फिर किस करते-करते मैंने अपना एक हाथ उसकी सलवार के ऊपर से ही उसकी चुत पर रख दिया.

क्या बताऊं दोस्तो कि उसकी चुत कितनी ज़्यादा गर्म थी. कुछ देर तक मैं ऐसे ही चुत सहलाता रहा. फिर मैंने उसको अपनी गोद में उठाया और बेड पर लिटा दिया.
अब मैंने उसकी सलवार निकाल दी और खुद भी पूरा नंगा हो गया. मैं उसकी गीली पेंटी के ऊपर से ही चुत को सहलाने लगा. चुदास का माहौल बन गया था. मैं उसको कान पर, गले पर, होंठों पर.. लगातार चुम्बनों की बौछार किए जा रहा था. फिर मैं उसको उल्टा करके उसकी बैक पर किस करने लगा और उसे चाटने लगा. हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था.
फिर मुझसे रहा नहीं गया, तब मैंने उसकी लाल धारीदार पेंटी को उतार दिया. उसकी छोटी सी चुत को देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया. मैं 69 पोज़िशन में होकर उसकी चुत चूसने लगा और साथ-साथ उसकी गोरी जांघें और कमर के आस-पास भी बहुत चूसने-चाटने लगा.


loading...
मैं चूसते हुए उसकी बहुत टाइट चुत में उंगली भी कर रहा था, जो उसको बहुत पसंद आया. अब वो और तेज़ी से मोन करने लगी. कुछ ही पलों में तो वो जैसे झड़ने ही वाली हो उठी थी. दो मिनट बाद वो झड़ गई. मैं उसकी चुत का सारा पानी पी गया, जो मुझे बहुत अच्छा लगा.
वो भी उत्तेजना में मेरा लंड चूसने लगी और थोड़ी देर बाद में भी झड़ने लगा. उसने भी मेरा पूरा पानी पी लिया. अब वो भी हांफ रही थी और मुझसे चिपकी हुई थी.

मैंने उसकी आँखों में चुदाई की भूख देखी और मैं 69 से उठ कर उसके पास लेटकर उसको प्यार करने लगा. हम दोनों फिर एक बार गर्म हो गए और उसने मुझे जल्दी से चोद देने को कहा.
उसके दोनों पैर मैंने फैला दिए, उसकी चिकनी गुलाबी हॉट चुत मेरे लंड के सामने थी और मेरा लंड अन्दर जाने को तैयार था. मैं उसकी चिकनी चुत पर लंड सहलाने लगा और वो तड़पने लगी.

loading...

मैंने उसकी गीली चूत पर लंड रखकर दबाया तो वो उछल पड़ी और थोड़ा डर भी गई. उसने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया और मैंने भी चुदाई कुछ देर के लिए रोक दी.
फिर मैंने उसको एक छोटी सी हॉट सेक्स मूवी दिखाई, जिसमें नई चुत की सील टूटने के बाद चुत को मिलने वाले मजे का नजारा था.

अब वो समझ गई और मुझसे चुदवाने के लिए अपनी टांगें फैला दीं. मैंने फिर धीरे से उसकी चुत में लंड डाला, उसको बहुत दर्द हुआ और मैं उसके दर्द को कम करने के लिए उसको किस करने लगा और चुचियों को चूसने लगा. थोड़ी देर बाद वो रिलेक्स हुई और अपनी गांड हिलाने लगी. मैं भी तैयार था, मैं झटके मारने लगा और साथ में वो भी उछलने लगी. उसकी गीली चुत छपचप की आवाज़ कर रही थी जो कि मेरा जोश बढ़ा रही थी. फिर मैं उसको बहुत तेज़ रफ्तार से चोदने लगा और वो भी चुदवाने लगी.

हम दोनों बहुत गरम थे. धीरे-धीरे उसका बदन अकड़ने लगा.. उसने अपने नाख़ून मुझमें गड़ा दिए और वो झड़ गई.
अब मेरा लंड उसकी चुत में बहुत आसानी से जा रहा था. थोड़ी देर बाद मैं भी झड़ गया और अपना माल उसकी चुत में डाल दिया. पूरी चुदाई के बाद मैं उसको अपने पास लिटाकर प्यार करने लगा और वो आई लव यू बोलकर मेरी बांहों में आ गई.

हम थोड़ी देर यू ही रिलेक्स हुए और थोड़ी देर बाद हम फिर से हॉट हो गए हालांकि उसने कहा कि रहने दो, उसकी चुत में दर्द हो रहा है, मैंने फिर भी उसको मना लिया.
अब मैं ममता की चुत चूसने लगा. मुझे उसकी चिकनी चुत अब और भी टेस्टी लग रही थी. वो भी मज़े से मेरा लंड चूस रही थी. फिर मैंने उसको अपने लंड पर बिठाया और धीरे-धीरे चोदने लगा. हम दोनों को इस बार ज़्यादा मज़ा आ रहा था. मैं ममता को अपने ऊपर बिठाकर चोद रहा था और वो बहुत मज़े से मेरे लंड पर उछल रही थी. उसकी चुत से अजीब सी ‘पुच्छ पुच्छ..’ की आवाजें आ रही थीं और वो बीच-बीच में मुझे किस भी कर रही थी.

ममता का गोरा बदन चमक रहा था और उसका मुँह लाल हो गया था, वो ‘आआह.. अहह अहह मेरे विक्की.. अब मैं रोज़ तुमसे चुदवाऊंगी.. अह.. मेरी चुत फाड़ दो.. आई लव यू.. आह..’ कहे जा रही थी.

उसकी कामुक सीत्कारें मेरा जोश बढ़ा रही थीं. फिर जब मैं झड़ने वाला हुआ तो मैं रुक गया और पोज़िशन बदल ली. अब वो घोड़ी बन गई और मैं उसको पीछे से चोदने लगा. वो लंड डलते ही एक बार और झड़ गई.

उसने हाँफते हुए मुझसे कहा कि वो थक गई है और कई बार झड़ चुकी है. तब मैंने उसको ज़ोर-ज़ोर से चोदा, जिससे वो एक बार और झड़ गई. उसे बहुत थकान हो गई थी और वो दर्द से कराहने लगी.
तब मैंने अपने लंड को उसकी चुत से निकाल लिया. वो तुरंत उठकर मेरा लंड चूसने लगी और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

अब हम दोनों थक चुके थे. मैंने उसको चार घंटे तक चोदा था. फिर हम साथ में नहाये, जहाँ मैंने उसकी चुत साफ़ की और उसने मेरा लंड चूसा और धोया. मैंने उसकी चुत में उंगली की. इधर वो इतनी एग्ज़ाइटेड हो गई कि वो झड़ने के साथ मूतने भी लगी.
हम दोनों ने नहा कर कपड़े पहने. उसने मुझे एक लम्बा किस किया. फिर हमने बिस्तर ठीक करके नाश्ता किया और उसने अनवॉंटेड की दवा ले ली. मैं और ममता अपनी पहली चुदाई के बाद बहुत खुश थे.


loading...
ममता और मैंने एक-दूसरे को चुदाई के बहुत मौके दिए और आगे की कहानी में मैंने कैसे ममता को रात में रूम पर बुलाकर चोदा और कैसे उसकी मालिश करके तेल लगाकर उसकी गांड मारी.. जो मुझे बहुत पसंद आई.
वो किस्सा आगे की चुदाई की हॉट सेक्स कहानी में लिखूंगा.

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com