Showing posts with label Dost Ki Biwi. Show all posts
Showing posts with label Dost Ki Biwi. Show all posts

Friday, 10 November 2017

मेरी बीवी की सामूहिक चुदाई (Page1)


(wife swaping meri biwi ki samuhik chudayi indian sex stories Page 1)



Dosto aaj mai ek jordar sachchi kahani bta rha hu ye kahani meri apni wife ki hai. jise mere 4 dosto ne mere samne khub maje se choda meri wife ki chut me 2 dosto ne ek sath land ghusa diya meri wife ki chikh nikal gyi. Mujhe ye sab dekh ke khub mza aa rha tha aap puri kahani padh kar apni raay jarur dena ab meri wife roj alag alag logo se sex karna chahti hai mai kya karu pahale to aadat maine khud hi lagaya ab use roj naye naye land chaiye. jab meri biwi ki chut phad gayi thi. aur gand me choda jor jor se.
Meri biwi ka naam vandana hai. Woh behad hi sexy hai aur poore bhare poore shrir wali. Uska rang gora aur figure 34-28-40 hai. Uske poore shrir Me agar kuchh dekhne layak hai to sirf aur sirf uski gaand.Jab chalti hai toh lgta hai ki bhookamp aa jayega.Uski chuchiyaan bhi badi-2 hai.Blouse Me hi nhi aate. Delievery hone ke baad uska sharir kuchh jyada hi phail gya tha. Khair mere aur Kunal Me kuchh jyada hi banti hai.
Hum dono koi bhi kaam ek saath krte khi bhi ek saath jaate chahe toilet bhi jana ho to.Agar ek saath khi bahar bhi ghum rhe hote toh khub ldkiyan tadte aur khub cmnt krte.Ya office Me kaam krne waliyon ke baare Me ek dusre se khub baaten krte.Hum dono ek dusre se pura khule hue the.Har weekend pe hum dono hi apni family ko lekr ek saath hi ghumne jaate.Dheere-2 hamari family Me bhi kareebi ban gyi.Ab woh dono bhi ek hi saath shopping krne jati thi.Khair humlogon ki kaafi achhi zindgi kat rhi thi.Hum ek dusre ki beebiyon se khub hansi mzaak krte the lekin ek limit Me.Par jab hum aapas Me akele hote toh kuchh bhi bol dete the.

Jaise kabhi woh late aaaya toh “kya be abhi tak chod hi rha tha.”ya phir kabhi ice cream kha rhe hote to “kya be aise apni beebi ki chut chat ta hai kya.”kabhi-2 ek dusre ko chidhane ke liye bhi hum bolte ki ” yaar teri bibi ki gaand bahut badi hai kitni baar chodta hai gaand Me tu”.Woh bhi bolta “teri beebi ki gaand toh itni badi hai ki thand Me rajai ki jrurat hi nhi hai usi Me ghus kr so jaao.
Aaise hi humara mzaak chlta par dheere-2 hum bore hone lage.Ab mann nhi lgta ki aur kya kren.Ek din waise hi meri bibi ke baare Me kuchh bol rha tha tsbhi maine kha ki “kya tu meri bibi ko chodega?”usne kha “milega to kyun nhi”. Maine kha toh phir main bhi tumhari bibi ko chodunga.Halanki humne yeh baaten mzaak Me hi kahi thi lekin mujhe bahut hi achha mehsus ho rha tha.Maine use bhi btaya ki yaar doosre ki beebi ko chodne ki baat sunkr mera lund khra ho gya aur bahut hi achha lagne lga hai.Usne kha haan yaar mzaa to mujhe bhi soch ke aa rha hai lekin woh taiyaar nhi hogi.Main toh janata tha ki meri bibi bhi taiyaar nhi hogi lekin uski toh pakka taiyaar nhi hogi.vandana kafi serious kism ki lady thi.Hum apne-2 ghar chle gye aur us raat main kafi excited tha aur Neha ko jamkr choda.Agle din mujhe Kunal mila usne btaya ki yaar Neha ko chodne ka mera bahut mann kr rha hai,main behad hi exciting hun aur raat ko maine vandana ko 3 baar choda.Mere dimaag Me sirf vandana hi ghum rhi hai.Maine use baithne ka ishaara kiya. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Aur phir hum sochne lage ki kya karen,main bhi vandana ke baare Me soch-2 ke pagal hue ja rha tha.Usne kaha ki yaar koi upaay kar lekin apna kaam niklwa de yaar.

Yeh bahut hi mushkil tha kyunki agar hum direct baat krte toh wo inkaar kar deti aur phir humara sapna pura hi nhi hota.Maine bol diya ki yaar ek kaam krte hain,itni jldi toh unse sex nhi kr paayenge kyun ki woh conservative family se belong krti hain,ek kaam kr aaj chal market chlte hain unke liye sexy saree kharidenge aur tum use wohi pehna kar raat ko dinner pe leka aao.Abhi dhere-2 hum koi planning bnate hain tabtak dekh-2 ke to man bhra jaaye.Meri baat se woh sehmat ho gya.
Phir hum market chle gye.Shaam ko jab main office se ghar pahuncha to Neha ko btaya ki dekho main tumhare liye kya laya hun.Kehkar maine saari use dikhaai woh khush hokar mere hothon ko chumne lagi. Maine bhi use baahon Me bhar kar uska gaand apne haathon Me lekr dabaane lga.Tabhi usne kaha ki beta ghar par hi hai.Hum jaldi alag ho gye.Maine btaya ki aaj Kunal aane wala hai aur humne ek saath hi yeh saari khridi hai.Woh khush ho gyi aur dinner ki taiyaari krne lagi.Phir maine kha ki woh saari hi pehnna taki dekh ske ki kaisi lag rhi ho.Maine use bra nhi pehnne di aur kaha ki kya pehan rhi ho khi baahar thode hi na jana hai.Woh maan gyi.Phir Kunal apne family ke saath aaya.Mere kahe mutabik usne bhi bra nahi pehnne di thi aur aa gya tha.Main toh vandana ko dekhte ho reh gya.Uski chuchiyaan poore blouse Me phaili hui thi aur uski chuchiyon ka upari hissa aur silicon valley poori tarah se dikhaayi de rhi thi.Main toh ek tak dekhte hi ja rha tha.Usne meri nazren pakad li aur apna pallu sidha krne lagi.Kunal bhi Neha ko dekhe hi ja rha tha.Phir humlog yun hi baaton Me lag gye.
Main Neha ki nazren bacha kar vandana ko khub ghure ja rha tha aur yehi kaam Kunal bhi kar rha tha.Aakhir huMe kisi ka darr bhi nhi tha.Phir maine kha ki Neha khana lagao khaya jaaye.Tabhi Kunal bol pada “tum auraton ka samman kiya kro saara kaam us se hi krate ho tum bhi kabhi madad kr diya karo”.Maine kha kar legi.Neha hans kar chli gyi. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Toh usne kaha “vandana jaao jra uski madad kr do”.Main kha “mujhe toh nasihat de rhe ho aur khud kis se kaam kra rhe ho,”usne kaha pooch lo main iski kitni madad krta hun. “are woh to tumhe bchane ke liya vandana bol hi degi,kyun vandana?”woh bas neeche dekh kr hasne lagi. “achha to tujhe kr ke dikhata hun” keh kar woh uth kar kitchen Me chla gya.Yeh meri hi planning thi. “toh aur sab kaisa chal rha hai vandana”maine uske chuchiyon ke taraf dekhte hue poocha.Main jaan bujhkar use dikha rha tha taki woh samajh sake ki main uski chuchiyan hi dekh rha hun.

Maine Kunal ko bhi samjha diya tha ki kitchen Me hi bhaane-2 se Neha ko touch bhi krte rhna.Neha utni strict nhi thi woh itna mzaak chlaa leti thi lekin vandana ke liye mushkil tha.Main baaten kr rha tha aur poori besharmi se uske hothon, chuchiyon aur ,chut ke taraf dekh rha tha aur woh bhi meri bhaavnaaon ko samajh rhi thi.Tabhi unhone aawaaz de di khaane ke liye. Kunal aur Neha bachhon ko khila chuke the aur bachhe tv dekhne Me mashgool the.Jab hum pahunche toh dekha Kunal aur Neha pehle baith chuka tha round table pe aur humara intejaar kr rhe the .Main vandana ke bagal Me baithna chahta tha aur woh Neha ke bagal Me.Isliye kaha ki main toilet kr ke aata hun tabhi Kunal bola main bhi kr leta hun warna beech Me lag jaayegi toh mzaa khraab ho jayega.Phir hum toilet krke saath nikle aur baaten krte-2 main vandana ke bagal ka chair khinchne lga aur Kunal Neha ke bagal Me.Tabhi main ruk gya ki main kiske paas aa gya hun “abe kahin baith kr khana hi hai na” kehte hue Kunal baith gya aur saath Me main bhi.Un dono ko pata nhi tha kaun sa khel chla ja rha hai hamare dwara.Phir hum khane lage aur beech-2 maen kuchh baaten bhi krte jaate. “kuchh bhi kaho iss sari Me Neha khub janch rhi hai” Kunal ne kha aur uski taraf dekhne laga.Woh has padi maine bhi vandana ki khub tareefen ki. “aaj main Neha ko apne haathon se khilaaunga” kehte hue Kunal ne apna ek haath uske peeth pe rakha aur dusre haath se khila diya.Badle Me Neha ne bhi use khilaya.Kunal uski anguliyan chatne laga aur bola “khana itna tasty hai ki log anguliyan bhi chaat jayenge”.
ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Neha hasne lagi.Maine bhi ek niwala bna kar Neha ke peeth pe haath rakh kar uske muh Me daal diya aur uske hothon ko chu liya.Apna dusra haath maine abhi bhi uske peeth pe rakha hua tha aur sahla rha tha.Woh mera intension samajh to rhi thi lekin kuchh bol nhi paa rhi thi.Phir main use dikhate hue uske hoton ko chhue hue anguliyan chatne lga.Woh bechari shrma gyi.Phir usne apne haathon se khilaaya aur maine bhi uski anguliyaan chhtne laga.Phir aise hi krte-2 hum khana kha kar uth khde hue.Phir usne mujhse kaha “ab toh huMe jana padega vandana tum jra gaadi nikalwaao main bchhon ko lekr aata hun.Yeh kehte hue woh Neha ke saath chla gya.
Main vandana ko lekr neeche utrne laga tabhi uske pair ladkhda gye aur woh girne ko ho aayi,main bhla kha chukne wala tha aisa mouka.Maine use apni baahon Me kas liya.Uski chuchiyan mere chhati se sat chuki thi aur main uske dil ki dhadkan mehsus kr rha tha.Uske sharir ka maans kaafi garam aur naram tha,mera lund to ek jhtke Me pura khda ho gya. Main kafi der tk aise hi apna lund uski chut Me sata kr khra rha,usne mujhse alag hone ki koshish toh ki lekin maine majbooti se use thaame rha.Tabhi upar chlne ki halchal sunaai di.Phir woh mujhse alag hui aur maine gaadi nikaal di aur woh sab chle gye.Us raat ko maine vandana ke baare Me sochkar Neha ki khub chudai ki. “kya baat hai viagra kha liye ho kya” usne mujhse poocha. “darling i luve u” keh kr main so gya.Agle din hum mile to usne bataya ki usne Neha ko khub chhuya hai,bahut mast hai yaar ,in cheezon ka boora nhi manti,mzaa aa gya.Maine kha ki saale tujhe to mzaa aa gya lekin main to jyada kuchh bhi nhi kr paaya.Khair hum aise hi ek dusre ke ghar jaate aur yun hi mzaa lete lekin baat sirf hasi mzaak tak hi rhti thi.Hamari pyaas dinodin badhti ja rhi thi lekin ladies huMe mauka nhi de rhi thi. “yaar kyun na inhe wine pilaa kar apni-2 chudai ki khujli mitaa li jaaye” maine Kunal se kha. “nhi yaar lekin usMe mzaa nhi aayega, aur kya pata vandana piye hi nhi aur jabardasti pee bhi le toh khi use ulti na ho jaaye,tab lene ke dene pad jayenge.Koi dusra idea soch”.Main samajh nhi paa rha tha ki kya karun. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Khair kuchh dinon tak aisa hi chalta rha, Neha aur Kunal khul gye the par mere samne hi hasi mazaak krte the aur akele Me bhi krte the lekin Neha janti thi ki limit ko cross nhi krna hai.Par main janta tha ki Neha Kunal pe vishwas krti hai aur agar situation bni aur Kunal ne emotional blackmail kiya toh Neha aasaani se chud jayegi.Lekin asli problem vandana thi kyonki woh jyadatar shaant rhti thi aur khud Me hi lagi rhti thi,Kunal ne btaya tha ki utni chudakkad nhi hai lekin yeh chudai ka virodh nhi krti.Tum jitna chod skte ho chod lo lekin yeh apne yaraf se jyada effort nhi lgaati.Shaayad uska sharir phail gya tha isliye ya fir 2 bchhe ho gye the isliye.Lekin mujhe toh hot lgti thi woh chubby jrur thi lekin moti nhi thi aur utna toh auraton ko hona hi chahiye.Par meri samasya thi ki use taiyaar kaise krun aur Kunal ne bta diya tha ki woh kvi manegi nhi iske liye.
<
Lekin main bdaa hi optimistic aadmi hun.Maine ek din Kunal se kha ki yaar kuchh din chhutti le kr chlte hai shimla ghumne ke liye aur wohi pe inhe chod ke pyaas bujhayenge apni. “tumhare paas koi plan hai vandana ki lene ke liye”Kunal ne poocha. “nhi,lekin kisi na kisi tarah situation bna lenge aur agar har taraf se fail ho gye to phir neend ki goli dhokhe se khilakar thoka jayega”.Maine use bta diya. “aur sun apne bachhon ko kihin aur bhijwa de main bhiapne bete ke liye koi intejaam krta hun” maine apni baat complite ki. “yaar yeh toh mushkil hai ki woh mere bete ko liye bagair itni door jaye,mujhe to nhi lgta” Kunal ne apni majboori bta di. “thik hai chal bachhon ko bhi le lenge” maine kha ,ab to mauka bnana aur bhi mushkil lgne lga.Khair hmne 5 dinon ki chhutti le li aur wahan jaane ki taiyaari krne lge.Maine bhi apne bete ko saath le liya aur chal pde.Maine Kunal ko samjha diya tha ki agar baat ban jaaye toh kbhi bhi Neha ko yeh mat btana ki main in sab cheezon ke baare Me janta hun nhi toh hum apni beebi ki nazar Me gir jayenge.Woh meri baat maan gya.Humne flight se shimla pahunche aur ek hotel Me 3 dinon ke liye 2 room book kr liya.Main to chahta tha ki 1 hi room liya jaaye taki kuchh kaam ban jaaye lekin vandana ne mana kr diya,kha ki bachhe bhi hai isliye ek room me rehna mushkil hai.Neha ne bhi uske baat ka samarthan kiya.Ab hum kya kr skte the, planning pehle stage Me hi fail ho gyi thi.Khair hum apne-2 room Me pahunche.
2 bed room the bde-bde aur room bhi kafi saja hua tha.Room ka size bhi bda tha.Tab main samjha ki log shimla ghumne kyun jate hain jyadater.Khair us din hum pahunchne ke baad soye aur fir shaam ko uthe dinner krne ke liye.Khana kha kr hum thoda bachhon ke saath ghumne nikle.Ghumna to bahana tha hum koi mauka bnana chahte the lekin baat nhi bann paa rhi thi. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Main toh sirf vandana ke sharir ko ghur rha tha aur beech-2 Me uske gaand ko ya peeth par haath fer deta tha jis par woh thoda satark ho jati thi,jabki Kunal toh pura maje se uska baanh pakadkar cheezon ko dikha rha tha.Main samajh gya ki Kunal ka ban jayega mujhe apna kismat bnana hoga.Humghumkar wapas aa gye Neha toh thak chuki thi lekin main nhi.Maine use chodne ke liye uthaya aur usne beman se apni taangen khol ke sone lagi jabaki main poore mood Me tha.Mujhe vandana ko chhuna yaad aa rha tha aur meri exciteMet badhti hi jaa rhi thi,maine use chodna shuru kiya aur chodne ke baad main so gya.Hum kaafi der tak sote rhe,Phir meri neend khuli aur main uth kar dusre room Me gya toh dekha mera beta bhi so rha hai,maine use jgaya aur phir fresh hone chala gya.Phir hum sab taiyaar hokar khana khane ke liye chle gye ,woh sab neeche hamara wait kr rhe the.Fir hum sabne khana khaya aur fir nikl pade ghumne ke liye.Woh dono aage -2 apne bchhon ko lekr ja rhi thi aur hum dono unke peeche-2 ja rhe the.
“main bahut pareshaan hun yaar” maine Kunal se kha. “kyon kya ho gya” . “saale tera line to clear hai mera nhi ban pa rha hai upar se yeh bchhe.Sara samay toh yeh unke beech Me hi rhti hai kaise mauke bnaun main”maine apni majboori btaai. ” thoda himmat dikha saale maine bhi dikhaai hai tabhi jaa kar ke itni aazadi mili hai”.Kunal ne kha.Mujhe uski baaton Me dam lga.Phir hum waha bhi ghum kr wapas aa gye hotel Me.Dopeher ko jab hum lunch le rhe the toh main ne Kunal se poocha “ab kha chla jaaye yaar ghum toh liya”. Tabhi waitor ne kha “sir aapne raat ka mela ghum liya bda hi famous hai yehaan ka”.Fir humne apna plan bnaya raat Me jaane ka.Hum khana khakar sone chle gye kaafi thak gye the.Kunal ka fon aaya tab main jhat se jaga “chlna nhi hai”.Maine time dekha 7 baj rhe the. “haan abhi aata hun”keh kr maine Neha ko jgaya aur taiyaar hone ko bol diya.Hum nha dhokar kapre pehne aur fir niche utre.Phir sabne mil ke khana khaya aur nikl pde ghumne ke liye.Bahut majedaar mela tha aur kafi bheed bhaad wala jagah tha.Kaafi saare log yehaan ghumne ke liye aaye hue the.Bheed ka faida uthakar main vandana ko khub touch kr rha tha kabhi uske kamar Me haath daal deta toh kabhi uska haath apne haath Me le leta.

Woh samajh to rhi thi lekin chunki bheed tha isliye jyada naaraaz nhi ho rhi thi.Khair ek jagah line Me hu Me lagna pada, main jhat se uske peechhe hi khra ho gya aur apna lund uske gaand Me touch krne lga.Woh kabhi-2 aage badh jaaati lekin jab aage bhi badhne ka raasta khtm ho gya to woh khdi ho gyi. ye chudai Mastaram.Net pe padh rahe hai.Maine apna lund pura ragadte rha.Usnne god Me apne bete ko le rkha tha isliye woh jyada balance bna nhi paa rhi thi aur main khub dhakke lga rha tha.Bheed kabhi daayen toh kabhi baayen ho jaati toh isi beech main apna haath uske kamar Me daal kar ekdam apna lund Me sata liya aur kuchh der tak apna haath waise hi uske kamar Me lagaaye rakha.Usne apna sar emre taraf krke dekha toh maine apna haath hta liya.Par main peeche nhi hta aur usko poori tarah se ahsaas kra diya ki mere mann Me kya hai.Maine peeche mudkar Kunal ko bhi dekha woh toh pura Neha se chipka hua hai,Neha ne bhi bete ko god Me le rkha tha woh peeche se mere bete se baat krne ke bahane puri tarah se chipka hua apna lund ragad rha tha.Yeh dekhkr mera josh bhi badh gya.Maine bhi aaw dekha na taaw aur ek haath uski kamar Me daalkr jabardasti apne lund Me sata diya.
कहानी जारी है … आगे की कहानी पढ़ने के लिए निचे दिए पेज नंबर पर क्लिक करें ….

Page 1Page 2 ,Page 3 , Page 4

loading...   
Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya
loading...

loading...

loading...

loading...

Thursday, 9 November 2017

Biwi Ki Adla Badli -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

Mera naam Sahar hai. meri age 23 saal hai. mera taaluq Karachi, Pakistan sai hai. 6 months pehlay meri shadi Shan sai huee. Shan ki age 32 saal hai aur woh pichlay 20 saal sai Virginia, USA mein rehtay hein aur wahan Real estate ka apna business kartay hein. Shadi karnay Shan Pakistan ayay aur sirf 3 weeks reh kar apnay business ki waja sai wapis chalay gayay. wahan ja kar unhon nai mujhay foran sponsor kar diya magar USA ki sponsorship mein 8 months sai aik saal lag jata hai... Shadi kay baad Shan meray saath sirf 3 weeks hi reh payay thay, in 3 weeks mein hum nai din raat sex kiya magar meri 23 saal ki bhook aur meray jawan jism ki raseeli choot ki sulagti aag kamm honay kay bajayay aur bhi ziyada barh gayee... meray din aur raat Shan sai phone per baat kar kay apni choot ki aag apni fingers sai bujhanay ki nakaam koshish mein bohat mushkil sai guzar rahay thay....
Fingers ka use mein first time nahi kar rahi thi, her larki ki tarhan shadi sai pehlay meinay bhi bohat baar use karein thein fingers....
shayad yahan per mujhay apnay aur Shan kay baray mein kuch aur bhi batana chahiyay ....


loading...

meri height 5' 5" hai, mera weight 120 pounds hai, mera rang bohat fair hai, meray shoulder length hair hein, meri bari bari eyes light brown color ki hain, mera jism slim aur bohat curvy hai meri skin silk (resham) ki tarhan naram aur smooth aur be-daagh (no marks) hai. meri figure 34c 30 34 hai. meray tight mummay jinkay niples light brown color kay hein aur meri tight,firm aur bahir ko nikli huee sexy gaand meray jism ka sab sai khoobsoorat hissa hein (Shan yehi kehtay hein). meray jism per shoulders sai neechay bohat kam baal(hair) hein... aur woh bhi sirf meri baghlon mein aur meri choot kay ooper jinko mein regularly saaf karti hoon... meri virginity humari suhaag raat ko Shan nai apnay intihaee khoobsoorat 9" lambay aur meri kalayee(wrist) jitnay motay aur lohay ki rod jesay sakht(hard) lund sai bohat hi piyar aur araam sai tori thi...

Shan ki height 6' 2" hai meri tarhan unka color bhi bohat fair hai. unka weight 190 pounds hoga, unka jism bohat muscular aur strong aur kasa hua hai (6 pack wala jism). unkay shaandaar lund kay baray mein tu ooper bata hi chuki hoon... meinay shan sai pehlay kisi marad sai chudai nahi karwayee is liyay shan ki chudai ko compare nahi kar sakti magar mein samjhti hoon kay Shan bohat hi acha chod`tay hein kyonkay meri 2 bohat close friends ki shadi mujh sai pehlay huyee thi aur woh jab apni chudai ki kahaniyan sunatein tu kuch disappointment ki batein unkay moon sai nikaltein jesay meray husband ka lund bohat chota hai ya meray husband tu meri choot per lund rakhtay hi choot jatay hein ya meray husband meri choot nahi cht`tay ya meray husband mujhay apna lund nahi choosnay detay....waghaira waghaira.... meray husband Shan mein aisi koi bhi baat nahi thi...

unka lund bhi bohat bara aur mota tha aur woh jab tak mujhay 2 - 3 baar na chutta lein apna pani nahi nikaltay thay...aur choot chatnay kay tu woh expert thay aur unhon nai mujhay baghair dant maray apna lund bhi choosna sikha diya tha... woh meri choot ka pani shauk sai peetay aur mujhay bhi unki cum ka taste acha lagnay laga tha.... is kay ilawa Shan nai mujhay peechay sai gaand marwana bhi sikha diya tha... shuroo mein tu mujhay itna lamba aur mota lund apni gaand mein letay huay bohat pain huee magar 2, 3 din mein is ki aadat ho gayee aur mujhay apnay husband sai gaand maranay mein bhi bohat maza anay laga....... gharaz mein khud ko bohat hi khushkismat smajhti thi.. her lihaaz sai... bas Shan ki yeh doori, yeh judai bardasht nahi hoti thi mujh sai....

Aur phir woh din bhi aa gaya kay mera immigration visa process complete ho gaya aur mein 20 hours ka safar kar kay finally Fairfax, Virginia apnay ghar mein pohanch gayee. Dullas Airport sai ghar atay huay car mein hi hum nai kissing shuroo kar di.... raat ka waqt tha, Shan nai apni pant ka zipper khol kar apna tana hua 9" lamba aur mota lund bahir nikal liya aur meray haath mein thama diya.... woh drive kar rahay thay aur mein unkay lund ki muth laga rahi thi... hum dono bohat garam thay... meri garam aur bhooki choot sai bohat ziyada pani nikal raha tha aur Shan kay lund sai itni pre-cum nikal rahi thi kay mera saara haath geela ho chuka tha.

kuch dair baad hi humara ghar aa gaya.....humara ghar bohat khoobsoorat aur bara tha.... Airport sai atay hi saman rakh kar Shan nai mujhay living room mein hi pakar liya aur piyar karnay lagay... mein safar sai thaki huee thi magar itnay dino baad apnay husband sai mil kar mein bhi chudwanay kay liyay mari ja rahi thi, apni sulagti huee geeli choot ki aag thundi karnay kay liyay tarap rahi thi aur bohat diwani ho rahi thi...hum nai living room mein hi nangay ho kar chudai shuroo kar di....mein itnay dino sai nahi chudi thi is liyay 2 minutes sai bhi kam time mein meri choot nai pani chor diya aur mein kaanpti huee choot gayee.... Shan nahi rukay aur musalsal mujhay chodtay rahy.... woh kabhi mujhay meri kamar per lita kar chdtay kabhi mujhay ghori bana kar, kabhi kharay ho kar mujhay gaud mein lay kar chodtay.... jab woh chootnay kay kareeb aatay tu apna lund meri choot sai nikal letay aur thori dair tak meri choot aur gaand ka suraakh apni zaban sai chodnay lagtay... mein is dauraan 4 baar choot chuki thi.

Shan nay mujhay ghori banaya hua tha aur meri gaand mein apni zabaan ghuma rahay thay... phir shan nai meri gaand per dhair sara thook lagaya aur apnay motay aur steel ki tarhan sakht lund ka topa meri gaand kay hole per ragarna shuroo kar diya. mein samajh gayee kay ab meri gaand chudnay ki baari hai. meinay achi tarhan apni gaand bahir ko nikal li takay shan ko meri gand mein lund ghusanay mein aasani ho aur apni gaand kay hole ko bahir ki taraf push kiya jesay shit kartay waqt kartay hein.... yeh mujhay Shan nai hi sikhaya tha kay gaand mein jab lund janay lagay tu bahir ki taraf push kara karo..... jab meinay gaand ko bahir push kiya tu Shan samajh gayay kay meri tight gaand ka garam hole unkay khoobsoorat lund ko nigalnay kay liyay tayaar hai.. shan nai aik haath sai apna lund meri gaand kay hole per rakha aur doosray haath sai meri kamar pakri aur phir.....apni poori taqat sai aik zabardast dhakka mara....

aur shan ka 9" lamba aur meri wrist (kalaee) jitna mota lund root tak meri gaand kay tight hole mein ghus gaya... shadi kay baad shan nai mujhay gaand marwanay ki aadat tu daal di thi magar aaj itnay time kay baad mein gaand mara rahi thi aur us per shan ka ghoray kay lund jitna lamba aur mota lund aur shan ka yeh zalimana dhakka.... pain sai meray moon sai aik zordaar cheekh nikal gayee aur meri aankhon sai aansoo nikalnay lagay..mujhay laga jesay meri gaand mein kisi nai bum ka dhamaka kar diya ho.. shan ka lund mujhay deep deep apnay pait mein feel ho raha tha...kuch dair mujhay break dai kar shan nai dheeray dheeray apna lund andar bahir kar kay meri gaand marna shuroo kar di... few seconds kay baad hi meri pain khatam ho chuki thi aur mein apnay seedhay haath sai apni choot ka dana masal rahi thi aur shan kay dhakkon ka jawab apni gaand ko shan kay lund ki taraf dhakkay maar kar dai rahi thi... kuch dair baad shan nai chudai ki speed barha di aur poori taqat sai kisi wehshi janwar ki tarhan meri gaand kay parakhchay uranay lagay....

meri gaand martay huay woh meray khoobsoorat, goray goray aur round chootaron per apnay haath sai zore zore sai slap (thappar) bhi maartay thay.... jis sai meray chootron per jalan hoti thi magar shan kay is tarhan marnay (spanking) sai mujhay maza bhi bohat aa raha tha...bohat dair shan isi tarhan poori taqat aur speed sai meri gaand martay rahay aur phir woh time aa gaya jab shan chootnay lagay.. shan nai meri gaand sai apna lund nikala, mujhay meri kamar per litaya aur meri gaand kay juices sai lithra/bhara hua apna lund meray moon kay andar ghusa diya.... moon mein lund ghusanay kay 1 second baad hi shan kay lund sai cum ka flood nikalna shuroo ho gaya jo seedha meray halaq mein ja raha tha aur mein bohat shauk sai jaldi jaldi apnai piyaray husband kay lund ka juice pee rahi thi...Shan bohat dair tak apna load meray halaq (throat) mein nikaltay rahay aur jab aakhri drop bhi meray throat sai hota hua meray pait mein utar gaya tu woh nidhaal ho kar meray barabar mein lait gayay....



loading...

Shuroo mein USA aa kar mera dil nahi laga lekin dheeray dheeray few days kay baad mujhay aadat si honay lagi. Shan mera bohat khiyaal rakhtay thay. hum subah 7am tak uth jatay, dono brush kar kay aik baar chudai kartay, phir mein naha kar Shan kay liyay nashta bananay chali jati aur Shan shower letay, phir hum dono saath nashta kartay aur phir Shan apnay office chalay jatay. Shan kay janay kay baad mein dupehar tak aram karti, phir uth kar khana banati, sham ko Shan 5pm tak aa jatay..
USA aa kar hi mujhay pata chala kay Shan kabhi kabhi sharab bhi petay hein. pehlay tu meinay unko mana kiya kay sharab na piya karein magar phir baad mein mujhay is ki aadat si ho gayee kyon kay woh kabhi kabhi hi sharaab peetay thay. shan ko drinking problem nahi thi. aur phir meinay is liyay bhi mana karna chor diya kay sharaab peenay kay baad shan meri chudai bohat hi achi kartay thay... aksar mujhay bhi sharaab ki aik do chuskiyan lagwa detay thay. phir dheeray dheeray mein bhi unkay saath beth kar sharaab peenay lagi magar kabhi aik peg sai ziyada nahi piti thi. sham ko aksar hum khana khana kha kar bahir ghoomnay chalay jatay... wapsi raat 11, 12 bajay hoti... phir kabhi kabhi shan sharaab peetay aur kabhi mein bhi aur phir hum aik baar aur chudai kar kay so jatay... humari yehi routine si ban gayee thi.

aik Friday ki raat chudai kay baad batein kartay huay Shaan nai apnay baray mein khul kar bataya kay shadi sai pehlay unki bohat si girl friends reh chuki hein. Shan nai yeh bhi bataya kay woh sex kay maamlay mein bohat open minded marad hein aur woh chahtay hein kay mein bhi unki tarha open minded ho jaoon... mujhay kuch samajh nahi aya.. mein boli:
me: mein samjhi nahi apka kya mutlab hai...
Shan: mujhay kiss kartay huay bolay... dekho meinay tum ko saaf saaf bataya hai kay mein shadi sai pehlay bhi bohat chudai kiya karta tha... aksar aisi parties mein bhi jata tha jahan sab mil kar group sex kartay hein. wahan sab nangay hotay hein aur koi bhi marad ya aurat apni marzi ka aik ya aik sai ziyada partner dhoond kar us kay saath sab kay saamnay chudai kar saktay hein... koi mind nahi karta....sab apni apni chudai mein busy hotay hein koi kisi ko nehi notice karta.... bohat maza ata hai...
me: yeh sab sun kar hairan huee... aur thora ghussay sai....boli.... kya shadi kay baad bhi app aisi parties mein gayay...
Shan: haan. jab tum pakistan thein aur mein yahan akaila tu mein aik American girl friend ko yahan lay aya tha... tum ko pata hai mera choot kay baghair guzara nahi... mein 2 ya 3 baar uskay saath aisi party mein gaya hoon lekin...
me: lekin?
Shan: ab mein chahta hoon kay tum meray saath chalo... next Friday ko... us party kay meray sab dost tum sai milnay kay liyay bechain hein.
me: ghussay sai laal hoti huee... aap pagal tu nahi ho gayay....apko sharam nahi aati... apni biwi sai doosray mardon sai sex karwayein gai
Shan: dekho meinay isi liyay kaha kay tum ko meri tarhan open minded hona paray ga... agar koi doosra marad tumharay saath sex karay ga tu mein bhi tu uski biwi ya girl friend kay saath sex karoonga... aur phir socho zara is baray mein... tum poori aazaadi sai jis marad ko bhi chaho chod sako gi...
me: apko koi farak nahi paray ga kay apkay saamnay aik ghair marad mujhay choday ga...
Shan: honestly jaan, farak paray ga .... farak yeh paray ga kay tum ko kisi doosray marad sai chudtay huay dekh kar mujhay bohat acha lagay ga..
me: yeh nahi ho sakta... kya baat kartay hein aap Shan... aik ghair marad kay saath sex aur woh bhi itnay logon kay beech mein.... sawal hi nahi paida hota....
Shan: acha suno.... choro party ko... mera aik bohat purana dost hai India sai, Amar... usnai bhi abhi koi 4 years pehlay shadi ki hai... uski wife ka naam Priya hai... mein bohat baar un dono ko sex kay liyay join kar chuka hoon apni gf kay saath.... saari raat chudai sirf hum 4.... woh aur uski biwi bohat baar tumhara pooch chukay hein... kal chalein unkay ghar?
me: Shan, i don't know jaan.... meinay kabhi dream mein bhi aisa nahi socha... mein apko naraz nahi karna chahti magar please mein nahi kar paoongi yeh sab...
Shan: please meri khatir aik baar try tu karo... agar tumhara dil na mana ya tum ko maza na aya tu promise hum usi waqt wahan sai uth kar aa jayeingai...
me: chup ho kar neechay dekhnay lagi.... dil mein aik ajeeb sa ehsaas ho raha tha....Mein Shan kay life style sai haraan tu thi magar sochti thi kay yeh mera husband hai, aur phir apnay country sai hazaron miles door USA mein sirf Shan hi tu mera sahara hein agar yeh mujh sai naraz ho gayay tu mein kahan jaoongi... aur meray saath jo kuch bhi hoga woh Shan ki merzi sai aur unkay saamnay hoga...
Shan: please aik baar try tu kar kay dekho....
me: promise agar mujhay wapis ana hua tu aap foran wapis lay ayein gay mujhay
Shan: pakka promise...
me: theek hai, apki khatir yeh bhi kar kay dekh leti hoon...
Shan: oh thank you meri jaan... i love you sooo much......Shan khushi sai mujhay piyar karnay lagay
phir yehi khushi ka piyaar aik aur chudai kay session mein badal gaya aur hum raat dair tak chudai kartay rahay...
Next day Saturday tha. Shan nai subha hi apnay dost Amar ko call kar di aur raat ka program bana liya. nashtay kay baad hum log bahir shopping karnay chalay gayay... dupehar ko bahir hi lunch kiya aur phir 3 bajay wapis ghar aa gay.... shaam ko 6 bajay tak hum sotay rahay aur phir tayyar ho kar raat 8 bajay hum log Amar aur Priya kay ghar pohanch gayay.
Amar aur priya humari hi age kay thay. Priya 25 ki thi aur Amar 30 ka. dono bohat hi achay aur khush ikhlaq thay. Priya bohat khoobsoorat larki thi... gora chitta rang, slim, aur curvy jism (meri tarhan)... meinay note kiya kay Amar baar baar meray sexy jism ko bhooki nazron sai dekh raha hai aur Shan priya sai bohat be-takaluff tha... shayad is liyay kay woh pehlay bohat baar aik doosray kay saath chudai kar chukay thay....
hum sab khanay sai pehlay red wine pee rahay thay aur batein kar rahay thay....Khana khanay kay baad Amar nai phir sai sab kay glasses mein sharaab dal di tu mein boli...
me: Ji mein ziyada nahi peeti.... thank you..
Amar: aray bhabi ji aisa kesa.... apnay tu abhi kuch bhi nahi pee.... plz atleast aik peg tu aur lein....
me: meinay Shan ki taraf dekha tu shan nai muskara kar mujhay dekhtay huay kaha...
Shan: its ok Saher.... lay lo aik aur peg... kuch nahi hoga.... mein hoon na tum ko sambhalnay wala so don't worry...
batein kartay kartay mera 2nd peg bhi khatam ho gaya tu is baar Priya nai meray glass mein aur sharaab daal di..... meinay is baar usko mana nahi kiya.... mujhay kafi nasha ho chuka tha aur mein bohat acha feel kar rahi thi.....
Shan aur Amar sharaab peetay huay tv dekhnay lagay tu Priya apna sharab ka glass utha kar mujhay apna ghar dikhanay lay gayee...hum dono apnay glasses sai chotay chotay sips lay kar sharaab pee rahay thay.... aaj meinai kuch ziyada hi pee li thi... yeh mera 3rd peg tha.... ghar dekh kar hum Priya kay bedroom mein hi beth gayay... Priya mujhay bohat achi lagi thi aur mein us sai bohat ghul mil gayee thi... priya boli...
Priya: aur Sahar, kesa laga humara ghar...?
me: bohat acha, bohat khoobsoorat...
Priya: USA kesa laga tumein?



loading...

me: shuroo mein tu bilkul dil nahi lagta tha magar ab dheeray dheeray aadat ho gayee hai...sab acha lagnay laga hai.
Priya: aur.... shadi shuda life kesi lagi?
me: achi... bohat achi... Shan mujhay bohat piyar kartay hein... mera bohat khiyal rakhtay hein....
bohat dair tak hum dono aik doosray kay baray mein batein kartay rahay achanak Priya nai bohat direct baat keh dali jo mein expect nahi kar rahi thi...
Priya: tum bohat lucky ho kay tum ko Shaan jesa zabardast marad mila jisko pata hai kay aurat kay jism ki aag aur uski sex ki piyaas kesay bujhatay hein...Amar bhi acha hai magar jo cheez tumharay husband kay paas hai woh Amar kay paas nahi... Priya meri tarhan shayad nashay mein thi...
me: mera rang sharam sai laal ho gaya.... aur mein kuch na keh saki
Priya: jab tum aisay sharmati ho tu bohat hi piyari lagti ho.... priya meray bohat kareeb aa kar meray balon mein haath phairti huee boli... tum ko pata haina kay Shan meray saath bohat baar sex kar chuka hai?
me: aur ziyada sharma kar ... haan mujhay pata hai...
Priya: tum ko tu bohat bura laga hoga kay tumhara husband jis aurat kay saath sex kar chuka hai aaj tum usi kay ghar ja rahi ho...
me: haan.. jalan tu hoti hi hai.. magar tum ko dekh kar ab bura nahi lag raha.... tum ho hi itni khoobsoorat kay koi bhi marad tum per pagal ho sakta hai..
Priya: apni tareef sun kar Priya ka rang khil sa gaya aur boli tum bhi bohat hi piyari ho Saher... aur ...... bohat hi sexy bhi..... mujhay Priya ka is tarhan apni tareef karna bohat hi acha laga ... shayad sharaab ka nasha apna kaam dikha raha tha.....Priya meray kandhay per apna sar rakh kar meray kaan mein boli.... mein bhi bilkul tumhari tarhan sochti thi shuroo mein jab mein USA ayee thi.... isi tarhan sharmati thi... aur jab Amar nai first time mujh sai is group sex ki baat kari tu mera tu dimaagh hi chakra gaya tha.... meinay one week Amar sai baat nahi kari thi...
me: acha? phir kya hua

Priya: phir .... zahir hai mein biwi hoon .. apnay husband sai ziyada din door nahi reh sakti thi is liyay meinay Amar ki baat maan li...
me: mutlab ab tum doosray mardon sai bhi sex karti ho Amar ki ijazat sai?
Priya: haan...Amar ki ijazat sai aur uskay saamnay bhi, aur Amar doosri larkiyon sai sex karta hai... meray saamnay bhi aur meray peechay bhi...
yeh batein kartay huay mujhay feel hua kay meri choot geeli ho rahi thi....Priya meray itnay kareeb thi kay uskay lips meray kaan sai touch kar rahay thay...usnay meray kaan ki lao apnay moon mein lay kar bohat halkay sai apni zaban sai chati aur phir choosnay lagi.... meray jism mein aik ajeeb si sansanahat honay lagi... meri sansein bhari ho rahi thein jesay shan sai chudwatay huay hoti hein....Priya nai mujh per aik ajeeb sa jadoo sa kar diya tha..ya shayad yeh shraab ka nasha tha.. mujhay kuch samajh nahi aa raha tha kay mein Priya sai kesay deal karoon.... magar jo bhi tha mujhay Priya sai aisi sexy batein kar kay bohat acha lag raha tha....aur maza bhi bohat aa raha tha.....meri choot sai aur bhi pani nikalnay laga tha...meinay is sai pehlay xxx movies mein bohat baar girl ka girl sai sex dekha tha aur mujhay woh dekh kar aik ajeeb sa maza bhi aata tha magar Priya ko apnay itnay kareeb aur itni sexy batein kartay dekh kar mujhay kuch jhijak aur sharam si aa rahi thi..... Priya meray kaan mein boli....
Priya: aur aik baat bataoon?
me: haan... kya? mujh per ab poori tarhan sharaab ka nasha charh chuka tha.....meinay madhosh aur bhari awaz mein poocha
Priya: is group sex kay chakkar mein ab mujhay larkiyon sai bhi sex ki aadat ho gayee hai....tum nai kabhi kisi larki sai sex kiya hai?
me: kabhi nahi... kya tum lesbian ban gayee ho ?
Priya: khilkhila kar hans pari .... aray nahi meri jaan aisa nahi... bas sirf situation kay hisaab sai agar kabhi kisi larki sai bhi sex karna paray tu mujhay koi problem nahi hoti... jesa kay...
me: jesa kay mutlab?
Priya: jesa kay aaj...
yeh keh kar priya nai meray head kay peechay haath rakha aur agay sai apnay hont meray lips per rakh kar meray lips choosna shuroo kar diyay.... mein apni koshish kay bawajood bhi Priya ko apnay sai alag na kar saki... mujhay aik bohat hi piyara sa maza aa raha tha... Priya bohat piyaray andaz mein bohat softly meray lips choos rahi thi... kissing ka aisa maza tu mujhay Shan ki kiss mein bhi nahi ata tha.... kuch dair baad na janay kesai meinay bhi Priya kay lips choosna shuroo kar diyay....
meri is harkat sai Priya ka honsla barha aur usnai meri kameez kay andar haath daal kar meri kamar per haath phairna shuroo kar diya... hum dono aik doosray ki zaban choos rahay thay...mujhay behadd maza aa raha tha... meray liyay yeh aik new experience tha aur sharaab kay nashay mein mujhay aur bhi ziyada maza aa raha tha .. kuch dair kay baad Priya nay bohat maharat sai aik hi haath sai meri bra ka hook khol diya.... meray moon sai mazay sai siskiyan nikal rahi thein.... Priya nai mera haath pakar kar apnay mummon per rakh diya aur meinay uskay tight mummon ko apnay haath sai masalna shuroo kar diya..... mujhay na janay kiya ho gaya tha ... meinay kabhi bhi kisi larki kay saath pehlay aisa nahi kiya tha magar is waqt yeh sab kartay huyay mujhay bohat maza aa raha tha aur mein koshish kay bawajood bhi khud ko roke nahi paa rahi thi...
meri choot kay russ sai mera underwear our shalwar bohat geeli ho rahi thi... Priya ab apnay haath agay la kar meri nangi breasts sai khail rahi thi... Priya meray hard niples ko masalti huee jaldi sai apnay kapray utar kar nangi ho gayee aur meray kapray utarnay lagi.... mein bhari aur kamzore awaz mein boli....



loading...
me: Priya ... bahir marad hein agar woh yahan aa gayay tu kya hoga....
Priya: phir tu aur bhi maza ayay ga meri sweet jaan... sirf Amar nai tum ko nanga nahi dekha warna hum teeno nai tu aik doosray kay jism ka aik aik inch dekha hua hai.... sharmao nahi... just enjoy meri jaan.....bohat maza ayay ga ....
yeh keh kar Priya nai meri kameez meri bra kay saath hi utar di...aur neechay jhuk kar meray gole gole khoobsoorat aur firm/tight mummay apni zaban sai chatnay lagi... phir usnay meray niples choosna shuroo kar diyay ... mujhay laga mein mazay sai be-hosh ho rahi hoon... meray mummon sai shan bhi bohat khailtay hein aur mujhay maza detay hein magar jesay Priya meray niples choos rahi thi aur mujhay jesa maza aa raha tha, aisa maza mujhay kabhi nahi aya tha.. kafi dair meray mummon ko apni zaban sai massage denay kay baad Priya nay meri shalwar aur underwear bhi utar diya.... ab hum dono alif nangay thay.... thori dair tak mein Priya ka aur Priya mera nanga jism daikhtay rahay.... Priya ka jism uski shakal ki tarhan bohat hi khoobsoorat tha... mera andaza tha kay uski figure 34c 30 32 thi (jo baad mein Priya kay batanay per bilkul theek saabit hua). meray chootar Priya kay chootron sai thoray baray thay aur bahir ko niklay huay thay(bubble butts)..

few seconds kay baad Priya meray nangay jism ki sexyness kai jadoo sai bahir ayee aur mujhay bed per lita diya aur khud apna face meri legs kay beech mein la kar meri choot chatnay lagi.... mein tu mazay sai pehlay hi pagal si ho rahi thi.... Priya ki zaban jab meri choot kay danay per lagi tu mein tu taiz awaz sai siskiyan lenay lagi.... meri awaz kafi taiz thi.... aur bahir Shan aur Amar ko bhi sunaee dai rahi hogi.... magar mujhay ab is ki koi fikar nahi thi ... mein Priya sai choot chatwa rahi thi aur sex kay mazay mein apni choot Priya kay moon ki taraf push kar rahi thi.... Priya meri choot ka lace daar garam garam russ sharup sharup kar kay apni zaban sai chat kar pee rahi thi...meri choot sai sar(head) utha kar Priya boli...
Priya: Saher meinay apni life mein kabhi kisi larki ki choot sai itna pani nikaltay nahi dekha ..yeh tu lagta hai jesay tum musalsal pishaab kar rahi ho.. tum bohat hi garam larki ho saher..... aur tumhari choot ka russ bohat meetha aur mazaydaar hai.... chalo hum 69 ki position banatay hein... mein tumhari choot ka russ peeti hoon aur tum meri choot ka russ piyo....yeh keh kar Priya bed per neechay leti aur mein uskay ooper aa gayee..mein shan kay saath bohat baar 69 ki position bana chuki thi. position aisi thi kay meray goray goray tight chootar room kay door ko face kar rahay thay mein Priya kay ooper jhuk kar apni life mein first time kisi larki ki choot chaat rahi thi aur Priya meri choot aur gaand mein apni zaban ghuma rahi thi... mein bohat baar apni choot ka russ taste kar chuki hoon kyon kay aksar shan meri choot sai lund nikal kar meray moon mein detay hein choosnay kay liyay... priya ki choot kay russ ka taste bilkul meri choot kay russ kay taste jesa tha...


Mein sharab kay nashay mein aur Priya kay meri choot chatnay kay mazay sai pagal si ho rahi thi.... poori lagan sai mein bhi Priya ki choot chaat rahi thi.... choot chatnay ka yeh meri life ka first experience tha shayad is liyay mera saara face Priya ki choot kay lace daar garam garam pani sai lithra/bhara hua tha.... meinay priya ki choot sai thora sar (head) utha kar dekha tu kya dekhti hoon kay shan alif nagay bilkul meray face kay samnay kharay apnai lund ki dheeray dheeray malish kar rahay hein.... mujhay apni taraf dekh kar woh neechay jhukay aur I love you kehtay huay mujhay kissing karnay lagay.... meinay bhi unki zaban choosni shuroo kar di.... shan meray face per lagay Priya ki choot ka russ apni zaban sai chaat kar pee rahay thay....
Phir shan nai mera sar (head) jhuka kar mera moon dubara priya ki choot per fit kar diya aur khud neechay jhuk kar apni zaban sai priya ki gaand ka suraakh chatnay lagay. bohat hi garamaur sexy manzar tha... shan priya ki gaand kay hole kay andar apni zaban ghuma rahay thay aur mein priya ki choot chat rahi thi... thori thori dair kay baad shan Priya ki gaand sai apni zaban nikaltay aur meray moon mein dai detay jisko mein josh sai choosti.... udhar Priya hum dono miyan biwi ki itni zabardast choot chatayee sai mazay sai pagal ho kar cheekhein maar rahi thi .....

mujhay aik dum feel hua kay jesay meri choot kay ilawa meri gaand bhi koi chaat raha hai... meinay thori si neck ghuma kar dekha tu yeh Amar tha....Amar nai dono hathon sai meray chootar pakar rakhay thay aur apnay thumbs sai meray chootar khole kar meri gaand kay hole mein deep apni zaban daal raha tha....ufffff... woh dono miyan biwi bhi mujhay utna hi maza dai rahay thay jitna hum dono miyan biwi Priya ko dai rahay thay.....shan uth kar kharay huay aur apna lund Priya ki choot per rakha aur meri aankhon mein dekh kar bolay... Shan: meri jaan Saher... dekho tumharay husband ka yeh lund kesay aik ghair larki ki choot mein jata hai...maza lo is manzar ka meri jaan .. maza lo...
yeh keh kar shan nai aik zordaar dhakka mara aur meri nazron kay saamnay meray husband ka khoobsoorat lund Priya ki tight choot mein ghayab ho gaya.... ufffffff ... yeh really bohat hi sexy manzar tha.... shan nai priya ki choot wahshi janwar ki tarhan chodtay huay Amar sai kaha:
Shan: Amar ... meray yaar.. mein teri biwi ko chod raha hoon.... tu bhi meri biwi ko chod .... meri biwi ko bhi utna maza dai jitna mein teri biwi ko dai raha hoon yaaar....

mujhay achanak kisi sakht si cheez ka apni choot per ragarnay ka ehsaas hua... aur is sai pehlay kay mein kuch samajhti... woh cheez meri choot ki gehrayon mein utar chuki thi.... ji han, yeh Amar ka tana hua lund tha jis sai ab Amar mujhay poori taqat aur speed sai chod raha tha.... shan thori thori dair kay baad apna lamba lund priya ki choot sai nikaltay aur meray moon mein ghusa detay jisko mein josh sai choosnay lag jati... mein aur priya ab tak na janay kitni baar choot chukay thay magar na janay kyon.. shayad sharaab ka asar tha kay abhi bhi humari chooton ki aag thundi nahi huee thi.
Priya nai chudai kay be-panah mazay sai pagal hotay huay bohat bhari awaz mein kaha...
Priya: ahhhhhhhhhhh .. meray raja Shan..... fuck me jaani. aaaahhhhh..fuck me hard baby...... Shan meri jaan bohat dino sai tumhara shaandaar lund meri gaand mein nahi gaya ... please fuck my asshole meri jaan....... meri gaand chodo shan please.......

Priya ki yeh baat sun kar shan nai priya ki choot sai lund nikala aur apnay haath per dhair sara thook giraya aur merray moon kay agay haath la kar mujhay bhi apnay haath per thook giranay ko kaha.... meinay bhi dhair saara thook apnay moon sai Shan kay haath per thook diya.... shan nai woh thook priya kay asshole (gand kay suraakh) aur apnay lund mer mala aur mainay shan ka lund apnay haath sai pakar kar priya kay tight asshole per rakha... shan nai thora sa dhakka mara tu shan ka adha lund assani sai priya ki gaand mein ghuss gaya.......... priya boli....
Priya: Shan meri jaan saara lund daal do meri gaand mein please.... mujhay hurt karo..... meri gaand aisai chodo jis sai mujhay takleef ho.... fuck me hard meray raja.....
shan nai yeh sun kar apnai jism ki saari taqat sai aik wehshiyana dhakka mara..... shan ka 9" lamba aur mota lund root tak priya ki gaand pharta hua andar ghayab ho gaya..... priya nai takleef aur mazay ki mili juli aik zoredaar cheekh mari aur shan ko aur bhi zore sai chodnay ko kaha.... shan pagalon ki tarhan priya ki gaand marnay lagay..shan kay moon janwaron wali awazein nikal rahi thein... achanak shan nai priya ki gaand sai lund nikala aur meray moon mein thoons diya aur dheeray dheeray dhakkay maar kar mera moon chodnay lagay..... shan kay lund sai mujhay Priya ki gaand kay juices ka taste aa raha tha.... ...

Thori dair mera mera moon Priya ki gaand kay russ sai lithray/bharay lund sai chodnay kay baad Shan aur Amar nai apni positions change kar lein... shan meri choot marnay lagay aur Amar Priya ki.... amar ka lund shan ki tarhan lamba tu nahi tha magar mota bohat tha....Amar ka tana hua lund meray lips sai sirf 2 inch ki doori per tha... Amar nai priya ki choot sai lund nikala aur meray moon mein thoons diya... mein ab Amar ka lund choos rahi thi...... udhar achanak shan nai meri choot sai lund nikala aur meri gaand mein ghusa diya... ab shan meri gaand maar rahay thay....bohat dair aisai hi chodnay kay baad shan nai mujhay usi position mein aur usi tarhan lund meri gaand mein rakhtay huay apni gaud mein utha liya aur kharay ho kar chodnay lagay... shan bolay....
shan: Amar .. apna lund saher ki choot mein daal... isko 2 lund ka maza detay hein...
amar nai priya ki choot sai lund nikala aur kharay ho kar meri choot sai apna lund alighn kiya aur aik hi jhatkay mein apna lund meri choot mein ghusa diya aur taizi sai meri choot marnay laga............ meinay gandi movies mein bohat baar larki ko 2 lund aik saath letay dekha tha magar aaj life mein first time khud 2 lund lay rahi thi... mein biyaan nahi kar sakti kay mujhay 2 lund sai aik waqt mein chudwanay ka kitna maza aa raha tha...


priya nai uth kar meray niples choosna shuroo kar diya....... kafi dair shan meri gaand aur amar meri choot aik saath kharay ho kar martay rahay... priya neechay bethi aur shan ka lund meri gaand sai nikal kar apnay moon mein lay kar choosnay lagi....... phir Amar neechay leta, shan nai mujhay gaud mein utha kar Amar kay lund kay ooper kiya, Priya nai Amar ka lund haath sai pakar kar meri gaand kay hole sai allign kiya aur phir shan nai mujhay chor diya ... mein apnay pooray wazas sai Amar kay lund per girr gayee jis sai Amar ka mota (Amar ka lund shan sai mota tha) lund root tak meri gaand phaarta hua meray pait mein utar gaya... meinay pain sai aik dardnaak cheekh mari ... Amar kay face ki taraf meri meeth thi... shan saamnay sai ayay aur apna lund meri choot mein ghusa diya..... aur aik baar phir sai dono mardon nai meray dono holes chodna shuroo kar diyay...10 minutes tak isi tarhan chodnay kay baad Amar baghair warning kay hi meri gaand kay andar choot gaya.... mujhay saaf feel hua kay Amar ki garam garam cum meri gaand ka hole fill kar rahi hai.....


jab Amar farigh hua tu shan bhi chootnay walay thay.... unhon nai apna lund meri choot sai nikala aur priya kay moon mein dai diya phir unhon nai mujhay gaud mein uthaya aur meri gaand ka hole priya kay moon kay ooper la kar bolay... Amar ki cum apni gaand sai bahir push karo jaan.....meinay aisa hi kiya.... priya nai apna moon khol diya aur meri gaand sai Amar ki cum kisi sailad ki tarhan Priya kay moon kay andar girnay lagi... jisko priya taizi sai pee kar apnay pait mein utar rahi thi.... yeh manzar dekh kar shan sai aur na bardasth ho saka aur unhon nai mujhay priyar kay barabar litaya aisai kay hum dono kay faces bilkul aik doosray kay saath thay aur aik doosray kay cheeks touch kar rahay thay.... aur phir shan nai hum dono kay faces per chootna shuroo kar diya.... kafi dair tak shan kay lund sai garam garam thick aur white cum ki pichkariyan nikal kar meray aur priya kay face kay ooper aur moon kay andar girti rahein..jisay hum dono jaldi jaldi swallow (nigal) karnay lagay....

poori tarhan farigh honay kay baad shaan hamaray barabar hi lait gayay..... sharaab ka nasha aur aisi thaka denai wali bharpoor chudai kay baad hum charon ko koi hosh na raha aur hum sab wahein bed per so (sleep) gayay.... meri aankh khuli tu us waqt subha kay 4 baj rahay thay aur mein bed room mein nahi balkay loving room mein sofay per side sai laiti thi aur Amar meray peechay laita meri gaand mein apna mota lund dheeray dheeray andar bahir kar kay meri gaand maar raha tha.... mein boli...

me: aray aap? mein yahan kesai ponhchi? Priya aur Shan kahan hein...?
Amar: woh dono andar so(sleep) rahay hein meri aankh khul gayee thi tu mein apko utha kar yahan living room mein lay aya... aap itni sexy aur khoobsoorat ho kay mera dil nahi bhara tha apki chudai kar kay is liyay dubara .... please naraz na hona.....
ab mein kya bolti.... meinay raat ko guzray saari chudai kay baray mein socha aur muskara kar Amar ko dekh kar boli...
me: ab narazgi ki koi baat rehi hi nahi... ab tu mein apkay liyay Priya jesi hi hoon. aur aap meray liyay Shan jesay..

meri yeh baat sun kar Amar nai kaha I love you meri raani aur meray lips chosnay laga aur peechay sai aur zore sai dhakkay maar kar meri gaand marnay laga.... Amar agay sai haath la kar meri choot ka dana bhi masal raha tha jis ki waja sai mein mazay sai taiz awaz mein maoning kar rahi thi.... shayad meri aur Amar ki chudai ki awazein kafi taiz thein kay thori dair mein hi Priya aur Shan bhi uth kar bahir aa gayay.... aur aik baar phir sai hum charon janwaron ki tarhan aik doosray ko chodnay lagay.....subah 6 bajay hum sab chudai sai farigh huay aur itna thak gayay kay phir hosh na raha aur hum dupehar 3 bajay tak sotay rahay........

us kay baad, hum charon ka yeh roz marra ka mamool ban gaya... koi weekend aisa nahi jata tha jab hum mil kar chudai na kartay hoon aur nayay tareekon sai aik doosray ko maza na detay hoon.... Priya birth control pills leti thi, shan kai kehnay per meinay bhi birth control pills lena shuroo kar dein jis sai Priya ya mujhay pregnancy ka khatra nahi tha...her weekend per ya tu Priya aur Amar humaray ghar aa jatay thay aur poori 2 ratein humaray ghar hi guzartay thay ya hum dono unkay ghar chalay jatay thay..aur bharpoor chudai kartay thay.. aksar aisa bhi hota tha kay mein Priya kay ghar aur Priya meray ghar chalay jatay thay.... idhar mein aur Amar akailay mein khoob chudai kartay aur udhar Priya aur Shan.... hum charon ab aik saath un group sex parteis mein bhi jatay thay.... mujhay aisi parteis mein bohat pasand kiya jata tha.... sirf mard hi nahi balkay aurtein bhi mujhay chodnay kay liyay beqaraar rehti thein.

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com




Tuesday, 7 November 2017

दोस्त की गर्म बीवी की सेक्सी स्टोरी -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

मैंने नई जॉब ज्वाइन की थी, वहां मेरी दोस्ती राज से हुई, हम काफ़ी अच्छे दोस्त बन चुके थे.

एक दिन राज ने मुझे अपने घर डिनर के लिए इन्वाइट किया. मैंने भी हाँ कर दी. ये मेरा पहली बार था, जब मैं राज के घर जाने वाला था. पर मैंने ऑफिस के सब लोगों से एक ही बात सुनी थी कि राज की वाइफ दिखने में सेक्सी और अदाओं में मल्लिका शेरावत है. तभी से में भी एग्ज़ाइटिड हो गया था.

आख़िरकार वो वक़्त आ गया. शाम बीतने के बाद जैसे ही 9 बजे, मैं राज के साथ उसके घर पहुँचे. उसने बेल बजाई.. कुछ पल बाद अन्दर से दरवाजा खुला और मैं देखता ही रह गया.

सामने एक परी खड़ी थी रेड कलर की साड़ी और बैकलैस ब्लाउस पहने हुई राज की बीवी मुस्कुरा रही थी. मैंने निगाह भर के उसे देखा. उसके चूचे शायद 36 या 38 के होंगे और उसकी कमर 26 की होगी. उसने साड़ी भी नाभि के नीचे पहनी हुई थी. तभी मैंने सोचा ऑफिस वाले इससे मल्लिका कहते हैं, पर ये तो हॉटनैस में मल्लिका को भी पीछे छोड़ रही थी.

उसने मुझसे हाथ मिला कर हैलो कहा. जैसे ही मैंने हाथ मिलाया, उसके गरम हाथों के स्पर्श से मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने सोचा हाथ इतना गरम है तो पूरी बॉडी का क्या हाल होगा.

फिर जैसे ही मैंने उसका हाथ दबाया, वैसे ही उसने एक कटीली स्माइल दी. उफ क्या कातिलाना स्माइल थी.

हम सभी अन्दर गए. मैं उसके पीछे था तो उसकी मटकती गांड देख रहा था.. उसकी गांड जबरदस्त हिल रही थी. उसकी नंगी और एकदम गोरी पीठ उफफ्फ़.. कमाल का आइटम थी.

उसने मुझसे कहा- आप बैठिए मैं खाना परोसती हूँ.
loading...
हम बैठ कर बातें कर रहे थे इतने मेंराज की बीवी कामिनी पास आकर खड़ी हो गई और खाना परोसने लगी.

मैं बस उसकी बदन की महक ले रहा था मेरा एक हाथ वैसे ही अपने खड़े लंड पर चला गया. उसने मेरा वो लंड सहलाना देखा और फिर से स्माइल की.

फिर वो सामने की तरफ चली गई और राज के बाजू में बैठ गई. अब हम दोनों आमने-सामने थे. हम दोनों एक-दूसरे को स्माइल देते हुए डिनर कर रहे थे.

राज को समझ ही नहीं आ रहा था कि चल क्या रहा है. वो मजे से डिनर कर रहा था. इतने में उसने मुझे और राइस लेने के लिए आग्रह किया, पर मैंने मना कर दिया. फिर भी वो उठी और और मुझे राइस ज़बरदस्ती देने के लिए झुकी.

उफफ्फ़.. वो आम का बाग़ मेरे सामने खुल ही गया थे.. उसके झूलते मम्मे देख कर मेरा मन कर रहा था कि राज न होता तो इसे ऐसे ही पकड़ लेता.
खैर वो राइस दिए जा रही थी और मैं उसके मम्मों को देखे जा रहा था. वो सब समझ चुकी थी.
तभी मैंने ‘बस..’ कहा.
हम फिर से खाने लगे.


loading...
तभी मुझे पैर में कुछ महसूस हो रहा था, मैंने देखा तो कामिनी मेरे पैरों से खेल रही थीं और स्माइल कर रही थी. तभी मैंने सोच लिया कि कामिनी की कामवासना मैं पूरी करूँगा.

फिर मैंने जानबूझ कर कहा- कामिनी भाभी जरा और राइस दीजिए ना!
वो जैसे ही राइस देने झुकी.. उसका पल्लू गिर गया.
ओऊऊ.. ओहह.. क्या नज़ारा था.

पर राज अपनी बीवी की इस बात से गुस्सा हो गया.
मैंने कहा- राज इट्स ओके, ये मेरी भाभी है.
फिर मैंने कहा- भाभी, वहाँ से आपको तकलीफ़ हो रही है आप मेरे पास मतलब मेरे बाजू में बैठ जाइए.
वो भी झट से मान गई.


loading...
अब तो सामने प्लेट में चिकन, बाजू में कामिनी की महक.. अह.. मैं तो जन्नत में था.

उतने में राज को कॉल आया, वो बात करने में बिज़ी था. तभी मैंने कामिनी की गाल पर किसी दे दी.
वो सन्न रह गई, थोड़ी देर उसका मुँह खुला रह गया.

तभी राज ने फोन पर बात खत्म की और उससे कहा- कम्मो, क्या हुआ?
तब वो होश में आई.. उसने कहा- क..कुछ नहीं.
फिर उसने मेरी तरफ देखा, स्माइल की और खाने लगी.

फिर मैंने सोचा कि अब तो ग्रीन सिग्नल मिल गया. मैंने धीरे से हाथ उसकी जाँघों पर रखा और दबाने लगा. वो अपने होंठ दांतों के नीचे दबाने लगी. मैं धीरे-धीरे उसकी साड़ी ऊपर को कर रहा था लेकिन उसने मना कर दिया.
मैंने धीरे से कहा- प्लीज़ करने दो.. मुझे तुम्हारी पैंटी चाहिए.
पर उसने मना किया. फिर भी मैं जबरदस्ती करने लगा, उसकी वजह से दाल मेरे पेंट पर गिर गई.

मैं झट से उठ गया, वो हंसने लगी.
राज ने कहा- कम्मो, जरा इसे वॉशरूम दिखाओ.
वो स्माइल करते हुए बोली- चलिए दिखाती हूँ.

वो आगे, मैं पीछे.. जैसे ही हम वॉशरूम में दाखिल हुए, वो नल चालू करने झुकी. मैंने तुरंत उसको पीछे से पकड़ लिया और उसके मम्मों को दबाने लगा. वो सिसकारियां भरने लगी. मैंने उसे पलटी किया और उसके रसीले होंठ चूसने लगा.

थोड़ी देर बाद हमें होश आया. राज ‘कम्मो कम्मो..’ आवाज़ दे रहा था.
तभी कामिनी ने कहा- बस करो, वरना राज यहाँ आ जाएगा.

फिर वो अपनी साड़ी ठीक करके जाने लगी, मैंने उसकी गांड दबाई और उसके पीछे चला आया.

हमने डिनर ख़त्म किया. मैं अपने घर के लिए निकलने लगा. कामिनी और मैं स्माइल किए जा रहे थे. फिर राज ने कहा- चलो मैं तुम्हें बाहर तक छोड़ देता हूँ.

मैंने कामिनी को बाय बोला और बाहर आ गया. पर ऐसा सूखा-सूखा बाय मुझे अच्छा नहीं लगा. तो मैंने राज से कहा- अरे मैं अपना पैकेट अन्दर ही भूल गया हूँ.. जरा रूको, लेकर आता हूँ.


loading...
मैं अन्दर घुसा और कसके कामिनी को किस करने लगा. फिर मैंने कहा- चलता हूँ.

उसने मेरा हाथ पकड़ के अपनी ओर खींचा, उसने मेरी पेंट में कुछ रखा और कहा- तुम्हारे लिए गिफ्ट है, घर जाके देखना.

फिर हमने स्मूच करके बाय बोला. मैंने घर जाकर पहले अपनी पेंट उतार कर देखा कि क्या गिफ्ट है.

मैंने देखा कि वो कामिनी की पैंटी थी और उस पर उसने अपना मोबाइल नम्बर लिपस्टिक से लिख कर दिया था.

उस रात मैं सो नहीं पाया. अगले दिन का इंतजार करने लगा.

जानिए अगले दिन क्या और कैसे हुआ. आपको मेरी सेक्सी स्टोरी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल कीजिए.

जैसे ही मुझे एक भी मेल मिलेगा, मैं अगले दिन की स्टोरी पोस्ट कर दूँगा.

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com


शादी की सुहानी रात -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya ,  ahindisexstories.com

हैल्लो दोस्तों, दोस्तों सबसे पहले में अपने बारे में बता दूँ कि मेरा नाम कुसुम है और में एक आर्ट्स कॉलेज के पहले साल में पढ़ती हूँ और मेरे फिगर का आकार 34-28-34 है, हमारे घर में मेरी मम्मी, पापा और मेरा एक भाई भी है मेरी उम्र 18 साल है, रंग गोरा बूब्स एकदम गोल है। में दिखने में बहुत सुंदर हॉट सेक्सी लगती हूँ यह सभी मुझसे मेरे दोस्त कहते है। दोस्तों मैंने अपनी पिछली कहानी में लिखा था कि कैसे हमारे कॉलेज की तरफ से हम लोग बाहर घूमने गए और वहीं पर मेरी और हेमा की हम दोनों के बॉयफ्रेंड के साथ उनके एक दोस्त जिनका नाम राजेश, संदीप और जितेन्द्र है उन तीनों ने मिलकर हम दोनों को बहुत जमकर चोदा और उस रात को हम दोनों उन तीनों की कुंवारी पत्नी की तरह रही और उस वजह से हम दोनों उन तीनों से पूरी तरह से खुल गयी थी। हम सभी एक दूसरे से अब पूरी तरह से गंदे शब्दों में बातें करने लगी थी और उन तीनों ने हम दोनों को उन दिनों हमारे नाम से कभी भी नहीं बुलाया वो हमें हमेशा गाली देकर ही बुलाते रहे।
loading...

अब हमें भी उनके साथ यह सब करने में बड़ा मस्त मज़ा आने लगा था और हम सभी कुछ दिनों बाद वहां से वापस अपने घर आ गयी। फिर उसके बाद एक बार जितेन्द्र और उसके दो दोस्तों ने मिलकर कैसे मुझे रंडी की तरह चोदा यह बात जब मैंने अपनी सहेली हेमा को बताया तो वो मुझसे बहुत गुस्सा हुई और वो मुझसे कहने लगी कि तू मुझे क्यों अपने साथ नहीं ले गयी? फिर उसके कुछ दिनों के बाद ही बाद जितेन्द्र की बहन की शादी थी, इसलिए उसने हम दोनों को भी उस शादी में आने के लिए कहा। तो वहां पर जाने के लिए हम दोनों झट से तैयार हो गई, शनिवार के दिन महिला का संगीत था और रविवार रात की शादी थी और शनिवार के दिन सुबह जल्दी में हेमा के घर चली गयी और अब दोस्तों आप लोग आगे की कहानी को सुनकर उसका मज़ा लेना शुरू करे।
में : वहां पर आज रात का प्रोग्राम है तू थोड़ा जल्दी कर।
हेमा : हाँ अभी चलेंगे यार, वैसे तू क्या पहनेगी?
में : अगर में में साड़ी पहन लूँ तो उसको वो रात को उतारेंगे।
हेमा : में तो जींस पहनूंगी, साली उस दिन तूने अकेली अपनी चूत की सेवा करवा ली।
में : हाँ आज तू भी अपनी सेवा जी भरकर उनसे करवा लेना, लेकिन यार वो लोग बड़े दमदार थे।
हेमा : हाँ चूत और लंड अपने आप जान पहचान कर लेते है।
में : हाँ यार ऐसा ही हुआ होगा तभी तो मुझे बड़ा मस्त मज़ा आया।
हेमा : तू अब आज रात के लिए अपनी चूत को तैयार कर ले कमिनी।
में : हाँ यार में तो पूरी तरह से तैयार ही हूँ।
loading...

फिर उसी शाम को हम दोनों वहां पर ठीक समय पहुँच गई और हम दोनों अपने घर पर कहकर गयी थी कि शायद हमे देर हो जाएगी तो हमें रात को वहीं पर रुकना भी पड़ सकता है। फिर मैंने एक काले रंग की सारी और उसी रंग का ब्लाउज पहना, हेमा ने जींस टी-शर्ट पहन ली और वहां पर सबसे पहले हमें जितेन्द्र मिला वो हमें देखकर बहुत खुश हुआ और वो कहने लगा कि वाह आज तो यहाँ पर सभी की नज़र बस तुम दोनों हरामजादी पर होगी। फिर जितेन्द्र बोला कि तुम जल्दी से खा पी लो उसके बाद लॅडीस संगीत शुरू हो जाएगा और कुसुम तेरे नये पति भी आए है तुम उनसे जरुर मिल लेना, इतना कहकर जितेन्द्र काम से चला गया। अब हम दोनों उसकी बहन से मिलने के बाद एक साथ बैठी हुई थी तभी जितेन्द्र ने हमारे पास आकर हमे राज, समीर से मिलवाया और अपने चचेरे भाई मोंटी से मिलवाया, मोंटी 26 साल का लंबा दमदार अच्छे व्यहवार का सुंदर गठीले बदन का लड़का था। उन सभी से मिलकर हमें बहुत ख़ुशी हुई और उनको भी हम सभी मिलकर एक साथ बैठे हुए थे।
हेमा : अच्छा तो यह है मेरे नये जीजू?
समीर : कहो तो आज कुसुम के जीजू बन जाए?
राज : साली तो वैसे ही आधी घर वाली होती है।
जितेन्द्र : यह दोनों रंडियां तो हर समय पूरी घर वाली बनने को तैयार रहती है।
हेमा : तुम इतनी गालियाँ तो कुसुम को ही दो मुझे नहीं।
जितेन्द्र : तुम दोनों लंड को देखकर तो बड़ी बोलती हो जब तो चाहे कुतिया बनाकर चोद लो और जब तक कपड़े में हो बड़ी शरीफ लगती हो।
में : जितेन्द्र हमे वापस घर भी जाना है।
राज : आज की रात तुम्हे कहीं नहीं जाना, आज तो पूरी रात तुम दोनों को डांस करना है पहले महिला संगीत होगा जिसमे तुम्हे भी हमारे साथ नाचना होगा और उसके बाद लंड पर का मज़ा लेना, क्यों कुसुम मैंने ठीक कहा ना?
loading...

में : हाँ ठीक है चलो करके देखते है हमें आज इन सभी कामों में कितना मज़ा आता है?
फिर महिला संगीत में मैंने और हेमा ने उन चारो के साथ जमकर नाची, हमने बहुत डांस किया और रात को 11.30 बजे के करीब हम सभी एक साथ बैठे हुए थे। फिर में उनसे पूछने लगी कि अब इसके आगे का क्या प्रोग्राम है? तभी जितेन्द्र बोला कि अभी एक घंटे के बाद यहाँ पर सभी लोग सो जाएगें तब हम घर पर चलेंगे तुम तब तक थोड़ा आराम कर लो या कुछ और कर लो। फिर उसी समय राज ताश ले आया और हम सभी खेलने लगे और बकवास भी करते रहे। उसी समय समीर बोला कि यार हम कोई शर्त लगाते है, तो में पूछने लगी कि वो क्या? वो हम दोनों से बोले कि तुम जीती तो तुम जैसे कहोगी वैसे ही चोदेंगे और अगर तुम हारी तो हमारी मर्ज़ी का पूरा काम होगा। अब हेमा कहने लगी कि तुम मुझे गाली मत देना बाकी जो तुम्हारी मर्ज़ी हो तुम वैसा करना, वैसे अगर में हार गई तो तुम क्या करोगे? तो राज बोला कि कुसुम की तरह एक ही झटके में पूरा लंड तुम्हे अंदर लेना पड़ेगा। अब वो यह बात मान गयी और कुछ देर बाद वो हार भी गई और उसके बाद हम सभी एक साथ गाड़ी में बैठकर जितेन्द्र के घर आ गये, हेमा भी उसका वो बेडरूम देखकर एकदम हैरान हो गयी वो बहुत चकित होकर कहने लगी कि वाह क्या मस्त बेडरूम है? तो में उससे बोली कि यह बेडरूम नहीं रंडी खाना है मेरे मुहं से यह बात सुनकर वो सभी लोग ज़ोर से हंस पड़े।
अब जितेन्द्र बोला कि एक और नयी रंडी का इस बेड पर बहुत बहुत स्वागत है, तुम अंदर चली आओ, हेमा कहने लगी कि में कोई रंडी नहीं हूँ, ऐसे शब्द तुम कुसुम को बोलो मुझे यह सब सुनना अच्छा नहीं लगता। तभी राज बोला कि मेरी जान आज रंडी तो हम तुझे बहुत अच्छी तरह से बना देंगे, इतना कहकर राज और मोंटी हेमा के चिपक गये, उसके बाद राज ने हेमा को एक ज़ोर का किस किया और वो बोला कि तेरे कूल्हों को देखकर मेरा लंड काबू में नहीं हो रहा साली अब में क्या करूं? अब समीर मुझसे बोला कि हम तुझे क्या कहकर बुलाए? में उससे बोली कि तुम्हारी जो इच्छा हो उसी नाम से बुला लो। अब जितेन्द्र मुझसे बोला कि हरामजादी तू सही में बड़ी मस्त नमकीन चीज़ है और इतना कहकर उसने मेरी साड़ी का पल्लू पकड़ा और मुझे घुमा दिया, जिसकी वजह से मेरी साड़ी उतर गयी और में अब उनके सामने बस पेटीकोट और ब्लाउज में खड़ी हुई थी और उधर उन लोगों ने हेमा की टॉप और जींस को भी उतार दिए, जिसकी वजह से वो अब ब्रा पेंटी में खड़ी हुई थी। अब मोंटी ने हेमा की ब्रा को खोल दिया, जिसकी वजह से हेमा के दोनों गोरे बूब्स पूरे नंगे हो गए और उसके गुलाबी रंग के निप्पल को देखकर राज बोला कि वाह यह माँ की लौड़ी अब तक कहाँ छुपी हुई थी और इतना कहकर उसने एक निप्पल को अपने मुहं में ले लिया और वो दूसरे बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा था।
फिर हेमा उससे बोली कि तुम मुझे फिर से गाली देने लगे ना, राज बोला कि माफ़ करना और फिर जितेन्द्र ने मेरे पेटिकोट का नाड़ा खोल दिया, जिसकी वजह से वो मेरे पैरों में आ गया, समीर मुझसे बोला कि ब्लाउज क्या तेरी माँ खोलेगी साली कुतिया? में उससे बोली कि माँ नहीं हाँ में ही खोल दूंगी मेरे राजा। फिर इतना कहकर मैंने अपने ब्लाउज के हुक को खोलकर उसको उतार दिया उसके साथ साथ मेरी पेंटी और ब्रा को भी उतर गये मुझे पता ही नहीं चला कि में अब उनके सामने पूरी नंगी खड़ी हुई थी। अब जितेन्द्र मेरे बूब्स को चूस रहा था और समीर मेरी चूत को चूस रहा था, जिसकी वजह से मेरे मुहं से आह्ह्ह्ह उूउह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ की आवाज निकल रही थी और हेमा नीचे बैठकर मोंटी का लंड चूस रही थी। अब मैंने मोंटी का लंड देखा और मेरी आखें चकित होकर फेल गई मेरे मुहं से निकला हाए राम इतना बड़ा लंड जैसे किसी घोड़े का लंड हो? वो हेमा के थूक की वजह से पूरा चिकना हुआ पड़ा था और वो करीब पांच इंच लंबा और मोटा बहुत बहुत था। फिर में मोंटी के पास चली गयी और मैंने उसका लंड अपने एक हाथ में पकड़ लिया। यह सब देखकर समीर बोला कि यह रंडी तो अब काम से गयी, मैंने मोंटी के लंड पर एक किस किया और उसको धीरे धीरे अपने मुहं में पूरा भर लिया और इतने में हेमा के कूल्हों पर फटाक से एक चांटा पड़ा।
अब जितेन्द्र उससे बोला कि साली कुतिया यह लंड क्या तेरी माँ आकर चूसेगी? उसने समीर का लंड तुरंत अपने मुहं में भर लिया, उस समय राज और जितेन्द्र हमारी चूत और बूब्स को मसल रहे थे। फिर राज मुझसे बोला कि जितेन्द्र हमेशा रंडियां बहुत छांटकरकर लाता है, में उससे बोली कि कभी तुम हमें अपनी घरवाली बनाते हो तो कभी रंडी तो कभी कुतिया क्यों तुम ऐसा क्यों करते हो? तो समीर बोला कि कमीनी तू तो खुद ही तैयार है, लेकिन इस कुतिया को जरुर ठीक करना है, में बोली कि हेमा आज तेरा तो काम हो गया। फिर हम सभी एक साथ उस बेड पर आ गये, राज हेमा से पूछने लगा कि हेमा तुम्हे अपनी वो शर्त याद है या नहीं? हेमा बोली कि हाँ मुझे अच्छी तरह से सब कुछ याद है। फिर कहने लगा कि तो तू अब लंड लेने के लिए तैयार हो जा। फिर हेमा उससे बोली कि में तो कब से तैयार ही हूँ तुम बोलो कि वो कौन है जो एक झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत के अंदर डालेगा। तुम मेरी चूत को देखो यह तो एक है, में तुम चारों की छुट्टी कर दूंगी। फिर तभी राज बोला कि वाह यह हुई ना बात और अब मोंटी उसको नीचे लेटाकर हेमा को चूमने लगा और वो हेमा से बोला कि चल दिखा तू अपनी चूत का दम। दोस्तों ये कहानी आप GandiKhaniya डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
loading...

दोस्तों उस समय मोंटी का मोटा लंबा लंड खंबे की तरह तनकर खड़ा हुआ था, तो हेमा तुरंत उसके ऊपर बैठ गयी, जिसकी वजह से लंड अब उसकी चूत को छू रहा था। तो में उससे बोली कि हेमा रानी तेरी चूत तो अब गई काम से, तभी हेमा बोली कि चूत तो बनी है फटने के लिए। एक दिन सबकी चूत को फटना होता है आज मेरी फट जाएगी तो उससे मुझ पर क्या असर होगा? अब हम सभी वो खेल बड़े ध्यान से देख रहे थे। उसी समय समीर बोला कि अगर थोड़ा सा भी बाहर रहा ना तो तुझे भी हम सभी की कुतिया बनना पड़ेगा, समीर ने उसके बूब्स पकड़े, जितेन्द्र बोला तैयार हो इतना कहकर जितेन्द्र ने उसकी कमर पकड़ी और हेमा ने लंड पर दवाब बनाया, जितेन्द्र ने झटके से उसकी कमर को नीचे किया जिसकी वजह से लंड सरसरता हुआ उसकी चूत के अंदर चला गया, लेकिन वो पूरा नहीं गया। फिर करीब दो इंच के करीब अब भी बाहर था, हेमा दर्द की वजह से ज़ोर से चीख पड़ी आईईई ऊईईई माँ में मर गई। मोंटी पहली बार बोला कि साली कुतिया अब तुझे माँ याद आ गई ना, उस समय हेमा की आखों में पानी था और वो उठना चाह रही थी, लेकिन जितेन्द्र ने उसकी कमर को बड़ी सख्ती से पकड़ रखा था। उसी समय राज मेरी तरफ इशारा करके हेमा से बोला कि देख तेरे से तो इस हरामजादी की चूत बड़ी ताकतवर है यह माँ की लौड़ी तो पिछली बार एक ही बार में पूरा लंड खा गयी। हेमा रानी अब तू भी कुसुम की तरह हमारी रंडी बनेगी। अब मोंटी ने अपने कुल्हे उचकाए जिसकी वजह से अब उसका पूरा लंड हेमा कि चूत में था और हेमा ने फिर से अपने मुहं से वो चीख की आवाज निकाली आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ माँ मेरी चूत फट गयी, कुत्ते तेरी माँ की चूत, अब तू मुझे छोड़ दे साले हरामी, अब तू अपने लंड को बाहर निकाल ले, मुझे बहुत दर्द हो रहा है।
दोस्तों वो उस दर्द की वजह से बिन पानी की मछली की तरह छटपटाने लगी थी और उसी समय समीर मेरे पास आ गया। वो मुझसे बोला कि साली रंडी तू इसकी चूत की चुदाई ही देखेगी या अपनी चूत में भी मेरे लंड लेकर चुदवाएगी या तेरी जगह अब तेरी माँ मुझसे चुदवाने आएगी। फिर में उससे बोली कि साले कुत्ते मेरी माँ नहीं में ही तुझसे अपनी चुदाई करवा लूंगी। में भी तो देखूं कि तेरे लंड में कितनी ताकत और जोश है? तो यह बात सुनकर जितेन्द्र ने तुरंत मुझे कुतिया की स्टाइल में किया और मेरे पीछे से उसने अपना मोटा काला लंड मेरी कामुक रसभरी गीली चूत के खुले पर लगा दिया और उसने एक कसकर धक्का मार दिया, जिसकी वजह से मेरे मुहं से उफफ्फ्फ्फ़ ऊऊईईईईईईइ माँ मर गई निकला और तभी समीर मेरे मुहं की तरफ आ गया। वो मुझसे बोला की साली छिनाल तू पहले भी इतनी बार चुद चुकी है और अब भी साली तू रंडियों की तरह हमे अपने नखरे दिखाती है। फिर मैंने उसको जवाब दिया कि जब में तुम्हारी पूरी रंडी बन ही गयी हूँ तो अब में रंडियों की तरह ही करूंगी, उसी समय उसने मेरे बाल पकड़े और मेरे मुहं में जबरदस्ती उसने अपने लंड को ठूंस दिया जो सीधा जाकर मेरे हलक में उतरकर मेरी सांसो को रोकने लगा था। मेरी आखों से आंसू तक बाहर आकर बहने लगे थे। अब मोंटी बोला कि साली कुतिया रानी की तरह तू मेरे लंड पर बैठी रहेगी या रंडी की तरह कुछ कसरत भी करेगी? हेमा को भी अब इस खेल में दर्द की जगह मज़ा आ रहा था।
फिर वो कहने लगी कि में तो इस लंड पर सारी उम्र कुतिया की तरह डांस करना चाहती हूँ। कोई मुझे नचाने वाला तो हो। तभी राज बोला कि वाह अब तो देखो इस छिनाल को यह कुतिया बनने को भी तैयार है मादरचोद साली रंडी तब तो यह बड़ा नखरा दिखा रही थी। अब हेमा लंड के ऊपर उठक बैठक करने लगी थी और इधर मेरी चूत में भी तेज गति के साथ बड़े दमदार धक्के लग रहे थे और उसी समय राज ने हेमा के कूल्हों पर थप्पड़ मारते हुए कहा कि साली मेरा लंड तो तेरी गांड का दीवाना है साली जब तू अपने कूल्हों को मटका मटकाकर डांस कर रही थी तभी से यह मेरा लंड बेकाबू हुआ पड़ा है। अब मोंटी ने हेमा को अपने ऊपर गिरा लिया, जिसकी वजह से हेमा के कूल्हे बाहर की तरफ निकलकर उभर गये, हेमा उनका मतलब समझकर बोली कि नहीं गांड में नहीं, वहां पर मुझे बहुत दर्द होगा में एक साथ दोनों लंड को कैसे ले सकती हूँ, तुम रहने दो, मेरी चूत को चाहे जैसे मार लो, लेकिन तुम मेरी इस कुंवारी गांड को छोड़ दो, मुझे नहीं मरवानी तुमसे अपनी गांड, लेकिन दोस्तों वहां पर उसकी वो बातें कौन सुनने वाला था। सभी को बस मज़े लेने की एक होड़ सी लग रही थी, फिर चाहे उसके लिए उन्हें कुछ भी कैसे भी करना पड़े, उनको दर्द से कोई भी मतलब नहीं था। अब राज ने बिना देर किए अपना उसकी लंड गांड के छेद पर लगा दिया और उसने एक ज़ोर का धक्का मार दिया, जिसकी वजह से लंड अब गांड के अंदर जाने लगा था। फिर हेमा दर्द से चीखती हुई सिसकियाँ लेते हुए बोल पड़ी आह्ह्ह्ह उफ्फ्फफ्फ्फ़ आईईईई तुमने मुझे आज मार ही दिया साले भड़वे तूने तो आज मेरी गांड को भी फाड़ दिया उफ्फ्फफ्फ्फ़ अब बस भी कर प्लीज इसको बाहर निकाल ले, में इस दर्द से मर ही जाउंगी मेरी गांड में जलन हो रही है हरामी कुत्ते क्या तुझे मेरे दर्द दिखाई और मेरी यह आवाजे सुनाई नहीं देती कि में तुझसे क्या करने के लिए कह रही हूँ।
दोस्तों उसकी बातों का किसी के भी ऊपर कोई भी असर नहीं पड़ा, जिसकी वजह से अब हेमा के दोनों तरफ से धक्के पड़ रहे थे। में पास में लगे एक कांच में हेमा की और अपनी मजेदार दमदार चुदाई को देख रही थी और उसी समय मैंने समीर के कान में कहा कि देख ले इस कुतिया को यह हरामजादी कैसे मज़े से चुद रही है, इतनी देर से बस नाटक ही किए जा रही थी। फिर उसने मेरे गाल पर एक किस करते हुए मुझसे कहा कि अब में तुम्हे भी पूरी तरह से हरामजादी बना देता हूँ क्यों तुम्हे कैसा लगेगा? में उसके मुहं से वो बात सुनकर मुस्कुराने लगी और मैंने अपना सर हिलाकर कहा हाँ तुम अपनी इस हरामजादी को जिस तरह भी काम में लेना चाहो ले सकते हो, क्योंकि मेरे राजा में तो पहले से ही तुम्हारे लंड की गुलाम बन चुकी हूँ। अब समीर नीचे लेट गया और वो हंसते हुए मुझसे बोला कि आजा तुझे भी हरामजादी बनाए, जितेन्द्र ने मेरा मुहं अपनी तरफ किया और वो बोला कि चल कुतिया ले तू मेरा लंड अपनी गांड में डाल ले। फिर उसने कहने पर मैंने उसका लंड अपने एक हाथ से पकड़कर अपनी गांड के छेद पर लगा लिया और फिर में धीरे धीरे उस पर बैठती चली गयी। ऐसा करने से मुझे दर्द तो बहुत हुआ और मेरे मुहं से आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ की आवाज भी निकली, लेकिन में उस समय जोश में होने की वजह से बहुत गरम थी, इसलिए में उस दर्द को पी गयी और उसके बाद में एक दो बार ऊपर नीचे हुई जिसकी वजह से लंड अंदर बाहर हुआ। अब जितेन्द्र ने मुझे समीर के ऊपर उल्टा लेटा दिया और वो मेरी चूत में अपने लंड को डालने लगा। में उससे बोली कि प्लीज तुम थोड़ा ध्यानपूर्वक आराम से डालना में कोई लकड़ी की नहीं बनी हूँ मुझे भी दर्द तो होता ही है।
फिर वो ज़ोर से हंसते हुए बोला कि देखो इस हरामजादी को 900 चूहे खाकर यह बिल्ली हज़ को चली है और अब मेरे भी हेमा की तरह चूत और गांड में लगातार तेज गती से झटके लग रहे थे, उस कमरे में उनकी गालियाँ, हमारी सिसकियों की आवाज और ठप ठप फच फच की आवाज़ आ रही थी और कभी-कभी कूल्हों पर थप्पड़ की आवाज़ भी आती। अब हेमा ज़ोर से चीख रही थी वो कहने लगी कि सालों तुमने मुझे आज अपनी रंडी बनाया है और ज़ोर से करो तुम दो दो अकेली लड़कियों के साथ उनकी चुदाई करने में लगे हुए हो। आज तुम फाड़ दो मेरी इस चूत और गांड को भी वो मोंटी को चूम रही थी और कह रही थी कि साले कुत्ते थोड़ा ज़ोर से कर। अब समीर बोला कि तुम हमे गालियाँ नहीं दोगी, में बोली कि हम अपने राजा को गाली कैसे दे सकती है। मुझे तो सुनने में या खुद को देने में ज्यादा मज़ा आता है मेरे पास है ही क्या जो में इतना घमंड करूं तुम्हारे पास तो इतने प्यारे लंड है, जो मर्ज़ी चाहो तुम हमे कह सकते हो। अब जोश में आकर यह ले साली कुतिया ले समीर और जितेन्द्र ने अपने धक्को की स्पीड को पहले से ज्यादा बढ़ा दिया। वो मुझसे बोले कि तू सही में बड़ी मस्त चीज़ है।
दोस्तों में उस समय बहुत गरम थी, इसलिए में उनको बोल रही थी उह्ह्ह्ह हाँ तुम आज अपनी इस हरामजादी की चूत को फाड़ दो, जितेन्द्र आज तुम मुझे चोद चोदकर मार डालो, में तुम्हारे लंड की गुलाम हूँ तुम तेज धक्के देकर चोदो मुझे और तुम हर रोज़ ऐसे ही चोदना, जब तुमने हमें अपनी रांड बनाया है तो अपनी रांड का बेंड बजाने में अपनी तरफ से कोई भी कसर तुम नहीं छोड़ना, तुम मेरी चूत को फाड़ दो, यह साली रात में मुझे बहुत दुखी करती है आह्ह्ह्ह तुम आज अपनी इस हरामजादी, कुतिया को इतना जमकर चोदो कि यह तुम बार बार तुम्हारे ही पास आए ज़ोर से में तुम्हारी रंडी हूँ। जितेन्द्र आज मेरी चूत को तुम भर दो अपने वीर्य से, में उसको अपने अंदर लेकर महसूस करना चाहित हूँ।
अब हेमा बोली कि तू क्या पागल है? में उससे बोली कि मैंने पहले से गर्भनिरोधक गोली खा रखी है, मुझे पता था कि आज रात को मेरे राजा मुझे एक रंडी की तरह चोदेंगे पूरी हरामजादी बनायेंगे, हाँ ज़ोर से धक्के मारो में आज सुबह से ही बहुत तड़प रही हूँ हाँ और ज़ोर से ज़ोर से। अब समीर ने अपना वीर्य मेरी गांड में और जितेन्द्र ने चूत में निकाल दिया और राज ने हेमा की गांड से अपने लंड को बाहर निकाला और मेरे मुहं पर वो अपने वीर्य को निकालने लगा। उस समय हेमा खड़ी हो गई और वो मोंटी के लंड के अपने मुहं में लेकर उसको चूस चूसकर उका पूरा वीर्य पी गयी। अब में उठी तो मेरी जांघो पर मेरा और उनका वीर्य बहने लगा। मेरे मुहं पर भी वीर्य लगा हुआ था, उसी समय मोंटी बोला कि इतनी गरम लड़की में अपनी पूरी जिंदगी में पहली बार देख रहा हूँ। फिर में मोंटी के पास चली गई में उससे बोली कि तुम्हारा लंड इतना प्यारा है कि कोई भी लड़की इसको देखकर ही इसकी गुलाम बन जाए।
फिर उन चारों ने हम दोनों को अपनी गोद में उठाया और वो हमे बाथरूम में ले गये और सबसे पहले उन चारों ने मुझे नीचे बैठाकर अपने पेशाब से नहलाया और फिर उसके बाद उन्होंने अपने अपने लंड मुझसे साफ करवाए। फिर उसके बाद उन्होंने कुछ देर बाद ठीक वैसा ही हेमा के साथ भी किया और फिर उसके बाद पानी से नहलाकर हम दोनों को वो वापस बेड पर ले आए और उस रात को अगली सुबह तक हमारी चुदाई वैसे ही रुक रुककर चलती रही। वो सभी हमें बदल बदलकर हर बार अलग अलग स्टाइल से चुदाई का मस्त मज़ा दे रहे थे, जिसकी वजह से हमे बहुत मस्त मजेदार मज़ा आ गया। दोस्तों यह थी मेरी अपनी सहेली और उन चारों लड़को के साथ चुदाई की मस्त मज़ेदार कहानी, जिसमें हमने पूरी रात बड़े मज़े लिए और उन सबने हम दोनों को चोद चोदकर रंडी बनाने के साथ साथ पूरी तरह से संतुष्ट भी किया और हम दोनों ने भी उसका चुदाई करते समय पूरा पूरा साथ दिया, दोस्तों में उम्मीद करती हूँ कि यह आप सभी को जरुर पसंद आई होगी ।।

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Kahaniya ,  ahindisexstories.com


loading...

loading...

loading...

भाभी के साथ वो रंगीली रात -Hindi Sex Stories

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Kahaniya ,  ahindisexstories.com

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रोहित है। में दिल्ली का रहने वाला हूँ और मेरी उम्र 26 साल है। दोस्तों में पिछले कुछ सालों से ahindisexstories डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियों को पढ़ता आ रहा हूँ। मैंने अब तक बहुत सारी कहानियों को पढ़ा जो मुझे अच्छी लगी, लेकिन आज में पहली बार अपनी भी एक सच्ची चुदाई की घटना मेरा सेक्स अनुभव आज आप लोगों के लिए लेकर आया हूँ जिसको लिखकर आप तक पहुँचाने में मैंने बहुत मेहनत की है तो आज आप उसको सुनिए और मुझे इसके बारे में बताना ना भूले। दोस्तों आप सभी को आज अपनी कहानी सुनाने से पहले में अपने परिवार का परिचय आप लोगों से करवा देता हूँ। मेरे परिवार में पापा मम्मी और हम दो भाई रहते है, मेरे पापा मम्मी और मेरा भाई गाँव में रहते है और में अकेला दिल्ली में अपना बिजनेस करता हूँ। में दिल्ली में जहाँ पर रहता हूँ वहां पर नीचे वाली मंजिल पर मेरे दूर के रिश्तेदारी में मेरे एक भैया और भाभी रहते है। उन दोनों की शादी को पूरा एक साल हो चुका है, लेकिन अभी तक उनके कोई बच्चा नहीं है। मेरे भैया एक प्राइवेट कंपनी में अच्छी पोस्ट पर नौकरी करते है।

मेरी भाभी का नाम मेघा है और वो बहुत ही सुंदर है। उनको देखकर हर बार मेरा लंड खड़ा हो जाता है, क्योंकि वो बहुत ही सेक्सी है और वो क्या मस्त लावजवाब दिखती है? और उनके बूब्स बड़े आकार के है जिसका आकार 34-28-34 है वो मुझे बहुत ही अच्छी लगती है। इसलिए मेरी बस एक ही इच्छा थी कि में कैसे भी उनकी पूरी रात जमकर बहुत मस्त चुदाई करूं और उनके साथ बड़े मज़े करूं, लेकिन मेरे हाथ ऐसा कोई भी मौका नहीं लग रहा था। दोस्तों मेरे भैया की भाभी से बहुत अच्छी जमती थी, इसलिए वो दोनों बहुत खुश रहते थे और में कभी कभी भाभी से मज़ाक भी कर लिया करता था तो भाभी भी हंसकर मुझसे मज़ाक कर लिया करती थी, इसलिए भाभी की चुदाई करने का ख्याल मेरे दिल में हमेशा आया करता था। अब तो मेरी हमेशा बस यही कोशिश रहती थी कि में कैसे अपने इस सपने को पूरा करूं में यही बातें सोचता रहता था।
loading...

फिर शायद भगवान को भी कुछ दिनों बाद मुझ पर तरस आ ही गया। उस समय भैया को अपनी कंपनी के किसी जरूरी काम से दस दिनों के लिए इंदौर जाना पड़ा और भाभी वो बात सुनकर बहुत ही उदास थी, क्योंकि भैया ने पिछले एक साल के इस समय में भाभी को कभी भी अकेला नहीं छोड़ा था और फिर भैया ने भाभी को कहा कि अगर तुम्हे किसी भी चीज की कोई ज़रूरत हो तो तुम रोहित को बुला लेना और उन्होंने मुझसे कहा कि तुम अपनी भाभी का पूरा ख़याल रखना और हम दोनों से यह बात कहकर वो दूसरे दिन सुबह की पहली फ्लाइट से ही इंदौर के लिए चले गये। फिर में मन ही मन बहुत ही खुश था कि चलो शायद मुझे कोई अच्छा मौका मिल जाए में सुबह दस बजे भाभी के पास चला गया और मैंने उनसे कहा कि भाभी आपको कोई काम हो तो मुझे बता दो में वापस आते समय कर दूंगा। तो भाभी ने हल्के से मुस्कुराकर कहा कि कोई काम नहीं है, लेकिन अगर जब मुझे तुमसे कोई काम होगा तब में तुम्हे वो जरुर बता दूंगी।

फिर मैंने उनसे कहा कि हाँ ठीक है भाभी और में अपने काम पर चला गया, लेकिन वहां पर किसी भी काम में मेरा बिल्कुल भी मन नहीं लग रहा था। मुझे तो हर तरफ सिर्फ़ मेघा भाभी ही नज़र आ रही थी। में शाम को जल्दी घर आ गया और भाभी के पास चला गया। फिर भाभी ने मुझसे पूछा कि तुम आज इतनी जल्दी कैसे आ गए? मैंने उनसे कहा कि भाभी आज मेरी तबीयत कुछ ठीक नहीं लग रही थी, इसलिए में जल्दी घर चला आया। फिर उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या हुआ? तो मैंने उनसे कहा कि मेरे सर में दर्द है तो भाभी ने कहा कि में दबा देती हूँ। अब मैंने कहा कि नहीं भाभी अपने आप ठीक हो जाएगा, लेकिन भाभी नहीं मानी और वो मेरा सर दबाने लगी। दोस्तों उनके नरम मुलायम हाथ मेरे माथे पर छूते ही मेरे पूरे जिस्म में एक अजीब सी सनसनी होने लगी और में मदहोश होता जा रहा था। मैंने किसी तरह अपने पर कंट्रोल किया और अपने घर आ गया। फिर रात को भाभी मेरे पास आ गई और उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हे खाना मेरे साथ ही खाना है। दोस्तों अंधे को क्या चाहिए दो आखें जो मुझे भगवान खुद दे रहे थे, इसलिए मैंने मन ही मन बहुत खुश होकर कहा कि हाँ ठीक है भाभी, आप चलो में अभी आता हूँ और फिर में मुहं हाथ धोकर भाभी के यहाँ पर चला गया और तब मैंने देखा कि भाभी उस समय किचन में थी और वो खाना परोसने की तैयारी कर रही थी।

फिर मैंने कहा कि में आ गया हूँ तो उन्होंने मेरी तरफ मुस्कुराकर मुझे बैठने का इशारा करके वो मेरे लिए भी खाना लगाने लगी और फिर हम दोनों ने एक साथ में खाना खाया। फिर उसके बाद हम दोनों इधर उधर की बातें करने लगे थे। तभी भाभी ने अचानक मुझसे पूछा कि रोहित क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है? तो में उनकी इस बात को सुनकर थोड़ा सा चकित जरुर हुआ, लेकिन मैंने उस पर इतना ध्यान नहीं दिया और मैंने उनसे कहा कि नहीं भाभी मुझे अपने काम से ही समय नहीं मिलता तो मेरी कोई गर्लफ्रेंड कहाँ से होगी? तो भाभी मेरे मुहं से यह बात सुनकर हंसने लगी और वो मुझे एक मादक मुस्कान देकर उठकर दोबारा किचन में चली गई। अब में अपने लंड से बड़ा परेशान था, क्योंकि वो अब पूरा तनकर खड़ा हो चुका था और उसने सांप की तरह फुकार मारना भी शुरू कर दिया था। अब मैंने किचन में जाकर भाभी को बोला कि भाभी में अब सोने जा रहा हूँ आपको मुझसे कोई काम हो तो आप मुझे बता दो। फिर भाभी ने मुझसे कहा कि मुझे कोई भी काम नहीं है, तुम जाकर सो जाओ और फिर में अपने घर पर जाकर भाभी के नाम से मुठ मारकर सो गया।
loading...

फिर दूसरे दिन सुबह मैंने भाभी से पूछा कि भाभी आपको कुछ काम हो तो बता दो, में जा रहा हूँ, भाभी ने कहा अभी तो मुझे कुछ नहीं है, लेकिन आज शाम को तुम जल्दी आ सकते हो तो आ जाना, क्योंकि मुझे बाजार जाना है। अब मैंने उनसे कहा कि हाँ ठीक है, में आ जाऊंगा और फिर में अपने काम पर चला गया। दो दिनों से मेरा किसी भी काम में मन ही नहीं लग रहा था। मुझे बार बार भाभी का ही ख्याल आ रहा था, क्योंकि भाभी थी ही ऐसी चीज़ जो किसी को भी पागल कर सकती है। फिर में शाम को जल्दी अपने घर आ गया और फ्रेश होकर में भाभी के पास जा पहुंचा। भाभी ने मुझसे पूछा कि तुम कब आए? तो मैंने कहा कि में अभी ही आया हूँ क्यों आपको बाजार जाना है ना? तो भाभी ने कहा कि हाँ बस आप 15 मिनट बैठो में अभी तैयार होकर आती हूँ। फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है और फिर भाभी तैयार होने दूसरे कमरे में चली गये।

 में भी उठकर भाभी के कमरे के अंदर झांकने की कोशिश करने लगा। दरवाजे के छेद से मैंने भाभी को उनकी साड़ी उतारते हुए देखा और उसके बाद भाभी ने अपना ब्लाउज उतार दिया। दोस्तों वो क्या मस्त द्रश्य था, में आप लोगो को किसी भी शब्दों में बता नहीं सकता कि भाभी के बड़े बड़े बूब्स उनकी ब्रा में केद होकर ऐसे लग रहे थे कि अभी वो उनकी उस ब्रा को फाड़कर बाहर आ जायेंगे। उनको भाभी ने जबरदस्ती उसमे ठूंस रखा था, जिसको देखकर मेरा लंड खड़ा होने लगा था। अब मेरा मन तो कर रहा था कि में अभी जाकर भाभी को अपनी बाहों में ले लूँ और उनको चूम लूँ। उनके बूब्स के साथ खेलूं, लेकिन में मजबूर था। फिर भाभी ने नीले रंग का ब्लाउज पहना और उसी रंग की साड़ी पहनी वो क्या मस्त कयामत लग रही थी और अब मैंने देखा कि भाभी बाहर आ रही है तो में हड़बड़ा गया और जल्दीबाजी में दरवाजे से लगा वो स्टूल नीचे गिर गया उसकी बहुत तेज आवाज हुई थी। अब में डर गया कि आज मेरी यह चोरी पकड़ी गई और अगर भाभी ने मेरी इस हरकत को भैया को बता दिया तो मेरा क्या हाल होगा? भाभी वो आवाज़ सुनकर जल्दी से बाहर आई और उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या हुआ यह कैसी आवाज थी? तो मैंने कहा कि कुछ नहीं, में डर गया मैंने सोचा कि शायद आज मेरी चोरी पकड़ी गई मुझे बहुत डर लग रहा था, लेकिन भाभी ने मुझसे कुछ नहीं कहा और वो मेरी तरफ मुस्कुराने लगी। फिर उसके बाद में और भाभी कार से बाज़ार आ गए और भाभी ने कुछ जरूरी सामान खरीद लिया और उन्होंने मुझसे कहा कि चलो अब हम आगे चलते है, मुझे और भी सामान लेना है, मैंने कहा कि हाँ ठीक है और मैंने अपनी कार को स्टार्ट कर दिया। हम आगे बढ़े थोड़ी आगे आने के बाद भाभी ने कहा कि कार को साइड में कर लो, मुझे यहीं से सामान लेना है।

फिर मैंने अपनी कार को उनके कहने पर तुरंत रोककर एक तरफ लगा दिया। अब भाभी ने मुझसे कहा कि चलो और में भाभी के साथ चल पड़ा भाभी एक लेडिस दुकान में गई और में उसके बाहर ही रुककर खड़ा हो गया। तब भाभी ने मुझसे कहा कि तुम भी अंदर चलो और में भी भाभी के साथ उस दुकान में चला गया। तब मैंने देखा कि वहां पर से भाभी ने एक सेक्सी मेक्सी ली और कुछ हॉट अंडरगार्मेंट्स जिन्हे देखकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया था और भाभी मुझे देखकर मुस्कुरा रही थी और अब मेरी हालत तो बहुत खराब हो रही थी। फिर हम दोनों वापस घर आ गए तभी भैया का फोन आ गया तब भाभी ने उनसे फोन पर कहा कि मुझे कल रात को घर पर अकेले में बहुत डर लग रहा था बताओ अब में क्या करूं? भैया ने कहा कि तुम चाहो तो रोहित को हमारे घर पर ही सुला लेना और बहुत देर तक बातें होने के बाद भाभी ने फोन बंद किया। उसके बाद उन्होंने मुझसे कहा कि तुम्हे आज से यहीं पर मेरे साथ सोना है, क्योंकि मुझे रात को अकेले सोने में बहुत डर लगता है। दोस्तों मुझसे यह बात कहकर वो मुस्कुराने लगी, लेकिन में अभी तक उनकी मुस्कुराहट का वो राज नहीं समझ सका था, जिसको में बाद में धीरे धीरे बहुत अच्छी तरह से समझ चुका था। दोस्तों ये कहानी आप GandiKhaniya डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
loading...

अब मैंने उनसे कहा कि हाँ ठीक है भाभी और रात को हम दोनों ने खाना खाया और उसके बाद हम दोनों टीवी देखने लगे। फिर करीब 11 बजे तक हमने साथ में बैठकर टीवी देखी और उसके बाद मैंने उनसे कहा कि अब में सोने जा रहा हूँ तो भाभी ने टीवी को बंद कर दिया और में हॉल में ही सोफे पर सोने की कोशिश करने लगा, लेकिन दोस्तों सच कहूँ तो मुझे भाभी का वो मुस्कुराने का अंदाज़ सोच सोचकर नींद ही नहीं आ रही थी और रात के एक बजे के आसपास भाभी हॉल में आई तो में भाभी को देखता ही रह गया, क्योंकि भाभी ने उस समय वो नई वाली मेक्सी पहन रखी थी जो बहुत ही सेक्सी थी, उसमें से भाभी के बूब्स मुझे साफ साफ नज़र आ रहे थे। अब भाभी ने मुझसे कहा कि मुझे डर लग रहा है, तुम मेरे कमरे में मेरे पास सो जाओ। फिर उनके मुहं से वो बात सुनकर मेरे मन में एक आनंद की लहर दौड़ने लगी और मैंने मन ही मन सोचा कि शायद भगवान को मुझ पर अब बहुत तरस आ गया है, इसलिए वो धीरे धीरे मेरे एक एक काम वो खुद आगे बढ़कर करवा रहा है और अब में बहुत खुश होकर भाभी के साथ उनके कमरे में चला गया। फिर में और भाभी दोनों ही उनके बेड पर लेट गए और बातें करने लगे फिर हम सो गये और करीब तीन बजे मैंने महसूस किया कि कोई हाथ है जो मेरे लंड को छू रहा है। में तुरंत समझ गया और में सोने का नाटक करने लगा। मेरा लंड तनकर कुतुब मीनार की तरह हो गया था और में मन ही मन इतना खुश हो गया था कि जैसे कि मुझे आज कुबेर का खजाना मिल गया था। में देखना चाहता था कि भाभी अब इसके आगे क्या करती है इसलिए में चुप रहा।

फिर मैंने महसूस किया कि भाभी एक हाथ से मेरे लंड को सहला रही है और दूसरे हाथ से अपनी चूत को सहला रही है। में तो पागल हो गया था और मेरा मन तो कर रहा था कि भाभी को पकड़कर तुरंत ही उनकी चुदाई कर दूँ। मैंने सोचा कि भाभी ही आगे बढ़ रही है तो में भी चुप ही रहूँ। फिर भाभी ने अब मेरे लंड से खेलना शुरू कर दिया और अब अपने एक हाथ से उन्होंने अपनी ही चूत को भी सहलाना शुरू कर दिया और उसके भाभी धीरे से मेरे पैरों की तरफ बढ़ी और फिर वो मेरा लंड को अपने मुहं में लेकर उसको सक करने लगी, जिसकी वजह से अब मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा था और इसलिए मैंने जागने का नाटक किया। फिर मैंने उनसे पूछा कि भाभी यह आप क्या कर रही है? यह सब अच्छी बात नहीं है, लेकिन तभी भाभी ने मुझसे बिना कुछ बोले मुझे अपनी छाती से लगा लिया और कहा कि रोहित में तुम से कई बार अपने सपनों में चुदाई करवा चुकी हूँ, लेकिन तुम मुझे आज सच में अच्छी तरह से रगड़कर चोद दो और मुझे अपना बना लो। में कब से इस दिन का इंतजार कर रही थी। अब मैंने उनसे कहा कि भाभी यह सब बहुत ग़लत होगा और इसके बारे में अगर भैया को पता चल गया तो क्या होगा? हमारे सामने बहुत बड़ी समस्या खड़ी हो जाएगी, तब हम क्या करेंगे? तो भाभी ने कहा कि वो सब नहीं होगा तुम्हे इतना आगे सोचने की कोई जरूरत नहीं है, क्योंकि उन्हे हमारे इस काम के बारे में बिल्कुल भी पता नहीं चलेगा, तुम तो बस में तुमसे जैसा कहूँ वैसा करते चले जाओ। दोस्तों आज तो मेरे मन की हर एक मुराद पूरी हो गई थी, क्योंकि वो खुद आगे होकर मुझसे अपनी चुदाई के लिए कह रही थी, जिस काम को में भी बहुत समय से करना चाहता था और इसलिए में अब कहाँ पीछे रहने वाला था? मैंने तुरंत भाभी को अपनी बाहों में भर लिया और मैंने भाभी के होंठो से अपने होंठ लगा दिए और में उन्हे चूसने लगा। उनके पूरे जिस्म पर हाथ घुमाने लगा।
फिर थोड़ी ही देर के बाद मुझे महसूस होने लगा कि भाभी अब गरम होने लगी थी और उन्होंने मेरे लोवर को भी उतार दिया था। उसके बाद बनियान को भी उतार फेंका, जिसकी वजह से अब में भाभी के सामने बिल्कुल नंगा था। मैंने उनको कहा कि भाभी तुम मेरे कपड़े उतार रही हो और तुम खुद तो अब तक कपड़े पहने हो। तब भाभी ने मुझसे कहा कि तुम्हे किसने रोका है तुम खुद ही उतार दो? उनका यह जवाब सुनकर मैंने जल्दी से आगे बढ़कर सबसे पहले भाभी की मेक्सी को उसके बाद ब्रा को और फिर पेंटी को भी उतार दिया, जिसकी वजह से अब भाभी और में एकदम नंगे थे और में उनका वो गोरा सेक्सी जिस्म देखकर बिल्कुल पागल हो गया था और अब में किसी भूखे शेर की तरह भाभी के बूब्स को चूसने लगा और अपने एक हाथ से भाभी के निप्पल से खेल भी रहा था और उनका रस निचोड़ रहा था, जिसकी वजह से भाभी बहुत गरम हो रही थी और भाभी भी अपने एक हाथ से मेरे लंड को सहला रही थी। फिर मैंने अपना एक हाथ भाभी की गरम चिकनी चूत पर रख दिया और में चूत को सहलाने लगा। फिर मैंने महसूस किया कि भाभी की चूत अब तक बहुत गीली हो चुकी थी और उनके मुहं से उफूफ़्फफ्फ़ आह्ह्हह्ह की आवाज़े आ रही थी, जिसको सुनकर में और भी ज्यादा उत्तेजित हो रहा था।
अब भाभी की साँसे गरम हो रही थी वो बिल्कुल मदहोश होने लगी थी।

फिर तभी भाभी ने मेरा लंड अपने मुहं में ले लिया और चूसना शुरू कर दिया, वाह क्या मस्त तरीके से वो मेरा लंड चूस रही थी, जिसकी वजह से भी मदहोश हो चुका था। मैंने भाभी से कहा कि भाभी मुझे भी अब आपकी चूत का रस पीना है। फिर भाभी ने कहा कि हाँ ठीक है चूस लो, वैसे भी यह आज से तुम्हारी ही है और फिर हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गये। में भाभी की चूत को चाट रहा था और वो मेरा लंड, जिसकी वजह से भाभी बड़ी ही मदहोश हो चुकी थी। वो बहुत जोश में थी। में अब भाभी की चूत में अपनी जीभ को डालकर अंदर बाहर कर रहा था, जिसकी वजह से भैया ऊफफफफफ्फ़ में मर गई और ज़ोर से रोहित मेरी जान आहहहहहहह में मर गई रे आईईईईईईईइ कह रही थी। इन कामों के बीच मैंने महसूस किया कि भाभी दो बार झड़ चुकी थी और में था कि अब तक झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था। फिर भाभी ने मुझसे कहा कि रोहित अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता। तुम यह लंड प्लीज जल्दी से मेरी चूत में डाल दो, नहीं तो में पागल हो जाउंगी और भाभी ने कहा कि प्लीज तुम तेल की बोतल ले आना, तुम्हारा लंड उनसे ज्यादा बड़ा है, में इसका दर्द बर्दाश्त नहीं कर सकती और इसको पहले तेल लगाकर चिकना कर लो। फिर मैंने उनसे पूछा कि क्यों भाभी भैया के लंड का क्या आकार है? तो भाभी ने कहा कि उनका तो बस चार इंच का है और उनका तुम्हारे लंड से पतला भी है।
अब में उनके मुहं से यह बात सुनकर बहुत खुश खुश हो गया और मैंने उनसे कहा कि तेल की ज़रूरत नहीं है, में बहुत धीरे से ही करूंगा और भाभी ने कहा कि ठीक है जैसा तुम ठीक समझो, कर लो, लेकिन प्लीज अब जल्दी करो में भाभी के ऊपर आ गया और भाभी के बूब्स को मसलने लगा और पीने लगा। भाभी भी पागल हुई जा रही थी और आवाज़ निकाल रही थी अहहहहह मेरी जान जल्दी करो अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा। में भी तैयार होकर भाभी की जाँघो के बीच आ गया और भाभी की चूत बिल्कुल साफ थी। फिर मैंने भाभी की गांड के नीचे तकिया लगा, दिया जिससे कि भाभी की चूत ऊपर आ गई और मेरे लंड को चुदाई का न्योता देने लगी, मैंने जैसे ही लंड को भाभी की चूत के मुहं पर सटाया तो भाभी बोल पड़ी कि जल्दी रोहित जल्दी करो।
loading...

अब मैंने पहले लंड से भाभी की चूत को रगड़ा और फिर एक ही झटके में मैंने अपना पूरा लंड भाभी की चूत में डाल दिया। भाभी चिल्ला पड़ी आह्ह्ह्हहहह ऊईईइईईई माँ मर गई, यह तुमने क्या किया, मुझे बहुत दर्द हो रहा है, बाहर निकालो प्लीज। फिर मैंने कहा कि भाभी बस दो मिनट में सब कुछ ठीक हो जाएगा आप थोड़ी शांति रखो और में भाभी को धीरे धीरे धक्के लगाने लगा, जिसकी वजह से अब भाभी को भी अब मज़ा आने लगा था और वो अपने मुहं से अहहहह उफुफ्फुफफुफ़्फुऊऊ की आवाज़े निकाल रही थी। में भाभी को लगातार धक्के लगाता जा रहा था, लेकिन कुछ देर बाद भाभी ने मुझसे कहा कि में अब झड़ने वाली हूँ। मैंने कहा अभी मेरा इरादा नहीं है, में भाभी को 15 मिनट तक लगातार धक्के देकर चोदता रहा और इस बीच भाभी दो बार झड़ चुकी थी और अब मेरा भी माल बाहर आने वाला था, इसलिए मैंने भाभी से कहा कि भाभी में भी अब झड़ने वाला हूँ। फिर भाभी ने कहा कि तुम मेरी चूत के अंदर ही झड़ जाओ और में झड़ गया। मैंने अपना पूरा वीर्य उनकी चूत की गहराईयों में डाल दिया। में अब थक चुका था, इसलिए में उसी तरह भाभी के ऊपर लेटा रहा और करीब दस मिनट तक हम ऐसे ही पड़े रहे, भाभी मुझसे बिल्कुल चिपकी हुई थी और में भाभी के निप्पल से खेल रहा था। फिर जब हम उठे तो टाइम देखा 4:45 हो चुके थे। हम दोनों एक साथ ही साथ उठकर बाथरूम गये और भाभी मेरे सामने ही पेशाब करने लगी तब मैंने देखा कि उनकी चूत से पहले ढेर सारा वीर्य निकला उसके बाद मूत बाहर आ गया और भाभी मुझे देखकर मुस्कुरा रही थी।

फिर थोड़ी देर बाद भाभी ने मुझसे कहा कि रोहित तुम मेरी चूत को चाटो और में भाभी के कहने पर उनकी गीली चूत को चाटने लगा और वो मेरा लंड चूसने लगी। फिर कुछ देर बाद हम दोनों एक बार फिर से चुदाई के लिए तैयार हो गये और हमने फिर से सेक्स के मज़े लिए, लेकिन इस बार में भाभी को पूरे 35 मिनट तक चोदता रहा और भाभी तीन बार झड़ चुकी थी। अब में भी झड़ने ही वाला था और फिर मेरा भी वीर्य कुछ धक्कों के बाद निकल गया। दोस्तों मेरे भैया दस दिनों के लिए बाहर गये थे, इसलिए पूरे सात दिनों तक मैंने और भाभी बहुत जमकर चुदाई का मज़ा लेते रहे और फिर भैया भी आ गये जिसके बाद हमारी चुदाई का वो सिलसिला अब बंद हो गया और उसके बाद मुझे और भाभी को कोई भी ऐसा मौका नहीं मिला जिसका हम फायदा उठाकर चुदाई का मज़ा ले सके ।।
loading...

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Khaniya

Hindi Sex Stories, Indian Sex Stories, Hindi Sex Kahani, Desi Chudai Kahani, Free Sexy Adult Story, New Hindi Sex Story,muslim sex,indian sex,pakistani sex , Mastram , gandikhaniya.com , Gandi Kahaniya ,  ahindisexstories.com